नई दिल्ली, रूही परवेज़। Bariatric Surgery: दुनियाभर में मोटापे की समस्या लगातार बढ़ रही है। इसके पीछे हमारी खराब जीवनशैली, गलत खानपान और एक्सरसाइज़ की कमी है। जिन लोगों के शरीर का वज़न हद से ज़्यादा बढ़ जाता है, वे कई तरह की गंभीर बीमारियों के शिकार हो जाते हैं। आपको बता दें मोटापा की वजह से डायबटीज़, स्लीप एपनिया, गठिया, हाई ब्लड प्रेशर, हाई कोलेस्ट्रॉल और स्ट्रोक जैसी घातक बीमारियां को जन्म देता है। इसलिए, अपने शरीर का हेल्दी वज़न बनाए रखना ज़रूरी होता है।

जो लोग डाइट, एक्सरसाइज़ और डाइटिंग करने के बावजूद वज़न कम नहीं कर पाते हैं, उनके लिए बैरिएट्रिक सर्जरी का ऑप्शन होता है। बेरिएट्रिक सर्जरी वजन कम करने में बेहद फायदेमंद साबित होती है, लेकिन कुछ ही समय पहले तुर्की की एक महिला की इस सर्जरी के दौरान ही मौत हो गई। यह महिला आयरलैंड से अपनी सर्जरी के लिए तुर्की आई थी। हालांकि, अभी तक उसकी मौत की वजह की ऑफिशियल जानकारी सामने नहीं आई है। तो आज हेल्थ एक्सपर्ट्स से जानते हैं कि यह कितनी सुरक्षित होती है और किन बातों का ख्याल रखना ज़रूरी है।

बैरिएट्रिक सर्जरी कब की जाती है?

लखनऊ के रीजेंसी सुपरस्पेशलिटी अस्पताल में एमएस एम.सी.एच. (जीआई सर्जरी) के वरिष्ठ सलाहकार, डॉ. प्रदीप जोशी ने बताया, "गैस्ट्रिक बाईपास और अन्य वजन घटाने वाली सर्जरी को बेरिएट्रिक सर्जरी के रूप में जाना जाता है। जिसमें ज़रूरत से ज़्यादा वज़न से परेशान व्यक्ति की वजन घटाने में मदद करने के लिए पाचन तंत्र में बदलाव किए जाते हैं। बैरिएट्रिक सर्जरी तब की जाती है, जब एक स्वस्थ आहार और व्यायाम से भी व्यक्ति अपना वजन कम नहीं कर पाता है या जब कोई व्यक्ति अपने वजन के कारण मधुमेह और उच्च रक्तचाप जैसी गंभीर स्वास्थ्य समस्याओं से पीड़ित होता है। यह सर्जरी लंबे समय में वजन घटाने और रक्तचाप में सुधार दोनों में फायदा कर सकती है। इसकी वजह से डायबिटीज और हाई बीपी की वजह से ऑर्गन डैमेज जैसे नुकसान की संभावना कम हो सकती है।

बैरिएट्रिक सर्जरी के क्या फायदे हैं?

नोएडा के फोर्टिस अस्‍पताल में जनरल सर्जरी के एडिशनल डायरेक्‍टर, डॉ. वी.एस. चौहान ने बताया कि बैरिएट्रिक सर्जरी अपने आप में एक सुरक्षित प्रक्रिया है, खासतौर से हाल के वर्षों में सर्जरी के क्षेत्र में हुई प्रगति के मद्देनज़र यह बेहद सुरक्षित बन चुकी है।

  • बैरिएट्रिक सर्जरी मोटापे के शिकार लोगों के लिए वज़न घटाने में मदद देने वाली महत्‍वपूर्ण और दीर्घकालिक विकल्‍प है।
  • साथ ही, यह भी देखा गया है कि बैरिएट्रिक सर्जरी कराने वाले ज़्यादातर मरीज़ों में शरीर का वज़न निरंतर कम होने लगता है।
  • उनकी सामान्‍य हैल्‍थ में भी सुधार होता है।
  • हैल्‍दी वेट हासिल करने से स्‍लीप एप्निया, टाइप-2 डायबिटीज़ से भी छुटकारा मिल सकता है।
  • साथ ही, हाई ब्‍लड प्रेशर में भी सुधार आता है, जो कि आगे चलकर लंबे और सेहतमंद जीवन के लिहाज़ से मददगार है।

कौन करवा सकता है बैरिएट्रिक सर्जरी?

