रांची, जासं। दक्षिण पूर्व रेलवे आरपीएफ (रेलवे सुरक्षा बल) के जवान रेल यात्रियों की सुरक्षा प्रदान करने के साथ-साथ रेलवे संपत्ति और प्रतिष्ठानों की सुरक्षा में महत्वपूर्ण भूमिका निभा रहे हैं। रेलवे के आरपीएफ कर्मियों ने जून, 2021 में यात्री सामान की चोरी में शामिल अपराधियों के खिलाफ नियमित अभियान चलाया।

जून माह में कुल 34 अपराधियों को आरपी (यूपी) एक्ट के तहत गिरफ्तार किया गया था और रेलवे की संपत्ति में रुपये 1,63,180 की वसूली की गई। इसके अलावा, 556 अपराधियों पर रेलवे अधिनियम की विभिन्न धाराओं के तहत मामला दर्ज किया गया और 1,47,900 रुपये का जुर्माना वसूल किया गया। आरपीएफ और वाणिज्य विभाग द्वारा भी नियमित अभियान चलाया गया और 1530 बिना टिकट यात्रियों का पता लगाया गया और 7,57,899 रुपये का जुर्माना वसूला गया।

उपरोक्त के अलावा, जून 2021 में, आरपीएफ कर्मियों ने 47 नाबालिग लड़कों और 37 नाबालिग लड़कियों को रेस्क्यू किया गया और बचाए गए नाबालिगों को उचित सत्यापन और पावती के साथ उनके रिश्तेदारों को सौंप दिया गया। दक्षिण पूर्व रेलवे के आरपीएफ कर्मियों ने 242 स्वच्छता अभियान चलाने के लिए सक्रिय भाग लिया और एसईआर अधिकार क्षेत्र में विभिन्न स्थानों पर 31 अतिक्रमणों को भी हटाया।

स्टेशन पर नाबालिग बच्चे का किया रेस्क्यू

इन दिनों अक्सर स्टेशन पर नाबालिग लड़के घर से भाग कर घूमते-फिरते दिख जाते हैं। गुरुवार को भी मेरी सहेली" टीम ने रांची रेलवे स्टेशन के मुख्य प्रवेश द्वार के पास प्लेटफॉर्म नंबर एक पर एक नाबालिग उम्र के लड़के का रेस्क्यू किया गया। आरपीएफ द्वारा पूछने पर यह पता चला कि वह घर से भाग गया और अपने माता-पिता को बताए बिना रांची आ गया। काफी देर से लड़का भटक रहा था।

आरपीएफ की उस पर नज़र पड़ी तब जाकर उसे उसके अभिभावकों से मिलाने का काम किया। रेस्क्यू किये गए लड़के को उसकी सुरक्षा और आगे की कानूनी कार्रवाई के लिए चाइल्डलाइन रांची को सौंप दिया गया। टीम में एसआई डीके मीना, एलसी सविता, एलसी राखी कुमारी और रांची पोस्ट के सिंह थे।