नई दिल्ली, अनुराग मिश्र। कोरोना की वजह से पूरी दुनिया में कई तरह के करियर पर जहां संकट खड़ा हो गया है, वहीं, कई नए करियर भी सामने आए हैं। ऐसे में संकट झेल रहे लोगों के साथ अपनी आंखों में चमकीले भविष्य के सपने संजोए युवाओं को भी नए करियर की पहचान कर उनके लिए खुद को तैयार करना चाहिए। इन नए क्षेत्रों में ग्रोथ की अधिक संभावनाएं हैं, जिनसे उनके करियर को नई ऊंचाई मिल सकती है।

केनिपली एप के सीईओ यशस्वी कुमार का कहना है कि आने वाला दौर बहुत मुश्किल है, क्योंकि कंपनियों ने भर्तियां फ्रीज कर रखी हैं, पर आने वाले समय में कुछ सेक्टर्स में फ्री-लांसर्स के लिए मौके बढ़ेंगे। ऐसे में युवाओं को खुद को इसके लिए तैयार रखना चाहिए। यशस्वी कुमार ने कहा कि इस दौर में अपना कुछ शुरू करने के भी मौके हैं, भले ही वे छोटे स्तर पर क्यों न हों।

इसी तरह करियर एक्सपर्ट जतिन चावला का कहना है कि नए छात्रों को इस दौर में बेहद समझदारी से विषय का चुनाव करने की जरूरत है। मसलन, अगर आप कानून के छात्र हैं तो साइबर लॉ का स्पेशलाइजेशन कर सकते हैं। अगर आप बीबीए की पढ़ाई कर रहे हैं तो डिजिटल मार्केटिंग और एनालिटिक्स को स्पेशलाइजेशन के तौर पर ले सकते हैं। इसी तरह अगर आप कंप्यूटर के छात्र हैं तो आप आईओटी, मशीन लर्निंग, एएसपी और एनालिटिक्स जैसे क्षेत्रों में विशेषज्ञता हासिल कर सकते हैं। इसके साथ ही अंतिम वर्ष में ऑनलाइन इंटर्नशिप जरूर करें। आइए जानते हैं एक्सपर्ट्स के आधार पर इन करियर के बारे में-

ऑनलाइन एजुकेशन और लर्निंग

ऑनलाइन एजुकेशन सेक्टर में भी तेजी से संभावनाएं बढ़ी हैं और आने वाले समय में ये संभावनाएं काफी वृहद होंगी। गूगल चैनल सेल्स के मिडिल-ईस्ट, यूरोप और अफ्रीका में निदेशक कार्तिक तनेजा ने बताया कि ऑनलाइन ट्यूटोरियल, ई-टेस्टिंग, वोकेशनल और प्रोफेशनल स्टडीज और स्किल डेवलपमेंट में ऑनलाइन एजुकेशन का रोल तेजी से बढ़ेगा।

केनिपली एप के सीईओ यशस्वी कुमार का कहना है आने वाले समय में कंटेट प्रोजेक्ट का काम मिल सकता है। कंटेट राइटिंग में काफी अवसर हैं। वह कहते हैं कि इस साल स्कूल देर से खुलेंगे। ऐसे में टीचरों के लिए बेहतर है कि वे मोहल्ले में ऑनलाइन क्लास शुरू करें। अपनी विशेषज्ञता के आधार पर वे लोगों को पढ़ाएं। यशस्वी कुमार कहते हैं कि छोटे शहरों में बेहतर संख्या में काफी काबिल टीचर होते हैं।

वेबलपमेंट डेवलपमेंट के जानकार, एप वेबलपमेंट के जानकार लोगों की मांग बढ़ेगी। यशस्वी कुमार का कहना है कि मशीन लर्निंग पर कंटेट बना सकने वाले, प्रतियोगी परीक्षाओं, प्रोफेशनल सर्टिफिकेशन के लिए कोर्स चलाने वालों की मांग बढ़ेगी। एंटरप्रेन्योरशिप, कंपनी कैसे शुरू करें जैसे कोर्सों की मांग बढ़ेगी।

