Move to Jagran APP

MP News: मंदसौर में सेक्सटॉर्शन गैंग का भंडाफोड़, महिलाओं के फोन से गंदी वीडियो का जखीरा बरामद; लोगों को ऐसे बनाते थे शिकार

जांच में सामने आया है कि महिलाओं ने स्थानीय लोगों के साथ ही बाहर लोगों को भी जाल में फंसा कर शिकार बनाया है। आरोपी फोन कॉल से बातचीत के बहाने संबंधित शख्स को मंदसौर बुलाते और रुपये नहीं होने पर बंधक बना लेते। वीडियो-स्क्रीन शॉट बनाकर रुपये की मांग करने लगतेथे। केस में नए कानून के तहत आरोपितों को आजीवन कारावास तक की सजा हो सकती है।

By Jagran News Edited By: Abhinav Atrey Thu, 11 Jul 2024 08:07 AM (IST)
मंदसौर जिले में सेक्सटॉर्शन गैंग करने वाले गैंग का पर्दाफाश।

जेएनएन, मंदसौर। मध्य प्रदेश के मंदसौर जिले में यौन शोषण (सेक्सटॉर्शन गैंग) करने वाले गैंग का पर्दाफाश हुआ है। जिले की नई आबादी पुलिस ने मेनपुरिया गांव के मकान में छापा मारकर सेक्सटॉर्शन गैंग को बेनकाब किया। यह गैंग लगभग दो सालों से सक्रिय था और बचने के लिए बार-बार अपनी लोकेशन बदल रहा था।

शातिराना ढंग से जगब बदलने की वजह से पुलिस को इन्हें पकड़ने में परेशानी आ रही थी, लेकिन पुलिस ने अब इस केस में दो आरोपी महिलाओं और एक नाबालिग को गिरफ्तार किया है। अभी दो आरोपी फरार हैं। दो आरोपी मेनपुरिया, दो आलोट जबकि एक बड़ौद का रहने वाला है।

दो-दो मिनट के अश्लील वीडियो की 40 क्लिपिंग बरामद

पुलिस को दोनों महिलाओं के मोबाइल से दो-दो मिनट के अश्लील वीडियो की 40 क्लिपिंग मिली है और जहां छापेमारी की गई है उस मकान से तीन लाख रुपये भी मिले हैं। पुलिस मानकर चल रही है कि गैंग अब तक ब्लैकमेलिंग करके लोगों से 30 लाख से अधिक रुपये वसूल चुका है। छानबीन में 8 से 10 मामलों की जानकारी सामने आई है।

गंभीर शिकायतें पुलिस तक पहुंच रही थीं

नई आबादी पुलिस स्टेशन के टीआई वरुण तिवारी ने जानकारी देते हुए बताया कि सेक्सटॉर्शन के जरिए ब्लैकमेलिंग और रुपये की वसूली से जुड़ी कई गंभीर शिकायतें पुलिस तक पहुंची थी। केस की गंभीरता को देखते हुए एसपी अनुराग सुजानिया ने विशेष टीम (Special Team) का गठन किया। स्पेशल टीम पीड़ित पक्षों के जरिए पूरे रैकेट तक पहुंचने में कामयाब हो गई।

दोनों फरार आरोपितों की तलाश जारी

पुलिस की स्पेशल टीम ने मेनपुरिया में रहने वाली महिला, उसकी सहयोगी आलोट क्षेत्र की महिला, एक नाबालिग को हिरासत में लिया। साथ ही केस में फरार आलोट के शैतान सिंह और बड़ौद के रहने वाले राजेश भी आरोपी बने हैं। शुरुआती पूछताछ में आरोपियों ने तान साल में 30 लाख रुपये तक वसूलना बताया है। पुलिस सभी आरोपियों का पुराना रिकॉर्ड खंगाल रही है। जबकि दोनों फरार आरोपितों की तलाश की जा रही है।

बातचीत के बहाने संबंधित शख्स को मंदसौर बुलाते थे

जांच में सामने आया है कि महिलाओं ने स्थानीय लोगों के साथ ही अन्य दूसरे लोगों को भी अपने जाल में फंसा कर शिकार बनाया है। आरोपी फोन कॉल से बातचीत के बहाने संबंधित शख्स को मंदसौर बुलाते और रुपये नहीं होने पर बंधक बना लेते थे। यही नहीं वीडियो और स्क्रीन शॉट बनाकर रुपये की मांग करने लगते थे। केस में नए कानून के तहत आरोपितों को आजीवन कारावास तक की सजा हो सकती है।

कई युवकों को दो से तीन दिनों तक बंधक बना रखा गया

आरोपी बंधक बने लोगों से उनके परिजनों की बात करवाते और महिलाओं के जरिए झूठी एफआईआर करवाने का दबाव बनाकर यूपीआई आईडी से लेन-देन करते थे। कई मौकों पर नकदी रुपये की बात आती थी तो ये कभी सांवलियाजी तो कभी पशुपतिनाथ मंदिर के पास की लोकेशन बताते थे। वहीं, कुछ केसों में आरोपियों ने युवकों को दो से तीन दिनों तक बंधक बना रखा था।

क्या होता है सेक्सटॉर्शन?

सेक्सटॉर्शन यौन शोषण से जुड़ा ब्लेकमैलिंग करने का एक रूप है। इसमें किसी शख्स की मांगें पूरी नहीं होने पर उसकी अंतरंग तस्वीरें या वीडियो ऑनलाइन शेयर या लीक करने की धमकी दी जाती है। इसके एवज में पीड़ित या उसके परिजनों से रुपये की मांग की जाती है।

आरोपितों का पुराना रिकॉर्ड खंगाला रही पुलिस

नई आबादी थाना के टीआई वरुण तिवारी ने कहा कि शिकायतों की जांच के बाद मेनपुरिया में दबिश दी गई। वहां मकान से तीन लाख रुपये मिले हैं। आरोपित लोगों को घर के पीछे बाड़े में बंधक बनाकर रखते थे और स्वजनों से उनकी बात कराकर रुपये मंगाते थे। फोन-पे तक तक इस्तेमाल होता था।

उन्होंने आगे कहा कि आरोपित महिलाओं के मोबाइल में अश्लील वीडियो की 40 क्लिपिंग मिली हैं। ऐसी जानकारी है कि अब तक करीब 30 लाख रुपये ऐठे जा चुके हैं। शरुआती पूछताछ में 8 से 10 मामलों का खुलासा हुआ है। गैंग तीन सालों से सक्रिय था। सभी का पुराना रिकॉर्ड खंगाला जा रहा है। गैंग के पांच आरोपितों में दो महिलाएं और एक नाबालिग मौके से मिले हैं। दो आरोपित फरार हैं।

ये भी पढ़ें: MP Crime: पत्नी की बेवफाई से परेशान पति ने कर डाली तीन हत्याएं, फिर खुद भी कर ली आत्महत्या; पुलिस ने सुलझाई गुत्थी