रांची, राज्य ब्यूरो। राष्ट्रपति चुनाव में राजग उम्मीदवार द्रौपदी मुर्मू को लेकर ट्वीटर पर विवादित टिप्पणी करना फिल्मकार रामगोपाल वर्मा के लिए महंगा पड़ा। ट़वीटर पर ही लोगों ने उनकी खूब खिंचाई की। हालांकि ट्रोल होने के बाद उन्होंने अपनी टिप्पणी पर सफाई देते हुए कहा कि उनका कहने का मतलब गलत नहीं था। दरअसल, फिल्मकार राम गोपाल वर्मा ट्वीट कर कहा था कि यदि द्रौपदी राष्ट्रपति हैं तो पांडव कौन हैं और अधिक महत्वपूर्ण यह है कि कौरव कौन हैं? इस ट्वीट के बाद उनके फालोअर्स और अन्य व्यूअर्स ने उनकी जमकर खिंचाई करते हुए इसे उनकी मूर्खता बताई।

सांसद संजय सेठ व निशिकांत ने की कार्रवाई की मांग

वहीं, रांची से निर्वाचित लोकसभा सदस्य संजय सेठ ने रामगोपाल वर्मा के ट्वीट को शेयर करते हुए लिखा कि देश के सर्वोच्च पद का चुनाव हो रहा है और इस फिल्मकार की भाषा देखिए। एक आदिवासी महिला हमारे राष्ट्रपति बनने जा रही है तो इन्हें नागवार गुजर रहा है। यह भद्दी टिप्पणी है और ऐसे लोगों पर कानूनी कार्रवाई होनी चाहिए। वहीं, गोड्डा से निर्वाचित लोकसभा सदस्य निशिकांत दूबे ने ट्वीटर पर ही कहा कि उनकी यह सोच मानसिक विक्षिप्त होने का प्रमाण है। यह महिला, आदिवासियों, गरीब के साथ-साथ भारत के संविधान व लोकतंत्र के ऊपर हमला है।

पढ़िए, राम गोपाल वर्मा का टवीट

पढ़िए, सांसद निशिकांत दुबे का टवीट

Edited By: M Ekhlaque