Move to Jagran APP

ट्रेन से बिहार जा रहे लड़का-लड़की को आरपीएफ ने रांची रेलवे स्‍टेशन पर पकड़ा, जानें पूरा मामला

RPF Ranchi Railway Station Jharkhand Hindi Samachar रांची रेलवे स्टेशन पर आरपीएफ ने दोनों को मुख्य द्वार पर काफी देर से घूमते पाया। आरपीएफ ने देखा कि दोनों काफी परेशान हैं। दूसरी ओर आरपीएफ ने एक लड़के को भी सोए हुए अवस्‍था में पकड़ा।

By Sujeet Kumar SumanEdited By: Wed, 25 Aug 2021 06:09 PM (IST)
ट्रेन से बिहार जा रहे लड़का-लड़की को आरपीएफ ने रांची रेलवे स्‍टेशन पर पकड़ा, जानें पूरा मामला
Jharkhand Hindi Samachar रांची रेलवे स्टेशन पर आरपीएफ ने दोनों को मुख्य द्वार पर काफी देर से घूमते पाया।

रांची, जासं। रांची रेलवे स्टेशन पर रेलवे सुरक्षा बल यानि आरपीएफ ने एक लड़का-लड़की को पकड़ा है। दोनों स्‍टेशन परिसर में संदिग्‍ध अवस्‍था में पाए गए। बताया गया कि लड़के के संग भाग रही नाबालिग लड़की को आरपीएफ द्वारा पकड़ा गया। लड़की बिना बताए घर से भाग रही थी। दोनों को रांची रेलवे स्टेशन के मुख्य द्वार पर काफी देर से घूमते पाया गया। आरपीएफ ने देखा कि दोनों काफी परेशान हैं और स्टेशन के मुख्य द्वार पर भटक रहे हैं। संदेह के आधार पर आरपीएफ की टीम ने उनसे पूछताछ की। इसमें उन्होंने बताया कि झारखंड और बिहार दोनों ही जगह उनका घर  है।

उसने बताया कि वे दोनों बिना बताए अपने घर से निकल गए हैं और बिहार जा रहे हैं। दोनों एक-दूसरे से प्‍यार करते हैं। घर वालों की मंजूरी नहीं मिलने के कारण वे घर से भाग गए। इसके बाद आरपीएफ ने उनके माता-पिता का संपर्क नंबर मांगा। फोन पर संपर्क करने के बाद मामले की जानकारी परिजनों को दी गई। परिजनों से बात करने पर पता चला कि दोनों एक दिन पहले से ही घर से लापता हैं। वर्तमान में दोनों के माता-पिता पटना (बिहार) में रह रहे हैं। रांची में मौजूद उनके रिश्‍तेदारों को स्‍टेशन बुलाया गया। उसके बाद दोनों को विधिवत रूप से उनके रिश्तेदारों को सौंप दिया गया।

आरपीएफ ने नाबालिग लड़के का किया रेस्क्यू

रांची रेलवे स्टेशन पर काफी देर तक सो रहे एक नाबालिग लड़के काे आरपीएफ महिला दस्ते ने रेस्क्यू किया है। दरअसल महिला दस्ते द्वारा 8:30 बजे रांची रेलवे स्टेशन पर चेकिंग चलाया जा रहा था। इसी दौरान टीम ने देखा कि प्लेटफार्म नंबर एक पर एक नाबालिग लड़का अकेला सो रहा है। पूछे जाने पर उसने अपना नाम बताया। बताया कि वह अपने घर चंदवा, बालूमाथ, लातेहार से बिना बताए भागकर रांची रेलवे स्टेशन पहुंचा है। अब वह घर नहीं जाना चाहता है। अंतत: आरपीएफ वालों ने नाबालिग को चाइल्डलाइन रांची को सौंप दिया। रेस्क्यू की गई टीम में आइपीएफ सुनीता पन्ना और एसआइ प्रियंका कुमारी शामिल थी।