नई दिल्ली, लाइफस्टाइल डेस्क। मुंबई को माया नगरी कहा जाता है। बॉलीवुड के चलते मुंबई दुनियाभर में प्रसिद्ध है। इसे भारत की आर्थिक राजधानी भी कहा जाता है। मुंबई में कई पर्यटन स्थल हैं, जो अपनी धार्मिक और ऐतिहासिक विशेषता के लिए जाता है। हर साल दुनियाभर से पर्यटक मुंबई आते हैं। अगर आप भी धार्मिक यात्रा पर जाना चाहते हैं, तो मुंबई की प्लानिंग कर सकते हैं। हालांकि, कोरोना काल में यात्रा के दौरान आवश्यक सावधानियां सावधानियां जरूर बरतनी चाहिए। आइए, इन मंदिरों के बारे में जानते हैं-

सिद्धिविनायक मंदिर

मुंबई के प्रभादेवी में सिद्धि विनायक मंदिर स्थित है। मंदिर में भगवान गणेश की प्रतिमा स्थापित है। इसकी स्थापना साल  1801 में की गई थी। श्रद्धालुओं की भगवान में असीम विश्वास है। हर मंगलवार को भारी संख्या में श्रद्धालु बप्पा का दर्शन कर आशीर्वाद लेते हैं।

बाबुलनाथ मंदिर

इस मंदिर में भगवान शिव की प्रतिमा स्थापित है। यह मुंबई के मालाबार क्षेत्र में स्थित है। बाबुलनाथ मंदिर में मारवाड़ी और गुजराती समुदाय के लोग की अगाध श्रद्धा है। यह मंदिर बिल्कुल कैलाश पर्वत की तरह है।

वाळकेश्वर मंदिर

ऐसा माना जाता है कि मर्यादा पुरषोत्तम भगवान राम ने बालू से शिवलिंग बनाकर शिव जी की पूजा की थी। वाळकेश्वर का शाब्दिक अर्थ भगवान शिव है। इस मंदिर में हिंदुस्तानी क्लासिकल म्यूजिक फेस्टिवल आयोजित किया जाता है।

मुंबा देवी

मंदिर यह मुंबई में सबसे पुराना मंदिर में से एक है। इस मंदिर के नाम पर ही मुंबई शहर का नाम रखा गया है। सोमवंशी क्षत्रिय और कृषि समाज के लोग मुंबा देवी की अगाध श्रद्धा है। हर रोज काफी संख्या में लोग मुंबा देवी दर्शन करने आते हैं।

महालक्ष्मी मंदिर

इस मंदिर की स्थापना सन 1831 ईस्वी में हुई थी और मंदिर में मां दुर्गा, सरस्वती और लक्ष्मी जी की मूर्ति स्थापित है। ऐसा माना जाता है कि इसे हिंदू व्यवसायी ने बनवाया था। यहां से आप समुद्र का बेहतरीन नजारा देख सकते हैं। नवरात्रि के दिनों में यहां काफी संख्या में लोग माता के दर्शन हेतु आते हैं।

Edited By: Umanath Singh