Move to Jagran APP

रांची वाले भैरव सिंह को क्‍लीन चिट... मंदिर की छत से गोली चलाने की बात बकवास...

Ranchi Violence रांची हिंसा में मारे गए मुस्लिम युवक पर भैरव सिंह द्वारा गोली चलाने की बात बकवास है। रांची पुलिस की जांच में यह खुलासा हुआ। मेन रोड में बवाल के दिन मंदिर की छत से किसी ने गोली नहीं चलाई थी। भैरव सिंह को क्‍लीन चिट मिला है।

By Alok ShahiEdited By: Sun, 19 Jun 2022 07:05 PM (IST)
Ranchi Violence: रांची हिंसा में मारे गए मुस्लिम युवक पर भैरव सिंह द्वारा गोली चलाने की बात बकवास है।

रांची, जासं। Ranchi Violence रांची हिंसा में मेन रोड में 10 जून को मंदिर की छत से किसी ने गोली नहीं चलाई थी। पुलिस की जांच में इस बात का खुलासा हुआ है कि मंदिर की छत पर एक व्यक्ति अपने मोबाइल से फोटो ले रहा था। इस वजह से कैमरा का फ्लैश जल रहा था। समुदाय विशेष के लोगों ने आरोप लगाया था कि मंदिर के उपर से गोली चलने के बाद उन्होंने पथराव किया था। पुलिस का कहना है कि सीसीटीवी की जांच में इस बात की जानकारी मिली है।

समुदाय विशेष का आरोप था कि हिंदू नेता भैरव सिंह मंदिर की छत पर मौजूद था। उसके द्वारा ही गोली चलाई गई थी। इसके बाद मेन रोड़ में लोग उग्र हो गए थे। पुलिस का कहना है कि मोबाइल लोकेशन,सीसीटीवी फुटेज और काल डंप से इसका खुलासा हुआ है कि घटना के वक्त भैरव अपने घर के अंदर था। वह बाहर नहीं निकला था।

इस मामले में भैरव से पुलिस ने पूछताछ की तो उसने बताया कि घटना के वक्त उसके घर पर भी हमला कर दिया गया था। कई लोगों ने उसके घर पर पथराव किया था। इस वजह से वह घर से एक पल के लिए भी बाहर नहीं निकला। पुलिस ने आसापस के लोगों का भी इस मामले में बयान लिया है। लोगों ने बताया कि भैरव अपने घर की सुरक्षा में लगा हुआ था। भैरव ने किसी के उपर गोली नहीं चलाई है।

वासेपुर गैंग का कनेक्शन खंगाल रही है पुलिस

कोतवाली थाना में सोशल साइट पर भड़काऊ पोस्ट डालने के आरोप में पुलिस ने नूर मोहम्मद के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज की है। पुलिस का कहना है कि आरोपित ने स्टोरी, फोटो और वीडियो डाला है। इससे स्प्ष्ट होता है कि आरोपित शहर में अशांति फैलाने का प्रयास कर रहा था। पुलिस ने आरोपित का फेसबुक अकाउंट हटा दिया है। पुलिस का कहना है कि आरोपित की तलाश की जा रही है। इसके अलावा सोशल मीडिया पर भड़काऊ पोस्ट डालने वालों के खिलाफ वासेपुर गैंग का कनेक्शन खंगाला जा रहा है।

जिन लोगों के खिलाफ सोशल साइट पर भड़काऊ पोस्ट करने का मामला दर्ज हुआ है सभी से वासेपुर गैंग के बारे में पूछताछ की जा रही है। पुलिस की जांच में इस बात का खुलासा हुआ है कि वासेपुर गैंग नाम से एसएसएम वायरल हुआ था। लोगों को प्रर्दशन करने के लिए कहा गया था। इसके बाद ही शहर में बवाल हुआ था। पुलिस ने कई लोगों को तलाश लिया है जिनके मोबाइल पर वासेपुर गैंग नाम के ग्रुप से एसएमएस आया था। लेकिन पुलिस उस व्यक्ति के पास पहुंचने का प्रयास कर रही है जिसने यह ग्रुप बनाया था और लोगों को एसएमएस किया था।

25 संदिग्धों से पुलिस कर रही है पूछताछ

पुलिस 25 संदिग्धों से पूछताछ कर रही है। पुलिस का कहना है कि सभी संदिग्धों को अलग अलग थाना में रखकर पूछताछ की जा रही है। जांच पूरी होने के बाद ही आगे की कार्रवाई की जाएगी। वीडियो और सीसीटीवी फुटेज के आधार पर पुलिस आरोपितों को पकड़ने का प्रयास कर रही है। पुलिस ने इस मामले में अभी तक 29 लोगों को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया है। पुलिस का कहना है कि जो भी दोषी है उसे जेल भेजा जाएगा। पुलिस साक्ष्य के आधार पर सभी को जेल भेज रही है।

शहर में सामान्य होने लगी है स्थिति

मेन रोड़ में बवाल होने के बाद शहर में धीरे धीरे स्थिति सामान्य होने लगी है। शनिवार को मेन रोड समेत कई इलाकों में दुकानें खुली जिससे बाजार की रौनक लौट आई। मेन रोड़ में लोग पहुंचे और खरीदारी किया। हालांकि मेन रोड़ में पुलिस और रैफ के जवानों को तैनात रखा गया है। पुलिस का कहना है कि दो दिनों के बाद धारा 144 हटा दिया जाएगा। सीसीटीवी से पूरे शहर की गतिविधी पर नजर रखी जा रही है। लोअर बाजार इलाके में आठ दिन के बाद दुकानदारों ने अपनी दुकानें खोली। मेन रोड में शाम पांच बजे के बाद दुकान खोलने पर रोक है।