Move to Jagran APP

Joint Pain: जोड़ों के दर्द में भूलकर भी न खाएं ये 5 चीजें, बढ़ सकती है परेशानी

फिट रहने के लिए जरूरी है कि शरीर में कैल्शियम की कमी न हो। आजकल का लाइफस्टाइल ऐसा हो गया है कि बड़े तो क्या बच्चे भी ज्वाइंट पेन से परेशान हैं। इसकी वजह भले ही कुछ भी हो लेकिन हम आज आपको ऐसी 5 चीजों के बारे में बताएंगे जो इस दर्द को बढ़ाने का काम करती हैं। आइए जान लीजिए ऐसी चीजें जिन्हें खाने से आपको बचना चाहिए।

By Nikhil Pawar Edited By: Nikhil Pawar Published: Tue, 12 Mar 2024 10:00 PM (IST)Updated: Tue, 12 Mar 2024 10:00 PM (IST)
जोड़ों के दर्द को बढ़ा सकती हैं ये 5 चीजें, जानिए इनके बारे में

लाइफस्टाइल डेस्क, नई दिल्ली। Joint Pain: आजकल के अनहेल्दी लाइफस्टाइल के कारण बड़े ही नहीं, बल्कि कम उम्र के लोग भी जोड़ों के दर्द का सामना कर रहे होते हैं। ज्वाइंट पेन से अगर आपका भी उठना-बैठना और चलना-फिरना आफत बन गया है, तो ये आर्टिकल आप ही के लिए है। बता दें, कि वैसे तो इस कंडीशन के पीछे कई कारण हो सकते हैं, लेकिन फिर भी खानपान में शामिल करने वाली कुछ चीजें ऐसी होती हैं, जो आपके इस दर्द को बढ़ाने यानी आग में घी देने का काम करती हैं। तो आइए फटाफट जान लीजिए ऐसी 5 चीजों के बारे में।

loksabha election banner

फ्राइड फूड्स

अगर आप भी जोड़ों में खिचाव या दर्द का सामना कर रहे हैं, तो बता दें, कि फ्राइड फूड्स खाना आपके लिए किसी भी सूरत में सही नहीं है। इस प्रकार का तला भुना खाने से आपके शरीर में यूरिक एसिड बढ़ता है, जिससे घुटने, कमर, कंधे और शरीर के अन्य हिस्सों में दर्द की तकलीफ बढ़ती है।

शुगरी फूड्स

अगर आप भी पैक्ड या प्रोसेस्ड फूड्स खाते हैं, या कोल्ड ड्रिंक और अन्य मीठी ड्रिंक्स पिए बिना आपको चैन नहीं पड़ता है, तो बता दें कि ये भी आपके ज्वाइंट पेन की वजह हो सकते हैं। चूंकि अब गर्मियां भी आ ही गई हैं, तो ऐसे में आपको सोडा आदि पीने की जगह घर पर बना ताजा जूस या शिकंजी ही लेनी चाहिए।

यह भी पढ़ें- Diabetes की समस्या का रामबाण इलाज हैं ये जड़ी-बूटियांं, शुगर कंट्रोल करने के साथ ही मिलेंगे कई फायदे

सोयाबीन

सोयाबीन से कई तरह की इंडियन डिशेज बनाई जाती हैं। आज इस आइटम में फास्ट फूड, मोमोज आदि भी खूब बनाए जा रहे हैं। बता दें, कि एक हद तक तो ठीक है, लेकिन अगर आप आए दिन सोयाबीन को डाइट में शामिल करते हैं, तो इससे भी आपको किनारा कर लेना चाहिए। ये भी आपके शरीर में यूरिक एसिड के लेवल में इजाफा कर सकती है, जो कि जोड़ों में दर्द का कारण बनता है।

ग्लूटेन रिच फूड्स

ग्लूटेन रिच फूड्स यानी गेहूं, जौ और राई से बनने वाली चीजें, जैसे- पास्ता आदि भी आपके जोड़ों के दर्द को बढ़ाने का काम करता है। यही वजह है कि गठिया की दिक्कत होने पर डॉक्टर्स इससे परहेज करने की सलाह देते हैं। अगर आपको इसका हेल्दी ऑप्शन ढूंढना ही है, तो आप ब्राउन राइस पास्ता ट्राई कर सकते हैं।

