Move to Jagran APP

Wheat Rates in Indore: बे-मौसम बारिश और ओले गिरने से MP के मशहूर 'शरबती' को नुकसान, महंगा होगा गेहूं-आटा

Wheat Rates in Indore देशभर में हो रहे बेमौसम बरस रही बूंदें और ओले किसानों पर ही नहीं लोगों पर भी भारी पड़ने जा रहे हैं। बारिश के पानी से गेंहू का रंग फीका पड़ गया है और किसानों के चेहरे भी मुरझा गए है।

By Jagran NewsEdited By: Babli KumariPublished: Tue, 21 Mar 2023 09:24 AM (IST)Updated: Tue, 21 Mar 2023 09:24 AM (IST)
बे-मौसम बारिश और ओले गिरने से MP के मशहूर 'शरबती' को नुकसान (फाइल फोटो)

लोकेश सोलंकी, इंदौर। Wheat Rates in Indore: देशभर में हो रहे बेमौसम बरस रही बूंदें और ओले किसानों पर ही नहीं, लोगों पर भी भारी पड़ने जा रहे हैं। कृषि विभाग कह रहा है कि इंदौर जिले में किसानों को ज्यादा नुकसान नहीं हुआ है।

इससे इतर पूरा सच यह है कि पूरे देश में प्रसिद्ध मध्य प्रदेश के गेहूं की गुणवत्ता मौसम के बिगड़े मिजाज ने खराब कर दी है। प्रदेश की मशहूर गेहूं की किस्मों शरबती, चंदौसी की चमक ओलों और वर्षा ने चुरा ली है। सोमवार से ही बाजार में इसका असर भी नजर आने लगा। गेहूं-आटा के दाम बढ़ने लगे हैं और अच्छी गुणवत्ता के गेहूं इस साल महंगी कीमतों पर उपभोक्ताओं को खरीदने होंगे।

सोमवार को 25 हजार बोरी से ज्यादा गेहूं बिक्री के लिए पहुंचा

इंदौर की दो प्रमुख अनाज मंडियों संयोगितागंज और लक्ष्मीबाई अनाज मंडी में सोमवार को 25 हजार बोरी से ज्यादा गेहूं बिक्री के लिए पहुंचा। हालांकि, हजारों बोरियों में बमुश्किल 10 प्रतिशत ही अच्छी क्वालिटी वाला गेहूं मंडी में आया। कारोबारी और दलाल एसोसिएशन के पूर्व अध्यक्ष हीरालाल अगीवाल के अनुसार, शनिवार से सोमवार के बीच ही गेहूं के दामों में 100 से 200 रुपये का उछाल आ गया है।

दामों में ज्यादा बढ़ोतरी अच्छी गुणवत्ता वाले गेहूं जो आम उपभोक्ता खरीदते हैं, उसमें हो रही है। चाहे वह लोकवन गेहूं हो, चंद्रौसी हो या पूर्णा किस्म का गेहूं। लोकवन गेहूं जो बारिश का दौर शुरू होने के पहले और नई फसल की शुरुआत में 2300 रुपये प्रति क्विंटल तक बिक रहा था अब फिर से 2600 रुपये हो गया है।


This website uses cookies or similar technologies to enhance your browsing experience and provide personalized recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.