दिल्ली का दिल यानी कनॉट प्लेस में गोवा की धड़कने भी बसी हैं। सीपी काएक कोना ऐसा भी है जहां अब गोवा का दिल धड़कने लगा है। मीलों दूर जाए बिना वहां के समंदर में उठती लहरों के नजारे, जायके और गीत संगीत सब मिलेगा इस लेडी बागा रेस्त्रां में : 

इस अनूठे रेस्त्रां में गोवा के रंगीन व आकर्षक इंटीरियर के साथ वहां की हिप्पी लाइफ स्टाइल के रंग भी यहां बिखरे पड़े हैं। और गोवा के तटों का नजारा और वहां के खास मसालों से तैयार लजीज जायके भी हैं। 

रेतीले किनारों पर सागर की बलखाती लहरें, फूस की बनी झोपड़ी, बीच पर रखी लकड़ी की मेज, दूर किनारों पर उगे नारियल के पेड़, गोवा के लोकगीतों की मदमस्त धुनें और वहां के लजीज जायकों का आनंद, अब चंद कदमों की दूरी पर है। दौड़ भाग भरी रोजमर्रा की जिंदगी में कुछ पलों को गोवा के नाम करने के लिए कनॉट प्लेस के आउटर सर्कल स्थित लेडी बागा में जा सकते हैं। लेडी बागा रेस्त्रां में प्रवेश करते ही गोवा के समुद्री तटों से आती ठंडी हवाएं, दीवारों से लोगों का स्वागत करती लहरें और फर्श पर बिखरी रेत को देख कर ही दिल इन्हीं नजारों में खो सा जाता है। कहीं रेतीली भूमि है, तो कहीं रंग बिरंगे कुशन, पर्दों से सजी बैठक, जिसे देख हर किसी का मन खिल उठेगा। बेत की कुर्सियों व मेज पर रखे मेन्यू का अंदाज भी जुदा है। बिंदास महिलाओं के जज्बे के साथ यहां के मेन्यू में ढेर सारी वैरायटी है। इसी बीच सीलिंग पर लगी रंग बिरंगी रौशनी करती लाइटों पर भी निगाह ठहरती हैैं। गीत संगीत के खुशनुमा माहौल के बीच स्टार्टर आने का सिलसिला शुरू होता है।

यहां के स्टार्टर में मिस्टर बीन, पीरी पीरी पनीर, चिप्स व डिप्स, फादर लॉरेंजो चोङ्क्षरजो, मैजिक मशरूम, स्टफ्ड टिक्की के साथ गोवा के खास ड्रिंक का लुत्फ लिया जा सकता है। इस रेस्त्रां में बार भी मौजूद है लेकिन यहां पर मॉकटेल का आनंद लेने का मजा ही कुछ और है। यहां चोङ्क्षरजो ब्लडी मैरी, बोंग बोंग जैसे खास ड्रिंक का आनंद लिया जा सकता है। जब खाने का आगाज इतना बेहतरीन है, तो आगे के जायके के सफर में बहुत कुछ नया होना लाजमी है। मेन कोर्स के जायके लज्जत से भरे हैं। यहां कोंकणी सुस्वाद से लबरेज चार तरह की थाली तैयार की जाती है इसमें वेज, मटन, फिश और चिकन थाली शामिल है।

गोवा के स्वाद में सबसे खास और लोकप्रिय झींगा मछली और उसकी करी यहां के खास व्यंजनों में से एक है। गोवा के खास लाल चावल और उसके साथ नारियल के स्वाद में रची बसी करी का लुत्फ भी यहीं लिया जा सकता है। रेस्त्रां का खास व्यंजन वंदालू, क्रैब करी, चिकन करी है। भले यह नॉनवेज डिश है लेकिन बनाने का तरीका कोंकणी है। अब मीठे की बारी है। गोवा के व्यंजनों में मीठे में भी कई अनसुनी वैरायटी है। कोकम ब्रूली, कोका कबाना के साथ कई तरह की आइसक्रीम का स्वाद भी लिया जा सकता है। रेस्त्रां की मैनेजर मानसी बताती हैैं कि गोवा में जो बेफिक्री और मौज मस्ती का अंदाज देखने को मिलता है उसी मिजाज को दिल्ली में लाने की कोशिश की गई हैै। यहां के मेन्यू में मौजूद तकरीबन सारे जायके खालिस कोंकणी हैं। खाना बनाने से लेकर परोसने तक में वहां की परंपरा का खास ख्याल रखा जाता है इसलिए यह रेस्त्रां गोवा की तरह एकदम अलग है। 

प्रस्तुति : विजयालक्ष्मी, नई दिल्ली 

Posted By: Babita Kashyap

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस