जागरण संवाददाता, चाईबासा : हेल्पिंग हैंड चाईबासा के अथक प्रयास से गुटूसाई में नवोदय व नेतरहाट की तैयारी के लिए रविवार को निश्शुल्क कोचिग सेंटर का उद्घाटन किया गया। हेल्पिंग हैंड चाईबासा की संस्थापक नेहा निषाद ने बताया कि लॉकडाउन के शुरुआती समय में जब वह गली-मुहल्ले में गरीबों और जरूरतमंद लोगों को चावल और भोजन बांट रही थी तो उस दौरान उसे ऐसे कई बच्चे मिले जो पढ़ाई-लिखाई पूरी तरह से छोड़ चुके हैं या पढ़ाई छोड़कर यहां-वहां भटक रहे हैं और गलत आदतों को अपना लिए हैं। ऐसे बच्चों को खोज-खोजकर स्कूल में एडमिशन कर रही है। समय निकालकर वो और उनका ग्रुप इन बच्चों को पढ़ाते हैं। इन बच्चों का भविष्य उज्ज्वल हो यही सोचकर नेहा ने नवोदय और नेतरहाट की तैयारी हेतु एक निश्शुल्क कोचिग संस्थान चलाने की सोची और आज उस काम को अंजाम दिया। संस्थान के उद्घाटन समारोह में शहर के विकास दोदराजका, संजय कच्छप, प्रकाश लागुरी, अरविद लागुरी और इंजीनियर अमृत आदि उपस्थित थे। इन लोगों ने बच्चों को काफी ज्ञानवर्धक बातें बताई और आगे भी उनलोगों की सेवा और मदद हेतु हमेशा तैयार होने की बात कही। इस बीच यहां उपस्थित बच्चों ने अपने-अपने टैलेंट का भी नमूना पेश किया। यहां एक बच्चा नौ वर्षीय लक्ष्य लागुरी मुख्य आकर्षण का केंद्र रहा जिसने विदेश में सालभर पहले ताइकांडों में आस्ट्रेलिया के खिलाड़ी को हराकर गोल्ड जीता था। उसने भी उस कोचिग में नेतरहाट की तैयारी हेतु पढ़ने के लिए आने की बात कही। मौके पर हेल्पिंग हैंड्स चाईबासा के अन्य सदस्यों में पूनम झा, गुड़िया रजक, सुधांशु शेखर, कपिल चिरानियां, सोनू कुमार, मनीष निषाद, आदिल व अमित आदि उपस्थित थे। साथ ही साथ 35 बच्चों का एक समूह भी वहां उपस्थित था।

Edited By: Jagran