Move to Jagran APP

महंगाई की मार: आवक कम होने से टमाटर की कीमतें फिर आसमान पर, रुला रही प्याज; आलू भी हुआ महंगा

बदलते मौसम से टमाटर की फसल भोपाल व आसपास के जिलों में खत्म हो चुकी है। अभी राजस्थान के जयपुर व आसपास से ही टमाटर आ रहा है। आवक कम होने से टमाटर के भाव बढ़ गए हैं। भोपाल में मौसम की मार से टमाटर 60-80 रुपये प्रतिकिलो मिल रहा है। 15 से 20 रुपये प्रतिकिलो फुटकर में मिलने वाली प्याज 30 से 40 रुपये प्रतिकिलो हो गई है।

By Brajendra verma Edited By: Jeet Kumar Sun, 23 Jun 2024 06:00 AM (IST)
मौसम की मार से टमाटर की कीमतें फिर आसमान पर, रुला रही प्याज

जेएनएन, भोपाल। मानसून की दस्तक के साथ गर्मी और उमस के बीच बाजार में टमाटर की आवक 20 प्रतिशत कम हो गई है। करोंद मंडी में एक सप्ताह पहले तक 60 से 80 टन टमाटर रहा था। अब भोपाल सहित प्रदेश के अलग-अलग जिलों से टमाटर की आवक कम हो गई है।

टमाटर की आवक कम होने से बढ़े दाम

बदलते मौसम से टमाटर की फसल भोपाल व आसपास के जिलों में खत्म हो चुकी है। अभी राजस्थान के जयपुर व आसपास से ही टमाटर आ रहा है। आवक कम होने से टमाटर के भाव बढ़ गए हैं।

करोंद सब्जी मंडी विक्रेता कल्याण संघ के अध्यख मोहम्मद नसीम ने बताया कि आने वाले एक से डेढ़ महीने तक टमाटर महंगा ही रहेगा, जब तक कनार्टक से टमाटर की आवक शुरू नहीं हो जाती है, क्योंकि स्थानीय टमाटर की आवक पूरी तरह से बंद हो चुकी है।

प्याज के दाम भी आसमान छूने को बेताब

इधर प्याज के दाम भी आसमान छूने को बेताब हैं, 15 से 20 रुपये प्रतिकिलो फुटकर में मिलने वाली प्याज 30 से 40 रुपये प्रतिकिलो हो गई है। यह स्थिति अगले एक माह तक बने रहने के आसार हैं।

आलू के भाव भी बढ़ गए

वहीं आलू के भाव भी बढ़ गए हैं। 15 से 20 रुपये प्रतिकिलो बिकने वाला आलू 25 से 30 रुपये प्रतिकिलो बिकने लगा है। करोंद मंडी के थोक आलू-प्याज विक्रेता वसीम खान ने बताया कि उत्तर प्रदेश के इटावा व आसपास के जिलों से आलू आ रहा है, वहां तेजी बनी हुई, इसलिए भोपाल में भी आलू के भाव बढ़ गए हैं।