अहमदाबाद से 60 किलोमीटर की दूरी पर स्थित नल सरोवर बर्ड सेंचुरी भारत की सबसे बड़ी वाटर बर्ड सेंचुरी में से एक है। इसलिए यहां पानी में रहने वाले पक्षियों की संख्या ज्यादा है। बर्ड लवर्स के लिए ये जगह जन्‍नत से कम नहीं है। आप यहां किसी भी मौसम में सुबह 6 से शाम 6 बजे के बीच आ सकते हैं।

नलसरोवर को 1969 में पक्षी अभ्यारण्य का दर्जा मिला। 120 वर्ग किमी में फैली ये सेंचुरी सिर्फ पक्षियों के ही नहीं जानवरों और जलीय पौधों के भी काफी अनुकूल है। नल सरोवर में खानपान की कमी के कारण पक्षी आसपास के इलाकों में चले जाते हैं जो मानसून के बाद वापस लौट आते हैं। झील में प्लोवर्स, सैंडपिपर्स और स्टींट्स जैसे कई खूबसूरत पक्षियों को देखा जा सकता है।

नल सरोवर पक्षी अभ्यारण्य

नल सरोवर 120 वर्ग किमी में फैला बहुत ही शांत पक्षी अभ्यारण्य है जिसमें 36 छोटे द्वीप हैं। जो सानंद गावं से करीब 60 किमी की दूरी पर है। 200 से ज्यादा पक्षी यहां देखे जा सकते हैं । सर्दियों में यहां साइबेरियन के अलावा रोसी पेलिकन से लेकर ब्राह्मण बत्तख, सफेद स्टॉर्क, बिटरटें, ग्रिब्स, फ्लेमिंगो, कैक्स जैसे पक्षी देखने को मिलते हैं।

कब आएं

नवंबर से फरवरी का महीना यहां आने के लिए सबसे सही होता है। वैसे तो प्रवासी पक्षी अक्टूबर से लेकर अप्रैल तक देखे जा सकते हैं लेकिन दिसंबर और जनवरी में इन्हें संख्या दोगुनी हो जाती है। पक्षियों को देखने के साथ ही इनकी फोटो खींचने के लिए सुबह और शाम का वक्त परफेक्ट होता है।

कैसे पहुंचे

ट्रेन से- अहमदाबाद और वीरंगम यहां के सबसे नज़दीकी रेलवे स्टेशन हैं।

सड़क से- अहमदाबाद (64 किमी), वीरंगम (40 किमी) और सानंद (42 किमी) यहां के नजदीकी बस स्टेशन हैं।

फ्लाइट से- अहमदाबाद यहां का सबसे नजदीक एयरपोर्ट है।

Posted By: Priyanka Singh