नई दिल्ली,लाइफस्टाइल डेस्क।  चेहरे को साफ और खूबसूरत रखना चाहती हैं तो महीने में एक बार फेस क्लीनअप जरूर कराएं। क्लीनअप करने से बेजान और डल स्किन में निखार आता है और आप खूबसूरत दिखती हैं। चेहरे को फेस वॉश से वॉश करना क्लीनअप नहीं है, बल्कि स्किन को अंदर से साफ करना फेस क्लीनअप कहलाता है। क्लीनअप ब्यूटी ट्रीटमेंट का एक हिस्सा है जिससे स्किन को पोषक तत्व मिलते है, साथ ही स्किन में कसावट भी आती है।

30 साल की उम्र के बाद स्किन डल और पिगमेंटेड दिखने लगती है और आंखों के पास डार्क सर्कल भी होने लगते हैं। फेस क्लीनअप करने से आपको स्किन की इन समस्याओं से निजात मिलती है। महीने में एक बार नियमित क्‍लीनअप करने से चेहरे पर पड़े दाग-धब्‍बे कम नजर आते हैं। क्लीनअप हर मौसम में स्किन ट्रीटमेंट के लिए जरूरी है। बदलते मौसम, धूल मिट्टी और पसीने से स्किन की खूबसूरती कम होती रहती है ऐसे में क्लीनअप आपकी स्किन में जान डालता है। आइए जानते हैं कि चेहरे पर क्लीनअप करने के और कौन-कौन से फायदे होते हैं।

स्किन पर मॉश्चर लॉक रखता है:

चेहरे को साफ रखने और उसमें नमी बनाए रखने के लिए क्लीनअप बेहद असरदार है। सर्दियों में स्किन ड्राई हो जाती है और स्किन पर खुजली बढ़ने लगती है, जबकि गर्मी में स्किन से ऑयल ज्यादा आता है और स्किन पर मुहांसे और स्किन की समस्याएं होने लगती है। गर्मी और सर्दी में होने वाली स्किन समस्याओं का बेहतरीन ट्रीटमेंट है क्लीनअप। क्लीनअप करने से चेहरे पर लंबे समय तक मॉश्चर बना रहता है और चेहरा साफ दिखता है।

ड्राई स्किन के लिए बेहतरीन उपाय है क्लीनअप:

ड्राई स्किनो को क्लीनअप करने से स्किन पर पड़े हुए पैच को पोषण मिलता है और स्किन हाइड्रेट रहती है। बदलते मौसम में स्किन पर ड्राईनेस दिख रही है तो फेस क्नीनअप कराएं।

डेड स्किन से निजात दिलाता है क्लीनअप:

अगर आप स्‍क्रब नहीं करती हैं तो चेहरे पर मृत कोशिकाएं जम जाती हैं, जिससे चेहरा पैची दिखने लगता है। ड्राई स्किन पर पसीना कम आता है इसलिए क्लीनअप करने से डेड स्किन निकल जाती है।

क्लीनअप के बाद फेस पैक भी जरूर लगाएं:

स्किन को हाइड्रेट और पोषण देने के लिए क्लीनअप के बाद चेहरे पर फेस पैक लगाना भी जरूरी है। फेस पैक स्किन की नमी को स्किन में लॉक करता है। फेस पैक लगाने के लिए ऐसे पैक का चयन करें जिसमें दूध या मलाई मिक्स हो। दूध और मलाई स्किन को नर्म मुलायम और कोमल बनाती हैं।  

Edited By: Shahina Noor