रांची, जासं। रांची के बहुचर्चित अग्रवाल बंधु हत्याकांड के ठीक एक महीने बाद पुलिस ने फरार चल रहे लोकेश चौधरी और एमके सिंह के घर कुर्की-जब्ती की। पुलिस दोनों के घरों के बिस्तर, बर्तन, फ्रीज, टीवी, वाशिंग मशीन सहित हर जरूरत का सामान उठाकर ले गई। रविवार शाम पांच बजे एक साथ लोकेश के जगन्नाथपुर थाना क्षेत्र के कचनारटोली स्थित वसुंधरा अपार्टमेंट के फ्लैट नंबर 201 और एमके सिंह के हिनू शुक्ला कॉलोनी स्थित मां गायत्री अपार्टमेंट के थर्ड फ्लोर के 3-ए में कुर्की-जब्ती की गई।  पुलिस लोकेश के घर का ताला खुलवाकर घुसी थी। वहीं एमके सिंह की पत्नी और दो बेटियों की मौजूदगी में पुलिस ने सामानों को जब्त किया।

मजिस्ट्रेट की मौजूदगी में हुई कुर्की : लोकेश के घर मजिस्ट्रेट की मौजूदगी में वीडियोग्राफी के साथ कुर्की की गई। अरगोड़ा सीओ रविंद्र कुमार की मौजूदगी में इंस्पेक्टर राजीव रंजन लाल और जगन्नाथपुर थानेदार अनूप कर्मकार भी कार्रवाई में शामिल रहे। हालांकि कुर्की की कार्रवाई के बावजूद लोकेश और एमके सिंह ने पुलिस से संपर्क नहीं किया। 

साज-सज्जा देख हैरत में थी पुलिस : लोकेश के घर जब पुलिस कुर्की जब्ती की कार्रवाई करने गई, तो वहां का साज सज्जा और सामानों की भरमार देख हैरत में थी। पुलिस काफी देर तक सोचती रही कि कहां से शुरू किया जाए। पुलिस ने चार मजदूरों को बुलाया। इसके बाद इलेक्ट्रिशियन और कारपेंटर बुलवाया। कारपेंटर बुलवाने के बाद पलंग, सोफा कम बेड, सोफा सेट, डाइनिंग टेबल सहित अन्य फर्नीचर के सामानों को खुलवाया। इसी तरह इलेक्ट्रॉनिक सामानों को भी खुलवाते हुए दो ट्रकों और एक पिकअप वैन मेंं लोड कर पुलिस जगन्नाथपुर थाना ले गई। कुर्की जब्ती के लिए दस मजदूर व थाने के करीब 15 पुलिसकर्मी लगे थे। इधर, एमके के घर पर भी चार मजदूर सहित दो कारपेंटर बुलवाए गए थे। कारपेंटरों ने फर्नीचर के सामानों को खोला और ट्रक पर लोड कर पुलिस डोरंडा थाना ले गई। एमके के घर रात के करीब साढ़े सात बजे तक कुर्की की कार्रवाई समाप्त हुई। उधर, लोकेश के घर रात के आठ बजे तक कुर्की की कार्रवाई समाप्त हुई।

लोकेश के घर से इन सामानों की जब्ती : दो दीवान, डाइनिंग टेबल, वाशिंग मशीन, अलमीरा, टेबल, कुलर, दो कुर्सी, एक हीटर, छह डाइनिंग कुर्सी, प्लास्टिक रेक, एलईडी टीवी, साउंड सिस्टम, ड्रेसिंग टेबल, गैस चूल्हा, सिलेंडर, सिलिंग पंखा, दीवार पंखा।

हर कमरे में एक कोने में पूजा के लिए बनाया था रेक
लोकेश के घर के हर कमरे के कोने पर पूजा के लिए रेक बनाकर रखा गया था।

एमके घर जब्त हुए सामान : दो पलंग, एक डे्रसिंग टेबल, सोफा सेट, तीन लकड़ी की कुर्सी, बड़ा टेबल फैन, एलईडी टीवी, फ्रीज, लकड़ी का रैक, प्लास्टिक की कुर्सी, वाशिंग मशीन, एक वीडियोकॉन टीवी, एक सिलाई मशीन, दो अलमीरा, लकड़ी का टेबल, गैस सिलेंडर, बर्तन सहत अन्य सामान। 

छह मार्च को गोली मारकर की गई थी हत्या : बीते छह मार्च की शाम अशोक नगर रोड नंबर एक स्थित साधना न्यूज चैनल के बंद पड़े कार्यालय में व्यवसायी हेमंत अग्रवाल व उनके सगे भाई महेंद्र अग्रवाल की गोली मारकर हत्या कर दी गई थी। घटना को अंजाम देने के बाद लोकेश 11:57 बजे जगन्नाथपुर थाना क्षेत्र के कचनार टोली स्थित वसुंधरा अपार्टमेंट पहुंचा था। वहां से पत्नी व बच्चों को लेकर सीधे बिहार भाग निकला था।

रुपये हड़पने के लिए की थी हत्या : लोकेश चौधरी के अंगरक्षक सुनील सिंह ने पकड़े जाने के बाद बताया था कि व्यवसायी हेमंत अग्रवाल और महेंद्र अग्रवाल की हत्या लाखों रुपये हड़पने के लिए की थी। इसके लिए अपने दोस्त व बॉडीगार्ड से आइबी की फर्जी रेड कराई थी। एमके सिंह और धर्मेंद्र तिवारी ने अग्रवाल बंधुओं पर गोली चलाई थी। न्यूज चैनल कार्यालय में दोनों भाईयों की हत्या के बाद लोकेश, एमके सिंह और उनके दोनों अंगरक्षक सीसीटीवी फुटेज की डीवीआर लेकर भाग निकले थे।

अब तक तीन लोग जा चुके हैं जेल : डबल मर्डर के मामले में अब तक तीन लोग जेल जा चुके हैं। बीते 19 मार्च को अंगरक्षक धर्मेंद्र तिवारी ने कोर्ट में सरेंडर कर दिया था। इससे पहले बीते 15 मार्च को सुनील कुमार को पुलिस ने गिरफ्तार कर जेल भेजा था। वहीं 20 मार्च को चालक शंकर को पुलिस ने जेल भेजा था। दोनों अंगरक्षकों के हथियार भी बरामद कर लिए गए थे।

Posted By: Alok Shahi