नई दिल्ली, लाइफस्टाइल डेस्क। Father's Day Date 2021: हर साल जून महीने के तीसरे रविवार को पिता के कर्तव्यों के निर्वहन के लिए उनके प्रति सम्मान और आभार व्यक्त करने हेतु दुनियाभर में फादर्स डे मनाया जाता है। हिंदी में इसे पितृ यानी पिता दिवस कहा जाता है। इस साल 20 जून को फादर्स डे है। दुनियाभर में अलग-अलग तारीखों को फादर्स डे मनाया जाता है। भारत और अमेरिका समेत कई अन्य देशों में यह जून महीने के तीसरे रविवार को मनाया जाता है। इसका मुख्य मकसद पिता के निःस्वार्थ कर्तव्य और सेवा के लिए लोगों को जागरूक करना और पिता को धन्यवाद देना है। साल 1924 में अमेरिका के तत्कालीन राष्ट्रपति कैल्विन कोली ने फादर्स डे मनाने की पहली बार (अधिकारिक) अनुमति दी। हालांकि, साल 1966 में अमेरिकी राष्ट्रपति लिंडन जानसन ने जून महीने के तीसरे रविवार को 'पिता दिवस' मनाने की घोषणा की। उस समय से हर साल फादर्स डे जून महीने में मनाया जाता है। इससे पहले 19 जून को फादर्स डे मनाया जाता था। आइए, इसके बारे में सबकुछ जानते हैं-

फादर्स डे का इतिहास

दुनिया में पहली बार साल 1907 में अनाधिकृत और साल 1910 में आधिकारिक रूप से फादर्स डे मनाया गया था। जानकारों में फादर्स डे मनाए जाने को लेकर वैचारिक मतभेद हैं। कई जानकारों का कहना है कि पहली बार फादर्स डे 19 जून, 1907 को मनाया गया था। जब वर्जीनिया के एक खनन उद्योग में विस्फोट के चलते 200 से अधिक श्रमिकों की मौत हो गई थी। उस समय लोगों ने मृत श्रमिकों के प्रति संवेदना प्रकट करते हुए फादर्स डे मनाया था।

वहीं, कई जानकर सोनोरा स्मार्ट डोड की कहानी को को सच मानते हैं। इतिहासकारों की मानें तो सोनोरा स्मार्ट डोड की मां की मौत के बाद उसका पालन-पोषण पिता विलियम स्मार्ट ने की। एक बार की बात है जब डोड रविवार को चर्च में प्रार्थना के लिए गई थी। उस दिन चर्च के पादरी यानी बिशप मातृत्व शक्ति विषय पर उपदेश दे रहे थे। बिशप के उपदेश से डोड बहुत प्रभावित हुई।

हालांकि, डोड की मां नहीं थी और डोड समेत सभी भाई-बहनों की परवरिश उनके पिता कर रहे थे। इसके लिए डोड मदर्स डे की तर्ज पर फादर्स डे मनाने की सोची। इसके बाद 19 जून 1909 को पहली बार डोड ने फादर्स डे मनाया। हालांकि, लोगों ने डोड के ऐतिहासिक कदम की सराहना नहीं की, लेकिन बाद में पिता के कर्तव्यों, निःस्वार्थ सेवा और समर्पण की अहमियत का पता चला। आज दुनियाभर में पिता दिवस मनाया जाता है।

Edited By: Pravin Kumar