रांची, जेएनएन। PM Modi 5 April 9 PM 9 Minutes  कोरोना वायरस की महामारी के खिलाफ जंग में रविवार को फिर एक बार झारखंड ने अपनी सशक्‍त मौजूदगी दर्ज कराई है। रात नौ बजते ही 9 मिनट के लिए लोगों ने अपने घरों की बत्तियां बुझाकर दीये-कैंडिल, टॉर्च या मोबाइल लाइट से रोशनी फैलाई। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के आह्वान पर एकजुटता दिखाने के मौके पर झारखंडवासी भी पूरे समर्पण से कोरोना से लड़ी जा रही लड़ाई में अपनी भूमिका तय कर रहे हैं। हालांकि पीएम मोदी की अपील पर इस बीच सोशल डिस्‍टेंसिंग का पूराा ध्‍यान रखा गया।  

राज्यपाल द्रौपदी मुर्मू ने राजभवन में रात नौ बजे कोरोना के अंधकार पर विजय प्राप्त करने के लिए दीपक जलाए। उन्होंने कहा कि हम सभी भारतवासी को अपनी एकजुटता एवं दृढ़ इच्छाशक्ति से नोवेल कोरोना वायरस (कोविड-19) के अंधकार पर विजय प्राप्त कर इसके प्रसार को रोकना है। उन्होंने सभी से  लॉकडाउन तथा शारीरिक दूरी के नियमों का पूरी तरह से पालन करने का आह्वान भी किया।

जीवन को मिली संकल्प की रौशनी

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के आह्नान पर पूरे देश में दीये जलाए गए। कहीं दीप जले तो कहीं कैंडल, कहीं लोगों ने मोबाइल टॉर्च से रौशनी की तो कहीं  घर के दरवाजे पर इमरजेंसी लाइट जलाई गई। लोहरदगा शहर से लेकर ग्रामीण क्षेत्र के लोगों ने शारीरिक दूरी बनाकर दीप जलाए और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की एक आवाज पर जैसे दीपावली मनाई। घर-घर में दीयों की लड़ी फुलझड़ियों जैसी जल उठी। हर किसी ने जीवन के लिए प्रकाश रूपी संकल्प लिया। देश को कोरोना के संक्रमण से खुद को बचने और दूसरों को बचाने के लिए देश के साथ खड़े होने की कसम खाई।

घर-घर दीप, गली-गली रोशन

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के आह्वान पर रात नौ बजे कोरोना की आशंका और निराशा के घोर अंधेरे को मिलकर हराने के लिए रविवार की रात रांची फिर उठ खड़ी हुई। जैसे ही घड़ी की सुई ने रात नौ बजाई वैसे ही शहर दीपावली की तरह दीयों की रोशनी से जगमगा उठा। घर-घर में आशा के दीप जले, बेहतर कल की उम्मीद में गली- गली चमक उठे। दलगत भावनाओं से ऊपर उठकर सबने राष्ट्र की एकता में अपनी सहभागिता सुनिश्चित की। यह दूसरा मौका था, जब प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के आह्वान पर लोग कोरोना के खिलाफ जंग में उतरे योद्धाओं का आभार जताने के लिए खड़े हुए। लोगों ने दीये के साथ-साथ मोबाइल व टॉर्च की रोशनी से देश के सामूहिक संघर्ष को अपना समर्थन जताया। आम और खास की भावनाओं से अलग होकर सबने अपने अपने तरीके से इस अभियान में अपनी भागीदारी सुनिश्चित की।

नौ मिनट में कम हुआ 500 मेगावाट का लोड

झारखंड में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के आह्वान पर बत्ती बुझाकर दीप जलाने का असर बिजली की मांग पर भी पड़ा। रविवार को रात नौ बजे के बाद एकाएक लोड में भारी कमी देखने को मिली। महज नौ मिनट में 500 मेगावाट लोड कम हो गया। बिजली संचरण निगम के प्रबंध निदेशक केके वर्मा के मुताबिक एहतियात के तौर पर रविवार को राज्य के ताप विद्युत संयंत्र कम लोड पर संचालित किए गये। इससे मांग में भारी कमी के बावजूद विद्युत आपूर्ति पर असर नहीं पड़ा। इसी प्रकार राष्ट्रीय स्तर पर भी रात नौ बजे के बाद लोड में भारी कमी हुई। शनिवार की रात नौ बजे पूरे देश में 120 गीगावाट बिजली की डिमांड थी, जबकि रविवार को इस दरम्यान यह 90 गीगावाट रहा।

