नई दिल्ली, जेएनएन। जो लोग हाल ही में मैनेजमेंट में महत्वपूर्ण पदों पर पहुंचे हैं, उन्हें कुछ बातें गांठ बांध लेना जरूरी है। जो पहले से इस जिम्मेदारी को संभाल रहे हैं उनके लिए भी ये बातें महत्वपूर्ण हैं...

बहुत कुछ सीखना बाकी है

आपने तरक्की के लिए कड़ी मेहनत की है और आपके पास पर्याप्त अनुभव भी है, लेकिन आपको लग सकता है कि आपके पास किसी टीम का नेतृत्व करने के लिए पर्याप्त आत्मविश्वास नहीं है। इसके लिए दूसरों से सीखने के लिए हमेशा तैयार रहिए, यहां तक कि अपनी टीम से भी। दूसरों से सीखते रहेंगे, तो उसका फायदा आगे बढ़ने में मिलेगा।

संवाद रखें स्पष्ट

अपने प्रोजेक्ट के लक्ष्यों, प्राथमिकताओं और महत्वपूर्ण डेडलाइन के बारे में पूरी टीम को स्पष्ट रूप से सूचित करें। प्रभावी ढंग से कम्युनिकेशन बहुत जरूरी है ताकि आप अपनी टीम का भरोसा हासिल कर सकें। अपनी टीम को स्पष्ट दिशा निर्देश देना बहुत जरूरी है। साथ ही, उनके सवालों और मिलने वाले फीडबैक को भी महत्व दें।

नियमित रूप से लें राय

कई मौकों पर कर्मचारी कुछ भी बोलने से बचते हैं और तभी बात करते हैं, जब आप उनसे कुछ पूछें। सपोर्ट, ट्रेनिंग और रिसोर्स जैसे मुद्दों पर उनकी राय लेना किसी भी लीडर के लिए बहुत जरूरी है ताकि आपकी टीम को यह एहसास रहे कि आप उनकी जरूरतों को लेकर गंभीर हैं। उन्हें समस्या सुलझाने के लिए आइडिया भी जरूर दें।

अच्छे उदाहरण रखें सामने

आप जिस तरह का प्रोफेशनलिज्म और समर्पण दूसरों से चाहते हैं, वह पहले आपको खुद देने की पहल करनी होगी। अगर आप चाहते हैं कि आपकी टीम किसी भी चुनौती से भिड़ने के लिए तैयार रहे तो उसके लिए आपको उदाहरण प्रस्तुत करना होगा। अगर आप चाहते हैं कि कर्मचारी बिना गलती के काम करें, तो आपको अपने काम को भी दुबारा चेक करना चाहिए।

दूसरों के काम की करें प्रशंसा

अच्छा काम करने वाले कर्मचारियों को सभी के सामने पुरस्कृत करके आप टीम का आत्मविश्वास बढ़ाते हैं और पूरी टीम को बेहतर करने के लिए प्रेरित भी करते हैं। ऐसा करके आप भविष्य में टीम को बेहतर करने के लिए भी प्रेरित करते हैं। हमेशा औपचारिक ढंग से प्रशंसा करें यह जरूरी नहीं है, तो कभी-कभी अनौपचारिक रूप से भी उनकी तारीफ करें।

तुरंत निर्णय लेने की आदत

किसी भी अच्छे लीडर की पहचान होती है कि वह तुरंत निर्णय लेता है और अपने निर्णयों पर टिका रहता है। लोग उस व्यक्ति के साथ काम करना पसंद नहीं करते हैं, जो बार-बार अपना निर्णय बदलता रहता है या फिर अनिर्णय की स्थिति में रहता है। जब भी बार-बार आप निर्णय के लिए दूसरों पर निर्भर रहेंगे, तो आपका व्यक्तित्व कमजोर हो जाएगा।

बड़े लक्ष्यों पर हो नजर

अपनी टीम को बताना चाहिए कि कंपनी लंबे समय में किन लक्ष्यों को पाना चाहती है और टीम के सभी साथियों को उससे अवगत कराना चाहिए। जब आपके पास लंबे समय के लक्ष्य होंगे तो उसके हिसाब से जिम्मेदारियों का बंटवारा और काम करना भी आसान होता है।

बनाएं सीखने का वातावरण

अपनी टीम को काम के नए तरीके खोजने या नए आइडियाज तलाशने के लिए प्रेरित करें। उन्हें बताएं कि कर्मचारी के तौर पर वे कैसे आगे बढ़ सकते हैं और कंपनी के लक्ष्यों को भी पा सकते हैं। उन्हें मौका दें कि वे गलतियों से सीखें और लगातार काम में नए आइडियाज ला सकें।

Posted By: Neel Rajput

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस