संवाद सहयोगी, चाईबासा : पश्चिमी ¨सहभूम के 409 प्राथमिक व मध्य विद्यालयों के विलय को लेकर शिक्षा विभाग ने कवायद शुरू कर दी है। शिक्षा विभाग की ओर से शिक्षा का अधिकार अधिनियम के तहत विद्यालय में बच्चों की पढ़ाई के लिए उचित संसाधन के साथ शिक्षक छात्र अनुपात भी जरूरी है। इसी को देखते हुए शिक्षा विभाग ने पश्चिम ¨सहभूम के वर्ग एक से पांच तक के 130 प्राथमिक विद्यालय व वर्ग छह से आठ तक के 279 मध्य विद्यालयों को विलय उसके नजदीकी विद्यालय में उचित सुविधा देने की तैयारी कर ली है। इन विद्यालयों के विलय करने से शिक्षा में गुणवत्ता बढ़ जाएगी। जिसमें बच्चों को उचित संख्या में कक्षा के साथ पढ़ाई व खेल के लिए हर सुविधा विद्यालय में मौजूद रहेगी। साथ ही शिक्षकों की संख्या में भी वृद्धि होगी जिससे बच्चों को बेहतर शिक्षा मिलने लगेगी। विलय से दूरी होने की वजह से सरकार की ओर से बच्चों को साईकिल की सुविधा प्रदान किया जाएगी। इसके लिए सरकार से निर्देश भी आ चुका है कि विलय के बाद दूर से आने वाले सभी बच्चों को सरकार से साईकिल की सुविधा दी जाएगी। वर्ग एक से पांच तक के 130 विद्यालय में सबसे अधिक चक्रधरपुर प्रखंड के 32 विद्यालय को लिया गया है। वहीं वर्ग छह से आठ में 279 विद्यालय में सबसे अधिक मनोहरपुर के 32 विद्यालय को विलय के लिए चिह्नित किया गया है।

---------

वर्ग 1 से 5 तक विलय होने वाले प्रखंडवार विद्यालय

प्रखंड स्कूलों की संख्या

आनंदपुर --- 14

बंदगांव - 22

चक्रधरपुर - 32

गोईलकेरा - 14

गुदड़ी - 03

हाटगम्हरिया - 01

जगन्नाथपुर - 09

झींकपानी - 01

खुंटपानी - 03

कुमारडुंगी - 03

मझगांव - 04

मंझारी - 01

मनोहरपुर - 10

नोवामुंडी - 04

सोनुवा - 02

तांतनगर - 06

टोंटो - 01

------------------------

वर्ग 6 से 8 तक विलय होने वाले प्रखंडवार विद्यालय

प्रखंड स्कूलों की संख्या

आनंदपुर - 22

बंदगांव - 24

चक्रधरपुर - 27

गोईलकेरा - 12

गुदड़ी - 12

हाटगम्हरिया - 17

जगन्नाथपुर - 18

झींकपानी - 05

खुंटपानी - 16

कुमारडुंगी - 06

मझगांव - 12

मंझारी - 03

मनोहरपुर - 32

नोवामुंडी - 16

सदर चाईबासा - 15

सोनुवा - 10

तांतनगर - 08

टोंटो - 24

Edited By: Jagran