नई दिल्ली, लाइफस्टाइल डेस्क। Lockdown Skincare: पूरी दुनिया में तेज़ी से फैलती महामारी कोरोना वायरस के हर दिन नए-नए लक्षण सामने आ रहे हैं। एक हालिया शोध में पता चला है कि कोरोना वायरस का बुरा असर इंसान की स्किन पर भी पड़ता है, लेकिन आम लोगों को इस लॉक डाउन ने अपनी स्किन के प्रति काफी सजग कर दिया है। आम लोग पहले सौंदर्य, स्क्लप्टिंग और स्किनकेयर को लेकर सजग ज़रूर थे, लेकिन व्यस्थ ज़िंदगी की वजह से समय नहीं दे पाते थे। लेकिन, जब से लॉक डाउन हुआ समाज का हर हिस्सा अपनी स्किन और उसकी देखभाल को समय देना शुरू कर दिया। कोविड के दौरान लोगों के व्यवहार और उनकी सजगता को बढ़ाने और उसपर चर्चा के लिए 750AD हेल्थकेयर ने पहली बार वर्चुअल डर्मा समिट 2020 का आयोजन किया और 'सस्टेनेबिलिटी इन स्किनकेयर’ को लेकर उद्योग के विशेषज्ञों के साथ बातचीत की गयी।  

हमारी स्किन, उसकी देखभाल, सस्टेनेबल स्किनकेयर के प्रति बढ़ती जागरूकता और मांग के विषय पर चर्चा करने के लिए, ट्रांसफॉर्मेटिव ने पुरस्कृत प्रसिद्ध पैनलिस्ट डॉ. सिमल सोइन, जो अयना क्लिनिक के संस्थापक और मुख्य कॉस्मेटिक त्वचा विशेषज्ञ हैं और  डॉ. मनोज जौहर, निदेशक, एस्थेटिक एंड रिकंस्ट्रक्टिव सर्जरी, मैक्स सुपर स्पेशलिटी हॉस्पिटल, डॉ. गुरजोत मारवाह, डॉ. मारवाह क्लिनिक में बोर्ड सर्टिफाइड त्वचा विशेषज्ञ, डॉ. रिंकी कपूर, कॉस्मेटिक त्वचा विशेषज्ञ और डर्मेटो-सर्जन, द एस्टीटिक क्लिनिक, डॉ. श्रद्धा देशपांडे, कंसल्टेंट प्लास्टिक और रिकंस्ट्रक्टिव सर्जन, वॉकहार्ट हॉस्पिटल, साउथ बॉम्बे, डॉ. स्तुति खरे शुक्ला, संस्थापक, एस्थेटिक्स क्लिनिक की मेम्बर और डॉ. अदिति बजाज, अदिति मेडिकल एस्थेटिक्स के साथ एक मंच पर आए।

वर्चुअल समिट की शुरुआत दक्षिण एशिया और जीसीसी देशों के निदेशक, संजय स्वरूप द्वारा स्वागत भाषण के साथ हुई, जिसमें उन्होंने वीओस्क्लप्ट एस्थेटिक्स की इस पहल की सराहना की और आगे बताया कि कैसे ब्रांड स्किनकेयर और एस्थेटिक्स से जुड़े समाधान की आवश्यकता के बारे में जागरूकता फैलाने का काम कर रहा हैं।

लॉकडाउन के बाद डबल चिन सर्जरी, कॉन्टूरिंग, और आई ट्रीटमेंट बढ़ रहे हैं। कोविड के दौरान लोगों के व्यवहार पर प्रकाश डालते हुए, डॉ. सिमल सोइन ने कहा, "लोगों को एक ख़ास तरीके से दिखने की आदत है और वे कोविड के दौरान भी समान दिखते रहना चाहते हैं। इसलिए, एक बार लॉकडाउन हटाए जाने के बाद लोग बोटोक्स, लिप सर्जरी और अन्य ज़रूरी काम जल्द से जल्द करना कहते हैं।"

त्वचा के उपचार के लिए सावधानियों को और रेखांकित करते हुए, डॉ. श्रद्धा देशपांडे ने कहा, "आज अधिक जोर कांसेप्ट पर दिया गया है" कम या अधिक "या इससे भी कम इनवेसिव सर्जरी जो स्पष्ट रूप से हमें लोगों के बदलते व्यवहार पैटर्न के बारे में स्पष्ट रूप से बताती है।" 

इस बारे में आगे बोलते हुए डॉ. मनोज जौहर ने कहा, "लॉकडाउन के बाद दो अलग-अलग श्रेणियों के लोग हैं, एक जो खुश हैं और दूसरे जो खुश नहीं हैं। खुश लोग अधिक सकारात्मक लोग हैं, जिन्होंने लॉकडाउन के दौरान अपने भीतर देखा है और उनके परिवर्तन मौलिक और उत्पादक रहे हैं और जो खुश नहीं है, वह तनाव और सामान्य या किसी विशेष समस्या जैसे स्ट्रेस सिंड्रोम जैसी समस्या से जूझ रहे हैं।

सौंदर्यशास्त्र यानी एस्थेटिक्स और त्वचाविज्ञान उद्योग के विकास के बारे में बात करते हुए, डॉ. रिंकी कपूर ने कहा कि लोग अभी भी हेयर ट्रांसप्लांट कराने के लिए उत्सुक हैं और लगभग 80% एस्थेटिक्स का काम अब सामान्य हो गया है। जब उचित सुरक्षा प्रोटोकॉल लागू होते हैं, और विशेषज्ञ वहां होते हैं, तो लोग लेजर उपचार, त्वचा उपचार, आंखों के उपचार के तहत, एंटी-एजिंग उपचार से खुश होते हैं| 

डॉ. गुरजोत मारवाह ने इस पर बात करते हुए कहा, "आवश्यकताएं बदल गई हैं, और हमारे पास बहुत सारे क्लाइंट हैं, जो अब डबल चिन और आंखों का इलाज करवाना चाह रहे हैं। ऐसा लैपटॉप और मोबाइल स्क्रीन के निरंतर उपयोग के कारण होता है, जिसमें वेबिनार और ज़ूम कॉल के दौरान सभी खुद को देखते हैं, कि वे कैसे लग रहे हैं और यही वजह है कि वे अपने लुक्स में बदलाव चाहते हैं।" 

ग्राहक जागरूकता के बारे में बात करते हुए, डॉ. अदिति बजाज ने कहा, "ग्राहक बहुत अधिक जागरूक हो गए हैं और लोग ऐसे समाधान खोजना चाहते हैं जो लंबे समय तक चलने वाले हों। वे क्विक स्क्लप्टिंग और लेस कांटेक्ट ट्रीटमेंट की तलाश कर रहे हैं।"

Edited By: Ruhee Parvez