ओबेसिटी एंड मेटाबॉलिक सर्जरी सोसाइटी ऑफ इंडिया (OSSI) के दिशानिर्देशों के अनुसार, 35 और उससे अधिक बीएमआई वाले व्यक्तियों को बैरिएट्रिक सर्जरी का सुझाव दिया जाता है। कुछ मामलों में, 30 और उससे अधिक बीएमआई वाले व्यक्ति भी दो संबंधित बीमारियों जैसे कि टाइप-2 मधुमेह, उच्च रक्तचाप, उच्च कोलेस्ट्रॉल, आदि की उपस्थिति में इस सर्जरी के लिए योग्य है। बैरिएट्रिक या वेट लॉस सर्जरी के लिए योग्य व्यक्ति को सर्जरी से पहले अपने आहार से संबंधित कुछ महत्वपूर्ण निर्देशों का पालन करने के लिए कहा जाता है। यह व्यक्ति के नैदानिक प्रोफाइल और वजन के आधार पर 7 से 15 दिनों के लिए हो सकता है। उन्हें कार्बोहाइड्रेट से भरपूर खाद्य पदार्थों से बचने के लिए भी कहा जाता है और प्रोटीन से भरपूर खाद्य पदार्थ लेने के लिए प्रोत्साहित किया जाता है।  सर्जरी से पहले धूम्रपान और शराब का सेवन बंद कर देना चाहिए।

सर्जरी के बाद किन बातों का ख्याल रखना ज़रूरी होता है

  • एक बार जब कोई व्यक्ति बैरिएट्रिक सर्जरी करवाता है, तो उसे 24 घंटे उपवास करने के लिए कहा जाता है।
  • इस अवधि के दौरान, उन्हें तरल पदार्थों पर रखा जाएगा।
  • सर्जरी के बाद पहले 15 दिनों तक उन्हें तरल पदार्थों पर रखा जाता है।
  • चरण 2 में, वे और 2 सप्ताह तक शुद्ध खाद्य पदार्थों पर रहेंगे। भोजन को अच्छी तरह चबाकर, धीरे-धीरे और छोटे हिस्से में खाने की सलाह दी जाती है।

कितनी सुरक्षित होती है बैरिएट्रिक सर्जरी?

  • बैरिएट्रिक सर्जरी कई लाभ प्रदान कर सकती है, लेकिन एक व्यक्ति को अपने आहार में स्थायी स्वास्थ्य परिवर्तन करना चाहिए और इस सर्जरी की दीर्घकालिक सफलता सुनिश्चित करने में सहायता के लिए नियमित व्यायाम करना चाहिए।
  • बैरिएट्रिक सर्जरी एक बहुत ही सुरक्षित प्रक्रिया है। यह लैप्रोस्कोपिक रूप से (बिना चीरा लगाए) किया जाता है और दर्द रहित होता है। सर्जरी के 4-5 घंटे के भीतर रोगी चलना शुरू कर देता है और सर्जरी के 8-10 घंटे के अंदर मरीज़ खाने-पीने भी लगता है।
  • यह कॉस्मेटिक प्रक्रिया के बजाय जीवन बदलने वाली और जीवन रक्षक प्रक्रिया है। रोगी अपने शरीर के अतिरिक्त वजन का 60-70% कुछ ही महीनों में कम कर देता है।

Disclaimer: बैरिएट्रिक सर्जरी आपके लिए सही उपचार है या नहीं, इस बारे में फैसला करने से पहले बैरिएट्रिक टीम के साथ अपने सभी सरोकारों और सवालों पर चर्चा अवश्‍य करें।

Edited By: Ruhee Parvez

जागरण फॉलो करें और रहे हर खबर से अपडेट