दिल्ली, लाइफस्टाइल डेस्क। Happy World Teachers Day 2022: आज विश्व शिक्षक दिवस है। यह हर साल 5 अक्टूबर को दुनियाभर में एक साथ मनाया जाता है। हालांकि, भारत में शिक्षक दिवस 5 सितंबर को मनाया जाता है। इसका मुख्य मकसद शिक्षा के क्षेत्र में शिक्षकों के सहयोग के लिए उन्हें सम्मानित करना है। साथ ही शिक्षकों के प्रति सम्मान और स्नेह प्रकट करना है। इस मौके पर स्कूल और कॉलेज में शिक्षक और प्रोफेसर को सम्मानित किया जाता है। साल 1994 में शिक्षक दिवस मनाने की घोषणा की गई। उसके बाद से हर साल 5 अक्टूबर को शिक्षक दिवस मनाया जाता है। भारत में शिक्षक दिवस 5 सितंबर को डॉ. सर्वपल्ली राधाकृष्णन के जन्मदिन के उपलक्ष्य पर मनाया जाता है। आइए विश्व शिक्षक दिवस के इतिहास और महत्व को जानते हैं-

विश्व शिक्षक दिवस का इतिहास

दुनियाभर में विश्व शिक्षक दिवस अलग-अलग तारीखों को मनाया जाता है। भारत में 5 सितंबर को और चीन में 27 अगस्त को मनाया जाता है। वहीं, रूस समेत अनेक देशों में 5 अक्टूबर को शिक्षक दिवस मनाया जाता है। जानकारों की मानें तो 5 अक्टूबर 1966 को पेरिस में एक कांफ्रेंस का आयोजन किया गया था। इस कॉन्फ्रेंस में शिक्षकों के सम्मान में शिक्षक दिवस मनाने की सिफारिश की गई। इस सिफारिश को यूनेस्को ने स्वीकार कर लिया था। साल 1994 में 5 अक्टूबर को विश्व शिक्षक दिवस मनाने का फैसला लिया गया। उस समय से हर साल 5 अक्टूबर को शिक्षक दिवस मनाया जाता है।

विश्व शिक्षक दिवस का महत्व

व्यक्ति जीवन भर सीखता रहता है। अंग्रेजी की एक कहावत है-No Body Is Perfect.हालांकि, गुरु के शरण और चरण में रहने से व्यक्ति जीवन में अवश्य सफल होता है। गुरु के बिना ज्ञान नहीं मिलता है। इसके लिए शिक्षक दिवस का विशेष महत्व होता है। गुरु, शिष्य के जीवन में व्याप्त व्याप्त अंधकार को मिटाकर प्रकाश फैलाते हैं। जिस तरह व्यक्ति इच्छा प्राप्ति के लिए ईश्वर की भक्ति करता है। ठीक उसी तरह व्यक्ति को जीवन में सफल होने के लिए सत्य गुरु की खोज करनी चाहिए। एक बार गुरु मिल जाए, तो उनकी सेवा और भक्ति करनी चाहिए। इससे व्यक्ति अपने जीवन में सब कुछ हासिल कर सकता है।

Edited By: Pravin Kumar

जागरण फॉलो करें और रहे हर खबर से अपडेट