नई दिल्ली, लाइफस्टाइल डेस्क। कोरोना वायरस महामारी से आम जनजीवन पर प्रतिकूल प्रभाव पड़ा है। खासकर पर्यटन क्षेत्र पर इसका व्यापक असर पड़ा है। हालांकि, लंबे समय के बाद पर्यटन स्थलों को खोला जा रहा है। इस क्रम में तकरीबन आठ महीने के बाद चेन्नई के मरीना बीच को पर्यटकों के लिए खोल दिया गया है। इसके अतिरिक्त तमिलनाडु के सभी समुद्र तट और पर्यटन स्थलों को सोमवार से खोल दिया गया है। पहले दिन ही मरीना बीच पर काफी संख्या में भीड़ जुटी और लोगों ने मरीना बीच पर जमकर मस्ती की। इससे न केवल आम लोग खुश हैं, बल्कि मरीना बीच पर दुकान करने वाले वेडंर्स भी खुशियां मना रहे हैं और उन्होंने सरकार द्वारा मरीना बीच खोलने के फैसले का स्वागत किया है। इससे पहले आठ मार्च से कोरोना वायरस महामारी के चलते मरीना बीच को  पर्यटकों के लिए पूरी तरह से बंद कर दिया गया था। इसके चलते दुकान भी बंद पड़े थे।

खबरों की मानें तो सोमवार को लंबे समय के बाद मरीना बीच को खोला गया और पहले दिन ही बच्चे-बड़े सभी कोरोना बीच पर एंजॉय करने पंहुचे। काफी संख्या में मरीना बीच पर पर्यटकों को दिनभर देखा गया। इससे पहले राज्य सरकार ने अधिसूचना जारी कर कोरोना वायरस को रोकने के नियमों में आराम दिया गया है। वहीं, एक साथ 200 लोगों को मरीना बीच पर जाने की अनुमति दी गई है। हालांकि, इसमें संशोधन का प्रावधान है। इसके लिए सुविधा अनुसार, पर्यटकों की संख्या घटाई अथवा बढ़ाई जा सकती है।

जबकि, ग्रेटर चेन्नई कॉरपोरेशन ने मरीना बीच के विक्रेताओं को आधुनिक पुशकार्ट यानी की ठेला गाड़ी आवेदन प्रस्तुत करने के लिए आमंत्रित किया है। इस बारे में अधिक जानकारी देते हुए  ग्रेटर चेन्नई कॉरपोरेशन के अधिकारियों ने कहा कि राजस्व अधिकारी विभाग में 21 दिसंबर से 26 दिसंबर तक फॉर्म उपलब्ध होंगे। विक्रेताओं को दो सेट फॉर्म भरने होंगे, जबकि अधिकारी 6 जनवरी को अंतिम सूची जारी करेंगे।

Edited By: Umanath Singh