रांची, राज्य ब्यूरो। Jharkhand Congress MLAs Arrested In Howrah राजनीतिक बदनामी से झारखंड का दामन न छूटा था, न छूटा है। हावड़ा में करोड़ों रुपये के साथ धराए कांग्रेसी विधायकों ने एक बार फिर इस तमगे को बरकरार रखा है। पैसा किसका था?, कहां से आ रहा था?, कहां जा रहा था?, इस पैसे से क्या खेल होने वाला था? जैसे तमाम सवालों की गुत्थियों में जांच एजेंसियां उलझेंगी लेकिन इतना तो तय है कि पैसा पकड़ने के साथ ही कईयों का खेल बिगड़ गया है। कोई खेमा राहत महसूस कर रहा है तो कुछ की चिंता भी बढ़ गई है और झारखंडी सियासत राहत बनाम आफत के बीच उलझ कर रह गई है।

खेल इतनी जल्दी खुल जाएगा, आशा नहीं थी

पूरे देश में कमजोर होती कांग्रेस के विधायक झारखंड में खासा हल्के हो गए हैं, यह चर्चा तो पिछले कई दिनों से आम थी। पैसे का आफर और खेल से जुड़ी बातें भी सामने आ रही थी लेकिन खेल इतनी जल्दी खुल जाएगा, इसकी आशा किसी को नहीं थी। बिखरी कांग्रेस के बागी विधायकों की हड़बड़ी ने पूरे कुनबे की पोल खोल दी है। कांग्रेस के तीनों माननीय लीडर बनने को कुछ इस कदर आतुर थे कि मानसून सत्र जैसे बिजी शड्यूल में गुवाहाटी का रुख कर बैठे और हावड़ा में धरे गए। आम तौर पर सत्र के दौरान विधायकों से अपेक्षा की जाती है कि वे राजधानी में ही रहेंगे। बहरहाल इस पूरे घटनाक्रम ने राज्य सरकार को लेकर भविष्यवाणी करने वाले राजनीतिक पंडितों और रणनीतिकारों की मंशा पर फिलहाल पानी फेर ही दिया है। राज्य सरकार कुछ दिनोंं के लिए फिर सेफ मोड में जाती दिखाई दे रही है और इस पर दांव लगाने वालों को बड़ा झटका लगा है।

कांग्रेस के मंत्रियों को बदलने की कर रहे थे मांग

मालूम हो कि पश्चिम बंगाल के हावड़ा में करोड़ों रुपये नकदी के साथ पकड़े गए कांग्रेस विधायक डा. इरफान अंसारी, नमन विक्सल काेंगाड़ी और राजेश कच्छप लंबे समय से संगठन और सरकार से नाराज चल रहे थे। कई बार इनके नाम सत्ता विरोधी गठबंधन तैयार करने में भी सामने आ गए थे। तीनों नेता खुले तौर पर झारखंड सरकार में कांग्रेस कोटे के मंत्रियों को बदले जाने की मांग करते रहे हैं। पिछले दिनों भी इनकी कोशिश कांग्रेस को तोड़ने की थी, मगर सफल नहीं हो पाए। तीनों विधायक एक ही गाड़ी में सवार थे। पूर्वी मिदनापुर की ओर जा रहे थे। तभी वाहन जांच के दौरान पकड़े गए।

ठेकेदार नईम अंसारी की गाड़ी

पश्चिम बंगाल के हावड़ा में करोड़ों रुपये के साथ पकड़ी गई गाड़ी का रजिस्ट्रेशन बोकारो का है। उक्त गाड़ी के मालिक का नाम नईम अंसारी है, जो पेशे से ठेकेदार हैं। फार्च्यूनर गाड़ी में पैसे बरामद किए गए हैं। उसमें विधायक इरफान अंसारी सहित अन्य विधायकों के सवार थे। लंबे समय से विधायक इरफान अंसारी इस गाड़ी का इस्तेमाल कर रहे थे।

Edited By: M Ekhlaque

जागरण फॉलो करें और रहे हर खबर से अपडेट