नई दिल्ली, लाइफस्टाइल डेस्क। सर्दी में अच्छी सेहत के लिए डाइट का ध्यान रखना बेहद जरूरी है। सर्दियों में हमारा शरीर ठंड से बचने के लिए खुद की कैलोरी बर्न करता है। इसके चलते इस मौसम में शरीर को सामान्य से ज्यादा कैलोरी की जरूरत पड़ती है। सर्दी के मौसम में डाइट में एनर्जेटिक और गर्म चीजों का सेवन करने से बॉडी को एनर्जी मिलती है, साथ ही सर्दी से भी बचाव होता है। इस मौसम में बॉडी को गर्म और हेल्दी रखने के लिए गुड़ का दूध बेहद उपयोगी है। रात को सोने से पहले दूध में चीनी नहीं बल्कि गुड़ मिलाकर पीएं आपकी  सेहत को कई फायदे होंगे।

गुड़ के फायदे:

सर्दी में बॉडी को गर्म रखने के लिए गुड़ का सेवन बेहद उपयोगी है। गुड़ में मैग्नीशियम, पोटैशियम, सेलेनियम, मैंगनीज और जिंक जैसे पोषक तत्व होते हैं जो सभी दिल से लेकर ओवर ऑल हेल्थ के लिए उपयोगी हैं।

गुड़ और दूध के फायदे:

गुड़ के साथ दूध का सेवन इसकी उपयोगिता को दोगुना कर देता है। दूध में बहुत सारा कैल्शियम, विटामिन-ए और कई अन्य पोषक तत्व मौजूद होते हैं जो सेहत को फायदा पहुंचाते हैं।

आइए जानते हैं कि गुड़ के साथ दूध पीने से सेहत को कौन-कौन से फायेद हो सकते हैं।

प्रेग्नेंट महिलाओं के लिए है फायदेमंद:

गर्म दूध और गुड़ में आयरन की मात्रा भरपूर मौजूद होती है जो खून में हीमोग्लोबिन की मात्रा बढ़ाती है। एनीमिया को रोकने का कारगर इलाज है दूध के साथ गुड़ का सेवन। प्रेग्नेंट महिलाएं इसका सेवन करें तो बॉडी को एनर्जी मिलती है और कमजोरी दूर होती है।

स्किन में निखार लाता है गुड़ वाला दूध:

गुड़ और दूध में मौजूद पोषक तत्व स्किन में कोलेजन बनने में मदद करते हैं, जिससे स्किन नर्म और कोमल बनती है। गुड़ और दूध में मौजूद अमीनो एसिड स्किन में मॉश्चराइज का लेवल बनाए रखता है। दूध में मौजूद एंटीऑक्सिडेंट वक्त से पहले बूढ़ा होने से बचाते है।

पाचन ठीक रखता है गुड़ वाला दूध:

गुड़ और दूध आतों की कीड़े, अपच, कब्ज़, पेट फूलना जैसी कई समस्याओं को रोकने में कारगर है। गुड़ और दूध पाचन को बेहतर करता है। खाना खाने के बाद थोड़ा सा गुड़ खाने से इम्यूनिटी स्ट्रॉन्ग होती है।

हड्डियों और दांतों के लिए उपयोगी:

दूध के सेवन से दांतों की कैविटीज और दांतों की सड़न को रोका जा सकता है। दूध में कैल्शिमयम भरपूर मात्रा में होता हैं जो हड्डियों और दातों को मजबूत बनाता है। 

डिस्क्लेमर: स्टोरी के टिप्स और सुझाव सामान्य जानकारी के लिए हैं। इन्हें किसी डॉक्टर या मेडिकल प्रोफेशनल की सलाह के तौर पर नहीं लें। बीमारी या संक्रमण के लक्षणों की स्थिति में डॉक्टर की सलाह जरूर लें।

Edited By: Shahina Noor