भोपाल, जेएनएन। UPSC Civil Services 2020 Result संघ लोक सेवा आयोग की परीक्षा में देश में दूसरा स्थान हासिल करने वाली भोपाल की जागृति अवस्थी अपनी इस सफलता का श्रेय माता-पिता के साथ भाई डा. सुयश अवस्थी को देती हैं। एमबीबीएस कर चुके सुयश ने जागृति को बीएचईएल की नौकरी छोड़ने की हिम्मत दी और यूपीएससी की तैयारी में हर समय पूरा सहयोग किया।

भोपाल के शिवाजी नगर निवासी होम्योपैथिक डाक्टर की बेटी जागृति 2017 में मैनिट से इलेक्ट्रिकल इंजीनियरिंग की डिग्री लेने के बाद भारत हैवी इलेक्ट्रिकल लिमिटेड (बीएचईएल) में नौकरी करने लगी थीं। दो साल तक काम करने के बाद भी उन्हें इंजीनियरिंग रास नहीं आई। जून 2019 में पहली बार यूपीएससी की परीक्षा में भाग्य आजमाया, हालांकि सफलता नहीं मिली लेकिन इरादे मजबूत थे।

जागृति बताती हैं कि उन्होंने निश्चय किया कि वे इंजीनियरिंग छोड़कर एकाग्रता के साथ इस परीक्षा की तैयारी करेंगी। इंजीनियरिंग के क्षेत्र में समाज को लेकर कुछ उल्लेखनीय कार्य करना मुमकिन नहीं था, इसलिए लोक सेवा की राह का चयन किया। वे समाज में कुछ ऐसा परिवर्तन लाना चाहती हैं जिससे तीस-चालीस साल बाद जब भी वे किसी मुकाम पर पहुंचें तो लोग कहें कि उन्होंने समाज में बड़ा बदलाव किया।

भोपाल के शिवाजी नगर में रहने वालीं जागृति ने बताया कि शुरुआती माह आठ से दस घंटे की ही पढ़ाई होती लेकिन इसके बाद दस से बारह घंटे तक प्रतिदिन पूरी एकाग्रता के साथ पढ़ाई करनी होती है। यही मेरी तैयारी का राज है, जिसकी बदौलत मैंने देश में दूसरा स्थान प्राप्त किया।

जागृति ने बताया कि वे ग्रामीण विकास, महिला सशक्तीकरण और बच्चों के विकास के क्षेत्र में कार्य करना चाहती हैं इसीलिए पिता और भाई दोनों के डाक्टर होने के बाद भी यह राह चुनी। जागृति के पिता डा. सुरेश चंद अवस्थी शासकीय होम्योपैथी कालेज में प्रोफेसर हैं। उन्होंने बताया कि जागृति आरंभ से ही पढ़ाई में अव्वल रही है। वे मूलत: उत्तर प्रदेश के फतेहपुर जिले के नसेनिया गांव के रहने वाले हैं।

Edited By: Vijay Kumar