नई दिल्ली, लाइफस्टाइल डेस्क। कोरोना वायरस महामारी की दूसरी लहर के चलते हरिद्वार कुंभ मेला को संक्षिप्त करने को लेकर अटकलें तेज हो गई है। हालांकि, आधिकारिक तौर पर कोई सुचना जारी नहीं की गई है। इस बारे में कुंभ मेला ऑफिसर दीपक रावत ने कहा कि कोरोना वायरस महामारी की दूसरी लहर के बीच कुंभ मेला को संक्षिप्त या छोटा करने का कोई आदेश नहीं मिला है। इससे पहले उत्तराखंड हाई कोर्ट ने 31 मार्च को राज्य सरकार को कुंभ मेला के दौरान प्रतिदिन 50 हजार कोरोना टेस्ट (RT-PCR) का निर्देश दिया था।

हाई कोर्ट के आदेश पर राज्य सरकार ने हाई कोर्ट में कहा कि प्रतिदिन 39 हजार कोरोना टेस्ट (RT-PCR) किया जा रहा है। आपको बता दें कि कुंभ मेला का अंतिम शाही स्नान 27 अप्रैल को है। जबकि, हरिद्वार कुंभ मेला का समापन 30 अप्रैल को है। वहीं, तीर्थ सिंह रावत ने हरिद्वार कुंभ मेला के सफल आयोजन के लिए साधु-संत समाज को धन्यवाद किया। वहीं, श्रधालुओं को  श्रद्धालुओं को गृह मंत्रालय की तरफ से जारी गाइडलाइन का सख्ती से पालन करना होगा। आइए जानते हैं कि गृह मंत्रालय का नई गाइडलाइन क्या है-

गृह मंत्रालय का गाइडलाइन

राज्य सरकार ने 12 राज्यों के लोगों के लिए कोरोना नेगेटिव टेस्ट रिपोर्ट अनिवार्य कर दिया है। इसके तहत पर्यटकों और श्रधालुओं को अपने साथ RT-PCR नेगेटिव टेस्ट लाना अनिवार्य होगा। खबरों की मानें तो महाराष्ट्र, केरल, पंजाब, कर्नाटक, छत्तीसगढ़, मध्य प्रदेश, तमिलनाडु, हरयाणा, गुजरात, उत्तर प्रदेश, दिल्ली और राजस्थान के लोगों को हरिद्वार में प्रवेश के लिए  RT-PCR नेगेटिव टेस्ट लाना अनिवार्य कर दिया गया है।

वहीं, RT-PCR नेगेटिव टेस्ट 72 घंटे पहले की होनी चाहिए। अगर किसी व्यक्ति के पास RT-PCR नेगेटिव टेस्ट रिपोर्ट नहीं होगी अन्यथा 72 घंटे से अधिक पुरानी होगी, तो उसे हरिद्वार में प्रवेश की अनुमति नहीं होगी। आपको बता दें कि 27 अप्रैल को अंतिम शाही स्नान है। इस दिन काफी संख्या में श्रद्धालु आ सकते हैं। इसके लिए कड़े नियम बनाए गए हैं।

Edited By: Umanath Singh