कोरोना से जंग को ले देश एकजुट, आज घरों के बाहर जले दीये

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के आह्वान पर रविवार की रात नौ बजे लोगों ने लाइट बुझाकर घरों के बाहर दीये, मोमबत्ती या फिर मोबाइल की रौशनी से अंधकार भगाया। इसके लिए हर शहर में लोगों में उत्‍साह दिख रहा है। सबों ने पीएम मोदी के आह्वान पर अपनी तैयारी की। सबके मन में एक ही जज्बा है कि बस, कोरोना को हराना है। बता दें कि अब तक झारखंड में दो कोरोना संक्रमित मरीजाें की पहचान हो चुकी है।

डीवीसी व जिला प्रशासन की अपील, सिर्फ लाइट बंद करें 

प्रधानमंत्री के आह्वान पर 5 अप्रैल को रात 9 बजे 9 मिनट तक लाइट बंद रख, दीये, मोमबत्ती, टार्च और मोबाइल की फ्लैश लाइट जलाने को लेकर कोडरमा थर्मल पॉवर स्टेशन ने भी व्यापक तैयारी कर रखी है। अचानक से लाइट बंद होने की स्थिति में डीवीसी ने लोगों से अपील की है कि रात 9 बजे लाइट बंद करने की स्थिति में घरों में लगे बिजली के दूसरे उपकरणों को चालु रखें। इसी तरह की एक अपील रविवार की शाम कोडरमा जिला प्रशासन ने भी की है, जिसमें ऊर्जा मंत्रालय के हवाले से राष्ट्रीय ग्रिज में संतुलन बनाए रखने को लेकर ऐसा करने को कहा है। इधर डीवीसी के अधिकारियों ने बताया केटीपीएस की एक यूनिट 25 मार्च से बंद है जबकि दूसरी यूनिट से पांच सौ मेगावाट बिजली का उत्पादन नियमित तौर से जारी है और फिलहाल उत्तरी छोटानागपुर प्रमंडल के कोडरमा, चतरा, हजारीबाग, धनबाद, रामगढ़, बोकारो और गिरीडीह में बिजली की आपूर्ति के बाद सरप्लस बिजली को ग्रिड में सप्लाई किया जा रहा है।

डीवीसी ने लाेगों से अपील की है कि वे रात आठ बजे से ही एक-एक घर की लाइट बुझाना बंद करें और रात 9 बजकर 10 मिनट से एक एक कर लाइट जलाए, ऐसा करने से ग्रिड में लोड की स्थिति सामान्य बनी रहेगी। इस दौरान बिजली के दूसरे उपकरण पूर्व की भांति चालू रखें, ताकि ब्रेकडाउन होने का खतरा नहीं उत्पन्न हो। केटीपीएस में बिजली उत्पादन के लिए दो हैवी पानी के मोटर लगे है और रात 9 बजे के पहले से ही लोड सामान्य बनाए रखने के लिए इसे चलाया जाएगा। डीवीसी ने अपने कमांड एरिया के लोगों से आग्रह किया है कि रात 9 बजे न तो अचानक से लाइट बंद करे और न ही रात 9 बजकर 10 मिनट पर अचानक से लाइट जलाएं। लाइट बंद करने से लेकर जलाने की प्रक्रिया धीरे-धीरे करे। इस दौरान डीवीसी ने सड़कों पर जलने वाले लाइट और पुलिस स्टेशन, अस्पताल में लाइट पूर्ववत चालू रखने की भी अपील की है।

अर्जुन मुंडा ने कहा, आपसी एकजुटता का करें प्रदर्शन

केंद्रीय मंत्री अर्जुन मुंडा ने झारखंड के विभिन्न प्रमुख हस्तियों से फोन पर बात कर पांच अप्रैल को रात 9 बजकर 9 मिनट पर दीया, मोमबत्ती, टॉर्च या मोबाइल की फ्लैश लाइट जलाकर आपसी एकजुटता की अपील की है। मुंडा ने शनिवार को पद्मश्री सिमोन उरांव, मुकुंद नायक, तीरंदाज दीपिका कुमारी, गोपाल प्रसाद दुबे, शशधर आचार्य, बंगाली समाज के अनूप चौधरी, झारखंड मारवाड़ी सम्मेलन के सचिव सुरेश संथालिया, ब्रह्मर्षि समाज के संयोजक अनिल कुमार सिंह, झारखंड-बिहार माहेश्वरी समाज के अध्यक्ष विनय कुमार माहेश्वरी एवं पंजाबी हिन्दू बिरादरी के महासचिव सुधीर उग्गल से बात कर इस कार्यक्रम को सफल बनाने की अपील की। 

Posted By: Alok Shahi

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस