दिल्ली, लाइफस्टाइल डेस्क। Mahakaleshwar: सोमवार का दिन देवों के देव महादेव को समर्पित होता है। इस दिन भगवान शिव जी की पूजा उपासना जाती है। धार्मिक मान्यता है कि भगवान शिव की पूजा उपासना करने से व्यक्ति की मनोवांछित इच्छाएं पूर्ण होती हैं। देशभर में महादेव के अनेक मंदिर हैं। जहां देवों के देव महादेव की श्रद्धाभाव से पूजा की जाती है। अगर आप भी महादेव का आशीर्वाद पाना चाहते हैं, तो मध्य प्रदेश के इन शिव मंदिरों में दर्शन के लिए जरूर जाएं। आइए जानते हैं-

ओंकारेश्वर मंदिर

ओंकारेश्वर मंदिर मध्य प्रदेश के खंडवा जिले में है। यह शहर नर्मदा नदी के किनारे बसा है। 12 ज्योतिर्लिंगों में एक ज्योतिर्लिंग मध्य प्रदेश में है। इतिहासकारों की मानें तो भील जनजाति ने यह नगर बस्ती बसाई थी। वर्तमान समय में यह विश्व प्रसिद्ध धार्मिक और पर्यटन स्थल है। शिवपुरी नामक द्वीप पर बसा ओंकारेश्वर मंदिर ॐ के आकार में बना है। बड़ी संख्या में श्रद्धालु भगवान शिव के दर्शन हेतु ओंकारेश्वर मंदिर आते हैं।

ममलेश्वर मंदिर

मध्यकालीन समय में यह मंदिर अमरेश्वर के नाम से प्रसिद्ध था। वर्तमान समय में ममलेश्वर कहा जाता है। इतिहासकारों की मानें तो मंदिर का निर्माण 10 वीं सदी में हुई है। यह मंदिर पञ्च मंजिला है। इसमें प्रतिदिन सवा लाख शिव लिंगों की पूजा की जाती है। मंदिर की दीवारों पर शिव महिम्न स्तोत्र अंकित है। श्रद्धालुओं की ममलेश्वर बाबा के प्रति अगाध श्रद्धा है। आप बाबा के दर्शन और आशीर्वाद पाने हेतु ममलेश्वर मंदिर जा सकते हैं।

महाकालेश्वर मंदिर

12 ज्योतिर्लिंगों में एक ज्योतिर्लिंग उज्जैन में है। यह मंदिर महाकालेश्वर के नाम से प्रसिद्ध है। जानकारों की मानें तो वेदों, पुराणों एवं शास्त्रों में महाकालेश्वर ज्योतिर्लिंग का वर्णन है। धार्मिक मान्यता है कि महाकालेश्वर बाबा के दर्शन मात्र से मोक्ष की प्राप्ति होती है। कालसर्प और पितृ दोष का निवारण उज्जैन स्थित महाकालेश्वर मंदिर में किया जाता है। आप महाकाल के दर्शन के लिए महाकालेश्वर मंदिर जा सकते हैं।

Edited By: Pravin Kumar