नई दिल्ली, लाइफस्टाइल डेस्क। उत्तराखंड को देवों की भूमि कहा जाता है। हर साल हजारों की संख्या में श्रद्धालु चार धाम की यात्रा करते हैं। साथ ही उत्तराखंड में हरिद्वार कुंभ मेला के लिए दुनियाभर में प्रसिद्ध है। इसके अलावा, खूबसूरत और हसीं वादियों के लिए भी जाना जाता है। इसके चलते काफी संख्या में पर्यटक उत्तराखंड आते हैं। वहीं, कम लोगों को उत्तराखंड की हाईकिंग में बारे में पता है। अगर आप हाईकिंग की प्लानिंग कर रहे हैं, तो उत्तराखंड की यात्रा कर सकते हैं। आइए जानते हैं कि हाईकिंग के लिए उत्तराखंड में कहां-कंहा जा सकते हैं-

चोपता

चोपता को उत्तराखंड का स्विट्जरलैंड कहा जाता है। यह खूबसूरत गांव आज भी भीड़ से दूर है। सुबह के समय जब सूर्य की किरणें हिमालय को चूमती है, तो चोपता गांव की खूबसूरती दुगुनी हो जाती है। यहां कई हाईकिंग स्पॉट्स हैं, जो जंगल से होकर गुजरती हैं। इस दौरान आप प्रकृति को नजदीक से देख सकते हैं।  

बिनसर

यह शहर कुमाऊं क्षेत्र में स्थित है। स्थानीय भाषा में बिनसर का तात्पर्य प्रातःकाल है। समुद्र तल से इसकी ऊंचाई 2420 मीटर है। हाईकिंग के लिए सबसे उत्तम स्पॉट है। यहां से आप हिमलाय की चोटियों (नंदा देवी, नंदा कोट, पंचाचूली और चौखम्बा) का दीदार कर सकते हैं।

जार्ज एवरेस्ट हाउस,  मसूरी

मसूरी के गांधी चौक से जार्ज एवरेस्ट हाउस की दूरी 6 किलोमीटर है। पर्यटकों के लिए हिल स्टेशन पर जार्ज एवरेस्ट हाउस आकर्षण का केंद्र है। यह जगह बेहद खूबसूरत और अनादप्रद है। साथ ही हाईकर्स के लिए जार्ज एवरेस्ट हाउस मुख्य केंद्र है। जार्ज एवरेस्ट हाउस से आप दून घाटी का दीदार कर सकते हैं।

बाणासुर का किला, चंपावत

अगर आप हाईकिंग का उठाना चाहते हैं, तो बाणासुर का किला की यात्रा कर सकते हैं। यह किला चंपावत जिले में है। यह खूबसूरत किले का निर्माण बाणासुर की याद में बनाया गया था। ऐसा कहा जाता है कि बाणासुर वानर राजा बलि का बेटा था, जिसका वध भगवान श्रीकृष्ण जी ने किया था। बाणासुर का किला हाईकिंग के लिए परफेक्ट डेस्टिनशन है।

Edited By: Umanath Singh