टमाटर

जोड़ों के दर्द से परेशान लोगों को अपने खानपान में टमाटर को भी सीमित कर देना चाहिए। चूंकि इसमें नाइट्रेट की अच्छी मात्रा पाई जाती है, जो ज्वाइंट पेन को ट्रिगर कर सकती है। जोड़ों के बीच गैप को बढ़ने की बात हो, या घुटनों-पैरों में आने वाली सूजन, दोनों ही स्थितियों में टमाटर आपको कम ही खाना चाहिए।

----

दोनों घुटनों के जोड़ो की रिप्लेसमेंट सर्जरी एक समय में करा सकते हैं? आइए जानते हैं एक्सपर्ट से

घुटने के गठिया या गंभीर समस्याओं से जूझ रहे लोगों के लिए घुटने के जोड़ की रिप्लेसमेंट सर्जरी करवाना एक काफी सामान्य और प्रभावी विकल्प है। आम तौर पर, मरीज़ों की रिकवरी को आसान बनाने के लिए एक समय में एक घुटने की सर्जरी की जाती है। लेकिन आजकल, अधिक से अधिक लोग दोनों घुटनों की सर्जरी एक साथ करवाने पर विचार कर रहे हैं। इस लेख में हम मुंबई के प्रसिद्ध घुटने के सर्जन डॉ. अमीन रजानी से जानेंगे कि किन कारकों के बारे में सोचना चाहिए, एक ही समय में दोनों घुटनों की सर्जरी कराने के फायदे और नुकसान।घुटने के गठिया या गंभीर समस्याओं से जूझ रहे लोगों के लिए घुटने के जोड़ की रिप्लेसमेंट सर्जरी करवाना एक काफी सामान्य और प्रभावी विकल्प है। आम तौर पर, मरीज़ों की रिकवरी को आसान बनाने के लिए एक समय में एक घुटने की सर्जरी की जाती है। लेकिन आजकल, अधिक से अधिक लोग दोनों घुटनों की सर्जरी एक साथ करवाने पर विचार कर रहे हैं। इस लेख में हम मुंबई के प्रसिद्ध घुटने के सर्जन डॉ. अमीन रजानी से जानेंगे कि किन कारकों के बारे में सोचना चाहिए, एक ही समय में दोनों घुटनों की सर्जरी कराने के फायदे और नुकसान।

बिलेटेरल घुटने रिप्लेसमेंट सर्जरी को समझना:

बिलेटेरल घुटने की रिप्लेसमेंट सर्जरी तब होती है जब आपके दोनों घुटनों के जोड़ों को एक ही बार में बदल दिया जाता है। यह गठिया या दोनों घुटनों में जोड़ों की समस्याओं से होने वाले दर्द, कठोरता और गतिशीलता संबंधी समस्याओं में मदद करने के लिए किया जाता है। हालांकि यह एक आसान समाधान जैसा लग सकता है, लेकिन ऐसे कई कारक हैं जिन पर सर्जरी का निर्णय लेने से पहले सावधानीपूर्वक विचार करने की आवश्यकता है।

बिलेटेरल घुटने के रिप्लेसमेंट के संकेत 

दोनों घुटनों में गंभीर गठिया:

दोनों घुटनों में गंभीर गठिया से पीड़ित लोगों को अक्सर बहुत अधिक दर्द और चलने-फिरने में परेशानी होती है। इसीलिए दोनों घुटनों को बदलवाने से दर्द को कम करने और जोड़ों के कार्य में सुधार करने में मदद मिल सकती है।

सिमेट्रिकल जॉइंट डिफोरमिटिस:

जब दोनों घुटनों में एक ही प्रकार की विकृति या गलत संरेखण हो, तो दोनों घुटनों को बदलने के लिए सर्जरी कराने से वे बेहतर हो जाएंगे और समान रूप से अच्छी तरह से काम कर पाएंगे।

एफिशेंट रिहेबिलेशन

एक ही समय में दोनों घुटनों की सर्जरी कराने से रिहेबिलेशन आसान और जल्दी हो जाता है क्योंकि मरीजों को केवल एक बार ही रिकवरी प्रक्रिया से गुजरना पड़ता है।

बिलेटेरल घुटना रिप्लेसमेंट के लाभ

व्यापक दर्द से राहत

व्यापक दर्द को कम करने के लिए दोनों घुटनों को एक के बाद एक सर्जरी करवाने की तुलना में एक ही समय पर बदलवाना कहीं बेहतर है। यह रोगियों को काफी बेहतर महसूस करने और तेजी से अपनी सामान्य दिनचर्या में वापस आने में मदद करता है।

सुव्यवस्थित रिकवरी प्रक्रिया

एक ही समय पर आप फिजिकल थेरेपी और रिहेबिलेशन के दौरान दोनों घुटनों पर ध्यान केंद्रित कर सकते हैं, जो उपचार प्रक्रिया को तेज करने में मदद करता है, जिससे रिकवरी प्रक्रिया तेज़ हो जाती है।

लागत प्रभावी समाधान

आपको बिलेटेरल घुटने का रिप्लेसमेंट सर्जरी एक महत्वपूर्ण निवेश की तरह लग सकता है, यह लंबे समय में लागत प्रभावी साबित होता है। मरीजों को अस्पताल में रहने, रिहेबिलेशन सत्र और चिकित्सा देखभाल की कुल अवधि पर बचत होती है।

बिलेटेरल घुटना रिप्लेसमेंट की प्रक्रिया

प्रीऑपरेटिव मूल्यांकन

बिलेटेरल घुटना के रिप्लेसमेंट से पहले, रोगियों को गहन प्रीऑपरेटिव मूल्यांकन से गुजरना पड़ता है। इसमें एक व्यापक शारीरिक परीक्षण, इमेजिंग अध्ययन और सर्जिकल प्रक्रिया के बारे में चर्चा शामिल है।

सर्जिकल हस्तक्षेप

सर्जरी के दिन, अनुभवी आर्थोपेडिक सर्जन दोनों घुटनों पर एक साथ प्रक्रिया करते हैं। यह विधि एक संतुलित और सममित संयुक्त रिप्लेसमेंट की गारंटी देती है, जिससे अंततः ऑपरेशन के बाद बेहतर परिणाम मिलता है।

पोस्टऑपरेटिव और रिहेबिलेशन

सर्जरी के बाद, हम एक रिहेबिलेशन कार्यक्रम शुरू करते हैं जो आपके घुटने की मांसपेशियों को मजबूत बनाने, लचीलेपन में सुधार करने और आपको आसानी से ठीक होने में मदद करने के लिए फिजिकल थेरेपी पर ध्यान केंद्रित करता है।

बिलेटेरल घुटना के रिप्लेसमेंट के जोखिम और विचार

जबकि बिलेटेरल घुटना के रिप्लेसमेंट से कई लाभ मिलते हैं, संभावित जोखिमों के बारे में जागरूक रहना आवश्यक है। इनमें शामिल हो सकते हैं:

रक्त की कमी होना: एक साथ सर्जरी से अधिक रक्त की हानि हो सकती है, जिसके लिए सावधानीपूर्वक निगरानी और संभावित रक्त-आधान की आवश्यकता होती है।

विस्तारित रिकवरी अवधि: हालांकि सुव्यवस्थित, एकतरफा घुटने के रिप्लेसमेंट की तुलना में रिकवरी अवधि अधिक बढ़ सकती है।

यह भी पढ़ें- किडनी हमेशा रहेंगी हेल्दी अगर कंट्रोल में रहेगा बीपी और शुगर का स्तर

Disclaimer: लेख में उल्लिखित सलाह और सुझाव सिर्फ सामान्य सूचना के उद्देश्य के लिए हैं और इन्हें पेशेवर चिकित्सा सलाह के रूप में नहीं लिया जाना चाहिए। कोई भी सवाल या परेशानी हो तो हमेशा अपने डॉक्टर से सलाह लें।

Picture Courtesy: Freepik


Jagran.com अब whatsapp चैनल पर भी उपलब्ध है। आज ही फॉलो करें और पाएं महत्वपूर्ण खबरेंWhatsApp चैनल से जुड़ें
This website uses cookies or similar technologies to enhance your browsing experience and provide personalized recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.