दिल्ली, लाइफस्टाइल डेस्क। Swertia Benefits: डायबिटीज रोग रक्त में शर्करा स्तर बढ़ने और अग्नाशय से इंसुलिन हार्मोन न निकलने के चलते होती है। यह एक ऐसी बीमारी है, जो एक बार लग जाने के बाद जिंदगी भर साथ रहती है। इस बीमारी को समाप्त नहीं किया जा सकता है। हालांकि, ब्लड शुगर को कंट्रोल किया जा सकता है। जानकारों की मानें तो लोगों की जीवनशैली में व्यापक बदलाव हुआ है। लोग खानपान और रहन-सहन को लेकर लापरवाह होते जा रहे हैं। इसके चलते मधुमेह, मोटापा, उच्च रक्तचाप और हृदय रोग का खतरा बढ़ा है। इनमें मधुमेह के मरीजों की संख्या में तेजी से बढ़ोत्तरी हो रही है। इसके लिए डाइट में सुधार करें, रोजाना एक्सरसाइज करें, मीठे चीजों से परहेज करें और तनाव से दूर रहें। इन नियमों के पालन करने से शुगर को आसानी से कंट्रोल किया जा सकता है। इसके अलावा, शुगर कंट्रोल करने के लिए आप रोजाना चिरायता का काढ़ा पी सकते हैं। इसके सेवन से शुगर कंट्रोल में रहता है। आइए, इसके बारे में सबकुछ जानते हैं-

हेल्थ एक्सपर्ट्स की मानें तो चिरायता में एंटी-डायबिटीज के गुण पाए जाते हैं। ये शुगर कंट्रोल करने में मददगार साबित होते हैं। साथ ही इंसुलिन के प्रोडक्शन में भी मदद करता है। इसके अलावा, चिरायता में एंटी इंफ्लामेटरी के गुण भी पाए जाते हैं, जो अग्नाशय के सेल्स को नुकसान नहीं होने देते हैं। इसमें क्षारीय तत्व-एन्ड्रोग्राफोलाइडस पाया जाता है, जो कई प्रकार की बीमारियों में रामबाण दवा है। इसका उपयोग खून साफ़ करने और इम्यून सिस्टम मजबूत करने के लिए किया जाता है।

कैसे करें सेवन

इसके लिए रात में सोने से पहले एक गिलास पानी में। एक चम्मच चिरायता भिगोकर रख दें। अगली सुबह को चाय छन्नी की मदद से चिरायता को छान लें। अब चिरायता पानी का सेवन करें। आप चाहे तो इसका काढ़ा तैयार करके भी सेवन कर सकते हैं। दूध में चिरायता पाउडर मिलाकर भी सेवन कर सकते हैं। इसके सेवन से शुगर कंट्रोल करने में मदद मिलती है।

डिस्क्लेमर: स्टोरी के टिप्स और सुझाव सामान्य जानकारी के लिए हैं। इन्हें किसी डॉक्टर या मेडिकल प्रोफेशनल की सलाह के तौर पर नहीं लें। बीमारी या संक्रमण के लक्षणों की स्थिति में डॉक्टर की सलाह जरूर लें।

Edited By: Pravin Kumar

जागरण फॉलो करें और रहे हर खबर से अपडेट