ग्वालियर, जेएनएन । पंचायत चुनाव संपन्न होते ही अब पुलिस अफसर नगरीय निकाय चुनाव की तैयारी में लग गए हैं। नगरीय निकाय चुनाव के लिए सुरक्षा प्लान तैयार कर लिया गया है। ड्रोन और सीसीटीवी कैमरों का उपयोग किया जाएगा। पहली बार एक साथ रिजर्व फोर्स नहीं रखा जाएगा, अब सात पार्टियां बनाकर फोर्स तैनात किया जाएगा।

मालूम हो कि नगरीय निकाय चुनाव में शहर के अंदर से लेकर आउटर तक 66 वार्डों के लिए 1425 मतदान केंद्र बनाए गए हैं। इसके चलते और अधिक मुस्तैदी रखनी होगी। इसके चलते अब संवेदनशील मतदान केंद्रों के आसपास दिनभर ड्रोन से भी निगरानी होगी। दो ड्रोन कैमरे पुलिस के पास हैं, इसके अलावा और भी ड्रोन कैमरे किराए पर लिए जाएंगे। साथ ही पहली बार एक साथ रिजर्व फोर्स को नहीं रखा जाएगा, रिजर्व फोर्स की सात पार्टियां बनाकर सात जगह तैनात किया जाएगा। यह वह इलाके होंगे, जहां संवेदनशील मतदान केंद्र हैं। ऐसे इलाके जहां रिजर्व फोर्स रखा जाएगा, इसे लेकर पुलिस अफसर जल्द ही इलाके चिन्हित करेंगे।

-पुलिस के 576 सीसीटीवी कैमरों के अलावा स्मार्ट सिटी के कैमरों से भी निगरानी होगी। इसके लिए स्मार्ट सिटी के कंट्राेल रूम में भी एक पुलिस की एक टीम मतदान वाले दिन मौजूद रहेगी। इससे करीब 1100 कैमरों से निगरानी पुलिस रखेगी।

-पंचायत चुनाव की तरह नगरीय निकाय चुनाव में भी संवेदनशील मतदान केंद्रों पर इंस्पेक्टर और सब इंस्पेक्टर के साथ फोर्स सुरक्षा में तैनात रहेगा।

- 3 हजार जिला पुलिस बल के अलावा होमगार्ड सैनिक भी लगाए जाएंगे। एसएएफ की कंपनी मांगी गई है, इस तरह करीब 4 हजार पुलिसकर्मी मतदान वाले दिन सुरक्षा में तैनात रहेंगे।

- 200 मोबाइल वैन चलेंगी, जिसमें सेक्टर मजिस्ट्रेट अलग रहेंगे। मोबाइल वैन से लगातार पेट्रोलिंग होगी।

- अभी 200 लोगों का रिजर्व फोर्स पुलिस कंट्रोल रूम में रखा गया था। हर बार चुनाव में पुलिस कंट्रोल रूम में ही इकठ्ठा रिजर्व फोर्स रखा जाता है, जो जरूरत पड़ने पर रवाना होता है। लेकिन इस बार निकाय चुनाव में बदलाव होने जा रहा है। एसएसपी अमित सांघी ने बताया कि सात पार्टियों में रिजर्व फोर्स को बांटा जाएगा। जिससे शहर के संवेदनशील मतदान केंद्रों के आसपास ही फोर्स रहे और महज 10 से 15 मिनट फोर्स जरूरत पड़ने पर पहुंच सके।

- पुलिस के पास दो ड्रोन कैमरे हैं, इन्हें संवेदनशील इलाकों में मतदान के एक दिन पहले ही उड़ाया जाएगा। इसमें बहोड़ापुर, गोला का मंदिर, पुरानी छावनी, मुरार, कंपू, किलागेट के कुछ इलाके शामिल हैं। जहां एक दिन पहले ही ड्रोन उड़ाया जाएगा। मतदान वाले दिन भी पूरे दिन ड्रोन से निगरानी होगी, इसके लिए ड्रोन किराए पर भी लिए जाएंगे।

Edited By: Priti Jha