विकासनगर, [जेएनएन]: बोर्ड परीक्षा में नकलमुक्त परीक्षा के दावों का मखौल उड़ाया जा रहा है। शिक्षा विभाग के सारे दावे ध्वस्त हो रहे हैं। कैनाल रोड स्थित एक निजी स्कूल में मंगलवार को इंटर गणित की परीक्षा थी। जिसमें शिक्षक खुलेआम ब्लैक बोर्ड पर नकल कराते नजर आए। इतना ही नहीं, जब एक अन्य शिक्षक ने उन्हें रोकने की कोशिश की, तो नकल कराने वाले शिक्षक ने उनके साथ अभद्रता कर डाली।

नकल की शिकायत करने वाले शिक्षक की सूचना पर खंड शिक्षाधिकारी व पुलिस मौके पर पहुंची। इसके बाद जांच में नकल होती नहीं मिली। लेकिन, जब शिकायतकर्ता ने नकल की मोबाइल क्लिप दिखाई तो बीईओ ने मामले की जांच की बात कही।

विकासनगर के कैनाल बाइपास स्थित एक निजी स्कूल में बोर्ड परीक्षा का केंद्र बनाया गया है। परीक्षा केंद्र में ड्यूटी पर तैनात सरस्वती विद्यामंदिर इंटर कॉलेज बाबूगढ़ के शिक्षक प्रदीप कपिल ने खंड शिक्षाधिकारी से केंद्र पर नकल होने की शिकायत की थी। जिस पर खंड शिक्षाधिकारी ने केंद्र में शेष परीक्षा के सफल संचालन के लिए पर्यवेक्षक तैनात कर दिया था।

पर्यवेक्षक की मौजूदगी के बावजूद जब शिक्षक कपिल ने फिर से नकल होते देखी तो उन्होंने इसका विरोध किया। आरोप है कि इस पर अन्य शिक्षकों ने उनके साथ अभद्रता की। सूचना पर बीईओ व पुलिस मौके पर पहुंची। शिक्षक कपिल के अनुसार परीक्षा के दौरान बोर्ड पर प्रश्न पत्र हल कराया जा रहा था। 

परीक्षा केंद्र पर बतौर कक्ष निरीक्षक तैनात शिक्षक प्रदीप कपिल ने बताया कि नकल का विरोध करने पर अन्य कई कक्ष निरीक्षकों ने उनसे अभद्रता की। इसकी शिकायत उन्होंने पुलिस प्रशासन सहित विभागीय अधिकारियों से की। खंड शिक्षाधिकारी के परीक्षा केंद्र पहुंचने पर शिकायतकर्ता ने बताया कि मंगलवार को इंटर गणित परीक्षा के दौरान विद्यालय की कुछ शिक्षिकाएं छात्रों को खुलेआम नकल करा रही थीं। जबकि, इससे पूर्व कई बार ब्लैकबोर्ड पर प्रश्न पत्र हल कराए जा रहे थे।

हालांकि खंड शिक्षाधिकारी सहित उडऩ दस्ते के परीक्षा केंद्र पहुंचने पर नकल करते कोई नहीं पकड़ा गया। लेकिन, शिकायतकर्ता ने पूर्व में परीक्षा के दौरान नकल करते हुए बनाई गई वीडियो क्लिप दिखाई। क्लिप में कक्ष निरीक्षक बोर्ड पर प्रश्न प्रत्र हल कराने सहित पर्चियों से नकल कराते नजर आए। वीडियो क्लिप देखने के बाद खंड शिक्षाधिकारी वीपी सिंह ने कहा कि मामले की जांच कराई जाएगी। 

बीईओ ने बताया कि पूरे प्रकरण से उच्चाधिकारियों को अवगत करा दिया गया है। अग्रिम कार्रवाई उच्चाधिकारियों के निर्देश पर की जाएगी। वहीं पर्यवेक्षक के तौर पर तैनात राजकीय हाईस्कूल रुद्रपुर के प्रधानाचार्य मंगत सिंह नेगी का कहना है कि मोबाइल क्लिप उनकी तैनाती से पहले की हो सकती है, उनकी तैनाती के बाद कोई नकल नहीं हुई।

यह भी पढ़े: जेईई मेंस में 50 फीसद नंबर पर इंजीनियरिंग की सीट पक्की

यह भी पढ़ें: जेईई की तैयारी में इन बातों का रखें खास ख्याल

यह भी पढ़ें: लंदन के रायल कॉलेज ऑफ आर्ट में चमोली के दीपक का चयन

Posted By: Bhanu