यशस्वी कुमार का कहना है कि आने वाले दौर में ऑनलाइन एजुकेशन प्रदान करने वालों के लिए खुद को साबित करने का अच्छा मौका है। इस वक्त ज्यादा लोग ऑनलाइन एजुकेशन कटेंट का इस्तेमाल कर रहे हैं, जिससे लोगों में ऑनलाइन एजुकेशन कंटेंट को लेकर समझ बढ़ेगी। वे बेहतर, कामचलाऊ और खराब कंटेट में चुनाव कर सकेंगे। इसलिए कंटेंट की गुणवत्ता पर ध्यान देना चाहिए। इसके लिए ऑनलाइन में अच्छे टीचर को आगे आना होगा। रिटायर्ड टीचर, टीयर-2 और टीयर-3 में रहने वाले टीचरों को अपने कंटेट को ऑनलाइन माध्यम पर साझा करना होगा।

ऑनलाइन हेल्थकेयर और मेडिसिन

ऑनलाइन हेल्थकेयर औऱ मेडिसिन में मौजूदा समय में अन्य सेक्टरों की तरह हालात ज्यादा खराब नहीं हैं। पर आने वाले समय में इसमें और बेहतर परिणाम देखने को मिलेंगे। कार्तिक तनेजा कहते हैं कि हेल्थ और वेलनेस एप, डिजिटल हेल्थ प्रोडक्ट्स, जैसे- स्मॉर्ट थर्मामीटर और टेंपरेचर सेंसर में लॉकडाउन पीरियड के बाद भी बूम जारी रहेगा। तनेजा ने आईआईटी, पटना के एक वेबिनार में कहा कि हेल्थ कंपनी जैसे टेलडॉक में 20,000 लोग प्रतिदिन अपाइंटमेंट ले रहे हैं। करियर एक्सपर्ट जतिन चावला का कहना है कि इस दौर में नए छात्रों के लिए कंप्यूटर एडेड इन डिजाइन, आपदा के इस दौर में पब्लिक हेल्थ से जुड़े कोर्स, कंप्यूटेशनल बायोलॉजी जैसे कोर्स अच्छे हैं।

ई-कॉमर्स

कार्तिक तनेजा ने कहा कि आने वाले समय में ई-कॉमर्स इंडस्ट्री की ग्रोथ 25 से 30 फीसदी की होगी। उन्होंने कहा कि स्टे होम इकोनॉमी के दौर में ई-कॉमर्स, डिलीवरी, लॉजिस्टिक आदि इंडस्ट्री का तेजी से विकास होगा और नौकरी की संभावनाएं बनेंगी। करियर एक्सपर्ट जतिन चावला ने कहा कि वर्तमान में हमारे पास इन सेक्टर में अपार मौके हैं। हमें अपने कारोबार को डिजिटल कैसे करना है, इसके बारे में सोचना होगा। उन्होंने कहा कि उदाहरण के तौर पर यदि आपकी बर्तन की दुकान है और बर्तन के बारे में आपकी गहन जानकारी है तो आप इसे डिजिटल कैसे कर सकते हैं, इसका खाका खींचे। कैसे अलग-अलग टाइप के बर्तन बेचे जा सकते हैं, इसके वीडियो बनाएं। ऐसे में अन्य घरेलू बिजनेस वाले ऑनलाइन भी अपना काम शुरू कर सकते हैं। बस आपका प्रस्तुतिकरण शानदार होना चाहिए और आइडिया क्रिएटिव। चावला का कहना है कि इस दौर में एंटरप्रेन्योरशिप बेहतर विकल्प है। आप लोकल जॉब तलाशें। आप किसी नए सेक्टर में काम करना चाहते हैं तो उसकी ट्रेनिंग लें।

डाटा सर्विलांस और एनालिटिक्स

आईआईटी, पटना के एक वेबिनार में बोलते हुए कार्तिक तनेजा ने कहा कि डाटा सर्विलांस भी आने वाले समय में करियर का बड़ा विकल्प होगा। जहां पर डाटा को एकत्र करना, उसका इस्तेमाल करना औऱ उसे नियंत्रित करने वालों के लिए नौकरी के अवसर बनेंगे।  

Posted By: Vineet Sharan

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस