नई दिल्ली, लाइफस्टाइ डेस्क। Leh-Ladakh Trip: जून का महीना लेह-लद्दाख की सैर के लिए एकदम बेस्ट होता है जब आप नॉर्मल जैकेट में भी यहां घूमने-फिरने का आनंद ले सकते हैं। साल के बाकी महीनों में तो यहां की सर्दी झेल पाना लगभग नामुमकिन सा है। पहाड़ से लेकर नदियां तक बर्फ की चादर ओढ़ लेती हैं। वैसे तो जून महीने में भी कुछ-कुछ जगहों पर स्नोफॉल देखने का मौका मिल सकता है। तो अगर आप अभी तक लेह-लद्दाख नहीं गए हैं तो ये एकदम सही टाइम है यहां की प्लानिंग का।   

लद्दाख घूमने के लिए 8 से 10 दिन का समय भी कम ही है। पूरा लद्दाख घूमने के लिए समय के साथ अच्छा-खासा बजट भी चाहिए। तो 5 दिन के लिए जाएं या 10 दिन के लिए, लेह-लद्दाख की इन जगहों को देखना बिल्कुल मिस न करें। जो आपके इस ट्रिप को बना देंगी हमेशा के लिए यादगार। 

स्पितुक मठ

View this post on Instagram

A post shared by Pictionary By Hemendra (@pictionarybyhemendra)

स्पितुक मठ लद्दाख के लेह में स्थित है। इस तिब्बती बौद्ध मठ को “पेथुप गोम्पा” के नाम से भी जाना जाता है। इस मठ की खासियत है कि यहां हिंदू धर्म के देवी-देवताओं की भी प्रतिमा है। मठ के पीछे बहती नदी इस जगह की खूबसूरती को और बढ़ा देती है। स्पितुक मठ करीब 100 बौद्ध भिक्षुओं का निवास स्थान भी है। तो इस जगह को अपने लिस्ट में जरूर शामिल करें।

नुब्रा वैली

लद्दाख के खूबसूरत पहाड़ों में बसी नुब्रा वैली यहां की सबसे खूबसूरत जगह है। नुब्रा का मतलब "फूलों की घाटी" इस वजह से इसे लद्दाख के बाग के नाम से भी जाना जाता है। चारों ओर ऊंचे-ऊंचे रंग-बिरंगे पहाड़, ग्लेशियर, नदियां यहां की सुंदरता में चार चांद लगाने का काम करते हैं। नुब्रा घाटी ऊंट की सवारी के लिए मशहूर है। लेह-लद्दाख की यह जगह पैसा वसूल है। जो आपके ट्रिप को यादगार और शानदार बना देगी।  

खारदुंग ला

खार्दूंग ला दर्रा या खार्दूंग पास, दुनिया की सबसे ऊंची वाहन चलाने योग्य सड़कों में से एक है। जहां ड्राइव करना वाकई एक रोमांचक अनुभव है। इसे लोअर कासल दर्रे के रूप में भी जाना जाता है। खारदुंग ला पास समुद्र तल से तकरीबन 18,380 फीट की ऊंचाई पर स्थित है। तो इस जगह को भी देखने का मौका मिस न करें।

जंस्कार वैली

View this post on Instagram

A post shared by Pictionary By Hemendra (@pictionarybyhemendra)

यह खूबसूरत घाटी लद्दाख से करीब 105 किमी. की दूरी पर स्थित है। यह 5,000 किमी. क्षेत्र में फैली घाटी है। बर्फ से ढके पहाड़, खूबसूरत नदियों का संगम इस घाटी के आकर्षण को बढ़ाने का काम करते हैं। आप यहां ट्रेकिंग और रिवर राफ्टिंग के मजे भी ले सकते हैं। सर्दियों में ये घाटी पूरी तरह से जम जाती है। जिसमें लोग ट्रैकिंग के लिए आते हैं।

पैंगोंग लेक

View this post on Instagram

A post shared by Pictionary By Hemendra (@pictionarybyhemendra)

पैंगोंग झील दुनिया की सबसे बड़ी और अनोखी झीलों में से एक है। जिसे पैंगोंग त्सो भी कहा जाता है। झील का नीला पानी और आसपास ऊंचे-ऊंचे पहाड़, ऐसी खूबसूरती जिसे यहां के अलावा कहीं और नहीं देखा जा सकता। झील का पानी बहुत ही साफ रहता है इसकी एक वजह इसका खारापन है जिस वजह से यहां मछली और अन्य कोई जलीय जंतु नहीं रहते।

View this post on Instagram

A post shared by Pictionary By Hemendra (@pictionarybyhemendra)

जैसे-जैसे सूर्य के किरणों की स्थिति बदलती जाती है वैसे-वैसे इस झील के पानी का रंग भी। इस झील के पानी का रंग एक दिन में ही कभी नीला, कभी हरा तो कभी-कभी लाल भी देखने को मिलता है, जिसे देखना वाकई अद्भुत है।

Pic credit- pictionarybyhemendra/Instagram

Edited By: Priyanka Singh