सीमा झा, नई दिल्‍ली। परिणाम सामने है अब बारी है आगे अपने लिए बेस्ट करियर चुनने की। इस दिशा में जो सबसे बड़ी मुश्किल है किस करियर का चुनाव किया जाए जो आपकी पर्सनैलिटी को सूट करे, आपको आगे बढऩे में मदद करे। इस समय सलाह तो कई मिल रहे होंगे।

कोई बिजनेस कोर्स करने के बाद मैनेजमेंट क्षेत्र में जाने की सलाह देते होंगे तो किसी से इंजीनियर बन अपने तकनीकी ज्ञान को और आगे ले जाने की सलाह सुनी होगी आपने। दरअसल, यह उलझन केवल आपकी नहीं औसतन सभी की होती है। उलझन की एक और वजह है। वह यह है कि अब कई विकल्प सामने हैं, केवल इंजीनियरिंग, मेडिकल या सिविल सर्विसेज का दौर नहीं है। आइए जानें कि इन विकल्पों के बाद भी आपको किन बातों को फोकस करना चाहिए ताकि करियर चुनने की राह आसान हो जाए-

लक्ष्य सुनिश्चित किया?

क्या करना है आपको, इसका निर्णय खुद करना होगा। तमाम सलाहों पर न जाकर फोकस करें कि आपकी रुचि किसमें है और वह क्षेत्र कितना व्यावहारिक भी है। समझ न आ रहा हो तो काउंसलर या किसी सीनियर अथवा जानकार की मदद जरूर लें।

किधर है वास्तविक रुझान?

यदि साइंस में अच्छे हैं और आर्ट्स में भी अच्छे अंक लाए हैं तो आपके पास असीमित उड़ान का विकल्प है। पर ध्यान रहे वह आपकी प्रोफाइल यानी रुचि, पर्सनैलिटी आदि से मेल खाता हो। इस समय की एक दिक्कत यह भी है कि बहुत सारे विकल्पों की तरफ भागता है मन। कभी डॉक्टर बनने का तो कभी विज्ञापन क्षेत्र में जाने का दिल करता है। भ्रम की स्थिति में बेहतर होगा कि आप प्रोफाइलिंग टेस्ट कराएं ताकि स्पष्ट हो जाए कि आपका वास्तविक रुझान किस तरफ है।

नकल से बचना होगा

अमुक ने इस विषय को चुना है, तो मैं क्यों नहीं या मुझे भी चुनना चाहिए इससे बचना बहुत जरूरी है। अधिकांश छात्र इससे नहीं बच पाते फिर बाद में अफसोस जताते हैँ। समय और धन की बर्बादी होती है सो अलग। इसलिए बेहतर है कि आपका खुद के प्रति स्पष्ट रहें और स्वमूल्यांकन करें।

विकल्प आजमाएं

साइंस क्षेत्र में जाने का मन है तो यहां भी कई विकल्प है। बायोटेक्नोलॉजी, बायोइंजीनियरिंग, फिजियोथैरेपी, ऑक्यूपेशनल थैरेपी, मेडिकल ट्रांसक्रिप्शन जैसे कोर्सेज कर नौकरी पा सकते हैं। वहीं, आट्र्स विषय पढऩे वाले अधिकतर स्टूडेंट्स वैसे तो सिविल सर्विस की तैयारी में जुटे रहते हैं, लेकिन इसके अतिरिक्त प्रोफेशनल तौर पर एमबीए, जर्नलिज्म, मार्केट एनालिसिस, टीचिंग, एंथ्रोपोलॉजी, ह्यूमन रिसोर्स, एमएसडब्‍ल्‍यू आदि क्षेत्रों में भी काफी करियर के विकल्प मौजूद हैं।

(करियर काउंसलर जितिन चावला से बातचीत पर आधारित) 

Posted By: Nitesh

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस