रांची, राज्य ब्यूरो। Jharkhand, Money Laundering Case झारखंड उच्च न्यायालय के अधिवक्ता राजीव कुमार की 50 लाख रुपये के साथ गिरफ्तारी करवाने वाले कोलकाता के व्यवसायी अमित अग्रवाल को ईडी ने शुक्रवार को गिरफ्तार कर लिया। ईडी की टीम उन्हें शनिवार को ईडी की रांची स्थित विशेष अदालत में प्रस्तुत करेगी। ईडी के रडार पर झारखंड के दो व बंगाल पुलिस के दो अधिकारी भी हैं, जिनपर अमित अग्रवाल के साथ मिलकर अधिवक्ता राजीव कुमार के विरुद्ध साजिश रचने का संदेह है।

पूछताछ में नहीं मिला था संतोषजनक जवाब

अधिवक्ता राजीव कुमार की गिरफ्तारी के बाद मनी लांड्रिंग के तहत अनुसंधान के दौरान ईडी को भारी मात्रा में अवैध तरीके से रुपयों के लेन-देन की जानकारी मिली। इस मामले में अमित अग्रवाल से पूछताछ भी की गई थी, जिसमें उन्होंने संतोषजनक जवाब नहीं दिया था।

प्रेम प्रकाश ने अवैध खनन का रुपया अमित को दिया

इसके अलावा संताल के क्षेत्र में 1000 करोड़ रुपये के अवैध खनन में पंकज मिश्रा, प्रेम प्रकाश व बच्चू यादव पर दाखिल चार्जशीट में भी ईडी ने अमित अग्रवाल के बारे में जानकारी दी थी। ईडी ने खुलासा किया था कि प्रेम प्रकाश ने संताल से अवैध खनन का रुपया मंगवाया और कोलकाता के व्यवसायी अमित अग्रवाल को दिया। झारखंड मुक्ति मोर्चा से निष्कासित पूर्व कोषाध्यक्ष रवि केजरीवाल के बयान के आधार पर इस तथ्य को ईडी ने चार्जशीट में शामिल किया है। ईडी ने गत 21 जुलाई को रवि केजरीवाल का बयान कलमबद्ध किया था।

अधिवक्ता राजीव कुमार को 50 लाख रुपये लेते गिरफ्तार करने का किया था दावा

कोलकाता के हेयर स्ट्रीट थाने में अमित अग्रवाल ने अधिवक्ता राजीव कुमार के विरुद्ध प्राथमिकी दर्ज कराई थी। उसने दावा किया था कि एक जनहित याचिका मैनेज करने के नाम पर अधिवक्ता ने उनसे एक करोड़ रुपये की मांग की थी। पहली किश्त में 50 लाख रुपये लेने कोलकाता गए थे। अमित अग्रवाल ने दावा किया था कि अधिवक्ता 50 लाख रुपये ले ही रहे थे कि उन्होंने कोलकाता पुलिस के साथ मिलकर गत 31 जुलाई को उनकी गिरफ्तारी करवाई थी।

Edited By: Sanjay Kumar

जागरण फॉलो करें और रहे हर खबर से अपडेट