नई दिल्ली, लाइफस्टाइल डेस्क। National Pollution Control Day 2022: प्रदूषण इस समय पूरे दुनिया की एक बड़ी समस्या बना हुआ है। विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) के अनुसार, लगभग 2.4 बिलियन लोग वायु प्रदूषण के संपर्क में हैं। पटाखे फोड़ना, सड़क पर वाहन, कारखानों से निकलने वाला धुआं, फसलों को जलाना, गैस का रिसाव आदि प्रदूषण बढ़ाने के प्रमुख कारण हैं। जहरीला हवा का असर कितना डरावना हो सकता है, यह आज से 38 साल पहले भोपाल की विनाशकारी गैस त्रासदी ने सबको बताया। इस हादसे में मारे गए लोगों की याद में हर साल 2 दिसंबर को भारत में राष्ट्रीय प्रदूषण नियंत्रण दिवस के रूप में मनाया जाता है।

इस दिन को मनाने का मकसद लोगों को प्रदूषण को लेकर जागरूक बढ़ाना है। खासकर उन उद्योगों को, जो वायु, जल, मिट्टी और ध्वनि प्रदूषण के प्रमुख कारक है। यह बेहद जरूरी है कि लोगों को प्रदूषण के बारे में जागरूक किया जाए और यह भी बताया जाए कि उन्हें पर्यावरण को स्वच्छ रखने में मदद करना चाहिए।

चिंता की बात यह है कि दुनियाभर में 10 में से 9 लोग खराब हवा में सांस लेने को मजबूर हैं। जिसकी वजह से वे सांस से जुड़ी बीमारियों, फेफड़ों का कैंसर, ब्रेन या किडनी की क्षति और दिल की बीमारियों से जूझते हैं। सर्दियों का मौसम आते ही उत्तर भारत में हवा की गुणवत्ता खराब होती चली जाती है। गंभीर प्रदूषण सुबह-शाम घर से बाहर निकलने वालों की सेहत पर बुरा असर डालता है। हालांकि, कुछ ऐसे तरह के फूड्स हैं, जो आपकी इम्यूनिटी को बढ़ावा देने के साथ प्रदूषण के असर को भी कम करती हैं। जानते हैं ऐसे ही कुछ फूड आइटम्स के बारे में-

वायु प्रदूषण से बचने के लिए क्या खाएं?

  1. सेब में फेलोनिक एसिड्स और फ्लेवोनॉइड्स होते हैं, जो प्रदूषण की वजह से वायु मार्ग में होने वाली सूजन को कम करते हैं। अन्नास में भी ऐसे एंज़ाइम्स होते हैं, जो वायु मार्ग की सूजन को कम करते हैं और खांसी को कंट्रोल करते हैं।
  2. ग्रीन-टी भी एंटीऑक्सीडेंट्स से भरपूर होती है, जो प्रदूषण से होने वाली कई तरह की एलर्जी से लड़ती है और वायु मार्ग को साफ करती है। हालांकि, ज़रूरत से ज़्यादा ग्रीन-टी न पिएं। इसकी जगह पानी पी लें, इससे शरीर से टॉक्सिन्स बाहर निकल जाते हैं।
  3. टमाटर विटामिन्स और खनिज पदार्थ को उच्च स्त्रोत हैं, जो श्वसन से जुड़ी दिक्कतों से दूर रखते हैं।
  4. धनिया, सहजन की फलियां, अजवायन के पत्ते भी आपकी इम्यूनिटी को मज़बूती देने का काम करते हैं।
  5. पुदीना फेफड़ों को उत्तेजित करने में मदद करता है और श्वसन पथ को शांत करता है। आप पुदीने की चाय भी पी सकते हैं।
  6. अदरक आपको वायुमार्ग से प्रदूषकों को हटाने और फेफड़ों की जलन को कम करने में मदद करता है।
  7. हल्दी में कई गुण होते हैं, जो सर्दी और खांसी से छुटकारा दिलाने में मदद करते हैं।
  8. तुलसी गेल के खराश से छुटकारा दिलाने में कारगर साबित होती है। आप तुलसी की चाय पी सकते हैं याफिर सूप में तुलसी के पत्तों को डाल सकते हैं। इसके अलावा तुलसी के कच्चे पत्तों को चबाना भी लाभदायक होता है।
  9. आप काली मिर्च, लौंग, दालचीनी, शहद, हल्दी को मिलाकर काढ़ा भी तैयार कर सकते हैं। लेकिन इसके सेवन से पहले एक्सपर्ट से सलाह कर लें।

Disclaimer: लेख में उल्लिखित सलाह और सुझाव सिर्फ सामान्य सूचना के उद्देश्य के लिए हैं और इन्हें पेशेवर चिकित्सा सलाह के रूप में नहीं लिया जाना चाहिए। कोई भी सवाल या परेशानी हो तो हमेशा अपने डॉक्टर से सलाह लें।

Picture Courtesy: Pexels

Edited By: Ruhee Parvez

जागरण फॉलो करें और रहे हर खबर से अपडेट