नई दिल्ली, लाइफस्टाइल डेस्क। सर्दियों का मौसम आते ही लोग खुद को गर्म रखने और ठंड में बीमार होने से बचने के लिए कई उपाय करते हैं। सर्दी आते ही लोग गर्म पानी से नहाना शुरू कर देते हैं। वहीं, कुछ लोग अपने खानपान में बदलाव करते हुए खुद को गर्म रखने की कोशिश करते हैं। इसके अलावा कई लोग ऐसे भी होते हैं, तो सर्दियों की शुरुआत होते ही घर में रूम हीटर का इस्तेमाल करने लगते हैं। बीते कुछ समय से बढ़ती ठंड की वजह से रूम हीटर का चलन काफी बढ़ गया है। लोग अक्सर ठंड से बचने के लिए हीटर का इस्तेमाल करते हैं।

लेकिन क्या आप जानते हैं कि सर्दी से बचने के लिए उपयोग में आने वाला यह हीटर आपकी सेहत के लिए हानिकारक हो सकता है। अगर आप भी सर्दी में रूम हीटर इस्तेमाल करते हैं, तो यह आर्टिकल आपके लिए काफी काम का साबित हो सकता है। तो जानते हैं रूम हीटर के इस्तेमाल से होने वाले नुकसानों के बारे में-

सांस संबंधी बीमारियों की वजह बन सकता हीटर

ठंड के दौरान घर में इस्तेमाल होने वाले हीटर हमारे आसपास के वातावरण को काफी प्रभावित करता है। दरअसल, हीटर न सिर्फ हवा में नमी को कम कर देता है, बल्कि इसके इस्तेमाल को दौरान कई हानिकारक गैस भी निकलती है, जो हमारी सेहत को नुकसान पहुंचा सकती है। ऐसे में हीटर कई सांस संबंधी बीमारियों की वजह बन सकता है। इसके अलावा यह अस्थमा के मरीजों के लिए भी काफी हानिकारक है।

आंखों को होता है नुकसान

हमारे शरीर में कई संवेदनशील अंग मौजूद हैं। इन्हीं अंगों में से एक आंखें न सिर्फ हमारा एक अहम अंग है, बल्कि इसे खास देखभाल की भी जरूरत होती है। लेकिन सर्दियों में हीटर का लगातार इस्तेमाल इसे नुकसान भी पहुंचा सकता है। दरअसल, आंखों के स्वस्थ रहने के लिए उनका गीला रहना काफी जरूरी होता है, लेकिन हीटर की वजह से हवा में मौजूद नमी सूख जाती है, जिसकी वजह से आंखें भी सूखने लगती हैं। ऐसे में आंखों में संक्रमण की संभावना भी बढ़ जाती है।

त्वचा के लिए हानिकारक हीटर

ज्यादा देर तक हीटर चलाने की वजह से हमारे आसपास मौजूद हवा में नमी खत्म हो जाती है। हवा में रूखपन आने से इसका त्वचा पर काफी बुरा असर पड़ता है। दरअसर, सूखे वातावरण की वजह से स्किन की नमी भी गायब होने लगती है और त्वचा रूखी होने लगती है। इतना ही नहीं रूखेपन की वजह से त्वचा फटने और इसमें इन्फेक्शन होने का खतरा भी काफी बढ़ जाता है।

दुर्घटना का कारण बन सकता है हीटर

लंबे समय तक हीटर जलाने की वजह से उसकी बाहरी सतह गर्म हो जाती है, जिससे हाथ जलने का खतरा बना रहता है। इसके अलावा नॉन-मैटेलिक केस में आने वाले हीटर ज्यादा गर्म होने पर अपने आसपास मौजूद चीजों जैसे कपड़ा, प्लास्टिक आदि को भी जला सकते हैं।

इन लोगों को नहीं करना चाहिए हीटर का इस्तेमाल

अगर आप अस्थमा या सांस संबंधी किसी भी तरह की बीमारी से ग्रसित हैं, तो आपको हीटर इस्तेमाल करने बचना चाहिए। आप चाहे तो आम हीटर की बजाय ऑयल हीटर का इस्तेमाल कर सकते हैं। इससे हवा में नमी बनी रहती है। साथ ही अगर साइनस या ब्रोंकाइटिस की समस्या है, तो भी हीटर के बचना चाहिए। इसके अलावा बच्चों और बुजुर्गों को खास तौर पर हीटर से दूरी बनाए रखनी चाहिए।

इन बातों को ध्यान में रखे करें हीटर का इस्तेमाल

  • अगर आप हीटर खरीद रहे हैं, तो कोशिश करें कि आप ऑयल हीटर खरीदें। इस तरह के हीटर हवा को शुष्क नहीं होने देते हैं।
  • हमेशा ध्यान रखें कि पूरी रात हीटर जलाकर न सोएं। आप सोने से एक-दो घंटे पहले इसे जलाकर रूम गर्म कर सकते हैं। लेकिन सोने से पहले इसे ध्यान से बंद कर दें।
  • जब भी हीटर चलाएं तो उसके आसपास एक बर्तन या कटोरी में पानी भरकर रख दें। इससे हवा में नमी बनी रहेगी और यह रूखेपन से बच सकेगी ।
  • हीटर का इस्तेमाल कर रहे हैं, तो अपनी त्वचा को अच्छी तरह से मॉइस्चराइज करें, ताकि यह सूखे नहीं। साथ ही आंखों की समस्या होने पर डॉक्टर से मिलें।
  • अस्थमा या हार्ट संबंधी समस्‍याओं से जूझ रहे व्यक्ति जितना हो सके कम से कम हीटर का इस्तेमाल करें।

Disclaimer: लेख में उल्लिखित सलाह और सुझाव सिर्फ सामान्य सूचना के उद्देश्य के लिए हैं और इन्हें पेशेवर चिकित्सा सलाह के रूप में नहीं लिया जाना चाहिए। कोई भी सवाल या परेशानी हो तो हमेशा अपने डॉक्टर से सलाह लें।

Picture Courtesy: Freepik

Edited By: Harshita Saxena

जागरण फॉलो करें और रहे हर खबर से अपडेट