भिंड, जेएनएन। मध्य प्रदेश में गुरुवार से 12वीं की बोर्ड परीक्षा शुरू हुई। पहले दिन अंग्रेजी का पेपर था। नकल के लिए बदनाम चंबल अंचल के भिंड में इस पर रोक लगाने के लिए परीक्षा अवधि के दौरान अंग्रेजी के चिह्नित 80 विशेषज्ञ शिक्षकों में से कुछ को थाने तो कुछ को डाइट (जिला शिक्षा व प्रशिक्षण संस्थान) में बैठाया गया। मेहगांव-लहार में शिक्षक थाने बुलाए गए, वहीं भिंड में शिक्षकों ने विरोध किया तो उन्हें परीक्षा अवधि तक डाइट कार्यालय में बने कमरे में बैठाया गया। उधर, कलेक्टर डा. सतीश कुमार एस का कहना है कि जिले में नकल रोकने के लिए पूर्व से ही शिक्षकों को थाने में बैठाने का प्रचलन रहा है। अगले पेपर में थाने के बजाए दूसरे स्थान पर बैठाएंगे, व्यवस्था यही रहेगी।

बोर्ड परीक्षा में नकल रोकने के लिए जारी किया आदेश

बोर्ड परीक्षा में नकल रोकने के लिए जिला शिक्षा अधिकारी हरभुवन सिंह तोमर ने आदेश जारी किया था कि परीक्षा के दौरान विषयवार विशेषज्ञ शिक्षकों को थाने में बैठाया जाएगा। यह वे शिक्षक हैं, जो सरकारी या प्राइवेट होते हुए कोचिंग संचालित करते हैं। जिलेभर में विशेषज्ञ शिक्षकों को चिह्नित किया गया। अंग्रेजी विषय के करीब 80 शिक्षक चिह्नित किए गए थे। भिंड शहर में 10 शिक्षकों ने थाने में उपस्थित होने से इन्कार कर दिया। शेष तीन शिक्षक पहुंचे, जिन्हें डाइट कार्यालय में बैठाया गया। लहार एसडीओपी अवनीश बंसल का कहना है कि लहार में आठ शिक्षक थाने पहुंचे। मेहगांव थाने में छह शिक्षक बैठाए गए। शिक्षक संदीप सिंह जादौन का कहना था कि इससे हमारी भावनाएं आहत हुई हैं। हमारी कोई संदिग्ध गतिविधियां होतीं तो बुलाते।

नकल की आस में पड़ोसी राज्यों से आते हैं परीक्षार्थी

चंबल अंचल बोर्ड परीक्षा में नकल के लिए इस कदर बदनाम है कि यहां से आसानी से पास होने की मंशा से राजस्थान व उत्तर प्रदेश तक के छात्र आते हैं। 100 अंक के पेपर में अब तक 20 अंक के वस्तुष्ठि प्रश्न आते थे, जो इस बार 40 अंक के होंगे। ऐसे में आसानी से नकल की आशंका भी बढ़ गई है।

Edited By: Sachin Kumar Mishra

जागरण फॉलो करें और रहे हर खबर से अपडेट