Move to Jagran APP

MP Congress: कांग्रेस पर 'वास्तु दोष' का साया, वास्तुविदों की सलाह पर प्रदेश कार्यालय में लगाया ताला

मध्य प्रदेश में कांग्रेस को 2023 में विधानसभा चुनाव में एक तरफा हार का सामना करना पड़ा था। इसका एक बड़ा कारण दलबदल के कारण पार्टी के कार्यकर्ताओं को एकजुट न रख पाना माना जा रहा है। इस हार के बाद कांग्रेस के आलाकमान ने जीतू पटवारी को प्रदेश कांग्रेस की बागडोर सौंप दी थी। जिसके बाद से जीतू पटवारी प्रदेश में लगातार पार्टी को दुरुस्त करने में जुटे हैं।

By Jagran News Edited By: Siddharth Chaurasiya Published: Fri, 17 May 2024 05:30 PM (IST)Updated: Fri, 17 May 2024 05:30 PM (IST)
मध्य प्रदेश में कांग्रेस को 2023 में विधानसभा चुनाव में एक तरफा हार का सामना करना पड़ा था।

राज्य ब्यूरो, जागरण, भोपाल। मध्य प्रदेश में कांग्रेस को 2023 में विधानसभा चुनाव में एक तरफा हार का सामना करना पड़ा था। इसका एक बड़ा कारण दलबदल के कारण पार्टी के कार्यकर्ताओं को एकजुट न रख पाना माना जा रहा है। इस हार के बाद कांग्रेस के आलाकमान ने जीतू पटवारी को प्रदेश कांग्रेस की बागडोर सौंप दी थी। जिसके बाद से जीतू पटवारी प्रदेश में लगातार पार्टी को दुरुस्त करने में जुटे हुए हैं।

इसी क्रम में प्रदेश कांग्रेस कमेटी के पदाधिकारी मानते हैं कि कांग्रेस मुख्यालय में वास्तु दोष है। जिसको लेकर जीतू पटवारी ने प्रदेश कार्यालय के गेट को बंद करवा दिया है। लेकिन साथ ही एक दूसरा गेट आने-जाने के लिए खोल दिया है।

प्रदेश में फिल्डिंग ठीक से नहीं बैठा पाए पटवारी

उल्लेखनीय है कि साल 2023 के आखिरी में हुए विधानसभा चुनाव में कांग्रेस ने प्रदेश में कमल नाथ के नेतृत्व में चुनाव लड़ा था, जिसके बाद कांग्रेस पार्टी प्रदेश अध्यक्ष नाथ के नेतृत्व में बुरी तरह पराजित हुई। इस करारी हार के बाद कांग्रेस के केंद्रीय दल ने प्रदेश में कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष के पद पर बड़ा बदलाव किया। लेकिन जीतू के अध्यक्ष बनते ही लोकसभा चुनाव सिर पर आ गए हैं। इस दौरान जीतू प्रदेश में पार्टी को उस तरह से मजबूत नहीं कर पाए। अब खबर है कि वह इस काम को करने की दिशा में आगे बढ़ रहे हैं।

पटवारी ने वास्तुविदों के परामर्श पर किया परिवर्तन

इसके लिए उन्होंने मध्य प्रदेश कांग्रेस भवन में वास्तुविदों के परामर्श पर परिवर्तन किया है। भवन के मुख्य द्वार तक पहुंचने के लिए लिंक रोड क्रमांक दो के सामने वाले जिस द्वार का उपयोग होता था, उसे ताला लगाकर बंद कर दिया है। इसके स्थान पर अब तक बंद रखे जा रहे दूसरे द्वार को खोला गया है। उधर, भाजपा ने मुख्य द्वार के सामने वाले द्वार को बंद करने पर तंज कसा कि पता नहीं कांग्रेस के नेता यह सच्चाई कब समझेंगे कि दोष उनमें व कांग्रेस में है।

कांग्रेस कार्यालय में चल रहा साज-सज्जा का काम

प्रदेश कांग्रेस कार्यालय में इन दिनों साज-सज्जा का काम चल रहा है। दीवारों पर जो दरारें आ गई हैं, उन्हें भरकर पुताई कराई जा रही है। प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष जीतू पटवारी और संगठन प्रभारी राजीव सिंह ने बुधवार को इसका निरीक्षण किया था, तब मुख्य द्वार के सामने वाले लोहे के दरवाजे को बंद रखने के निर्देश दिए थे। सूत्रों का कहना है कि वास्तुविद के परामर्श पर ऐसा किया गया। इस दरवाजे के स्थान पर पास के ही लिंक रोड क्रमांक दो के सामने के दूसरे दरवाजे को खोल दिया गया था।

कमल नाथ के समय इसे बंद कर दिया था। वे मुख्य द्वार के स्थान पर सिंधु भवन जाने वाले मार्ग पर स्थित द्वार का उपयोग कार्यालय आने-जाने के लिए करते थे। पार्टी पदाधिकारियों का कहना है कि वास्तु दोष के कारण नहीं बल्कि भवन की साज सज्जा का जो काम चल रहा है, उसके कारण दरवाजा बंद किया है। उधर, संगठन प्रभारी राजीव सिंह का कहना है कि ऐसी कोई बात नहीं है।

दरवाजे को खोलने के लिए कह दिया है। वहीं, भाजपा के प्रदेश प्रवक्ता नरेंद्र सलूजा ने कहा कि दोष कांग्रेस नेताओं में है। उसे दूर करने के स्थान पर वे हमेशा भवन में ही वास्तु दोष ढूंढने में लगे रहते हैं।

अब प्रदेश अध्यक्ष के निर्देश पर प्रदेश कांग्रेस का वास्तु दोष दूर करने के लिए हमेशा बंद रहने वाला द्वार खोल दिया गया और मुख्य द्वार पर ताला लटका दिया। इसके पहले कमल नाथ ने भी कई परिवर्तन किए थे और परिणाम यह हुआ कि कांग्रेस 116 से 66 पर आ गई थी।

कांग्रेस को लोकसभा चुनाव रूझान के बाद अब अपने कार्यालय में वास्तुदोष नजर आ रहा है। जीतू पटवारी को हार का ठीकरा फोड़ने के लिए कोई ना कोई दोष तो निकालना ही पड़ेगा। जनता जानती है कि ये कोई वास्तु दोष नहीं, कांग्रेस की नीयत का खोट है।

आशीष अग्रवाल, भाजपा के प्रदेश मीडिया प्रभारी


This website uses cookies or similar technologies to enhance your browsing experience and provide personalized recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.