Move to Jagran APP

रथ यात्रा स्पेशल ट्रेन में गर्भवती महिला ने नवजात को दिया जन्म, प्रसव के बाद जगन्नाथ के जयकारों से गूंजा स्टेशन

सोमवार को चक्रधरपुर रेलवे स्टेशन पर खड़ी रथयात्रा स्पेशल चलती ट्रेन में नवजात बच्चे को महिला ने जन्म दिया। इस दौरान महिला का सफल प्रसव कराने में ट्रेन में मौजूद महिला यात्रियों ने गर्भवती महिल की मदद की और चक्रधरपुर रेलवे स्टेशन पर जच्चा बच्चा को डॉक्टर आरपीएफ की मदद से मेडिकल सुविधा और सुरक्षा दी गई। नवजात की किलकारियों से सबके चेहरे खिल उठे।

By Rupesh Kumar Edited By: Shoyeb Ahmed Tue, 09 Jul 2024 09:05 PM (IST)
रथ यात्रा स्पेशल ट्रेन में गर्भवती महिला ने नवजात को दिया जन्म, प्रसव के बाद जगन्नाथ के जयकारों से गूंजा स्टेशन
नवजात शिशु को अस्पताल ले जाते चिकित्सा कर्मी

जागरण संवाददाता, चक्रधरपुर। चक्रधरपुर रेलवे स्टेशन में सोमवार शाम करीबन साढ़े सात बजे खड़ी रथयात्रा स्पेशल ट्रेन में नवजात बच्चे की किलकारियां गूंजते ही जय जगन्नाथ के नारों से स्टेशन गूंज उठा।

दरअसल रथयात्रा स्पेशल ट्रेन में प्रसव पीड़ा से तड़प रही एक गर्भवती महिला ने एक नवजात बच्चे को चलती ट्रेन में जन्म दिया और महिला का सफल प्रसव कराने में ट्रेन में मौजूद महिला यात्रियों ने उसकी मदद की।

इसके बाद चक्रधरपुर रेलवे स्टेशन में रेलवे डॉक्टर, आरपीएफ की मदद से जच्चा-बच्चा को मेडिकल सुविधा और सुरक्षा प्रदान की गयी। जच्चा-बच्चा फिलहाल चक्रधरपुर रेलवे अस्पताल में भर्ती हैं। यह घटना ट्रेन नंबर 08377 पूरी राउरकेला रथयात्रा स्पेशल ट्रेन की है।

चक्रधरपुर जाने के लिए दिहाड़ी मजदूर हुए थे सवार

बताया जा रहा है की बड़ाबंबू रेलवे स्टेशन से दिहाड़ी मजदूरी कर जीवन यापन करने वाला भोला ठठेरा और उसकी गर्भवती पत्नी शांति ठठेरा चक्रधरपुर जाने के लिए रथयात्रा ट्रेन में सवार हुए थे।

इसी दौरान शांति ठठेरा को प्रसव पीड़ा होने लगी। प्रसव पीड़ा से वह चलती ट्रेन में छटपटाने लगी। महिला के दर्द को देख ट्रेन में मौजूद दो महिलाओं ने हिम्मत करते हुए शांति का प्रसव चलती ट्रेन में ही करने में मदद की।

दोनों महिलाओं के सहयोग से बच्चे को दिया जन्म

दोनों महिला के सहयोग से चलती ट्रेन में शांति ने नवजात को जन्म दिया। इसके बाद जब ट्रेन चक्रधरपुर स्टेशन पहुंची तो स्टेशन मैनेजर मीणा सत्पथी को घटना की सूचना दी गयी। स्टेशन मैनेजर के द्वारा रेलवे अस्पताल और आरपीएफ को सूचना देकर जच्चा-बच्चा के सहयोग का निर्देश दिया।

जिसके बाद रेलवे अस्पताल से डॉ नंदिनी सांडा अपनी मेडिकल टीम के साथ चक्रधरपुर रेलवे स्टेशन के प्लेटफार्म संख्या एक में पहुंची और जच्चा-बच्चा की जांच की और दोनों को कोच से बाहर निकालकर एम्बुलेंस के माध्यम से बेहतर चिकित्सा उपलब्ध कराने के लिए चक्रधरपुर रेलवे अस्पताल ले जाया गया।

जहां जच्चा-बच्चा को भर्ती कर दोनों का इलाज जारी है। प्रसव के कारण रथयात्रा स्पेशल ट्रेन चक्रधरपुर स्टेशन में आधे घंटे तक रुकी रही।

ये भी पढे़ं-

MGNREGA Worker Grade Pay: झारखंड के मनरेगा कर्मियों के मानदेय में 15 दिनों के अंदर होगी वृद्धि, जल्द मिलेगा ग्रेड पे

BU के इस पायलट एक्सपेरिमेंट से खुश हो जाएंगे झारखंड के किसान! सेब की खेती को लेकर सामने आई ये बड़ी गुड न्यूज