Move to Jagran APP

झारखंड में I.N.D.I.A गठबंधन इन विधानसभा क्षेत्रों में पिछड़ा, BJP ने इस सीट पर की बढ़त हासिल

साल 2019 में हुए लोकसभा चुनाव में कांग्रेस झामुमो झाविमो राजद का गठबंधन 18 विधानसभा क्षेत्रों में पिछड़ गया था जहां उसके विधायक थे और महागठबंधन के प्रत्याशियों को अपने विधायकों का साथ नहीं मिल पाया था। इस बार के लोकसभा चुनाव में 18 विधानसभा क्षेत्रों में 15 में गठबंधन का ही नया रूप आइएनडीआइए दोबारा से पिछड़ गया है।

By Neeraj Ambastha Edited By: Shoyeb Ahmed Published: Mon, 10 Jun 2024 07:14 PM (IST)Updated: Mon, 10 Jun 2024 07:14 PM (IST)
झारखंड में I.N.D.I.A गठबंधन इन विधानसभा क्षेत्रों में पिछड़ा (File Photo)

जागरण संवाददाता, रांची। वर्ष 2019 में हुए लोकसभा चुनाव में कांग्रेस, झामुमो, झाविमो राजद का गठबंधन 18 विधानसभा क्षेत्रों में पिछड़ गया था, जहां उसके विधायक थे। महागठबंधन के प्रत्याशियों को इन विधानसभा क्षेत्रों के अपने विधायकों का साथ नहीं मिल पाया था।

इस बार के लोकसभा चुनाव में इन 18 विधानसभा क्षेत्रों में 15 में गठबंधन का ही नया रूप आइएनडीआइए दोबारा पिछड़ गया है। यहां उसके प्रत्याशियों को बढ़त नहीं मिल सकी। इन 15 विधानसभा क्षेत्रों में नौ विधानसभा क्षेत्र तो ऐसे हैं, जहां इस बार भी इसके विधायक हैं।

जिन तीन विधानसभा क्षेत्रों में आइएनडीआइए ने पिछली बार पिछड़ने के बाद इस बार बढ़त बनाई, उनमें खरसावां, विशुनपुर तथा लोहरदगा सम्मिलित हैं। एक अन्य सीट जामा तो झामुमो की है, लेकिन यहां की विधायक सीता सोरेन ने यह लोकसभा चुनाव भाजपा के टिकट पर लड़ा था। हालांकि यहां भी आइएनडीआइए दोबारा पिछड़ा।

भाजपा का ये रहा हाल

भाजपा की बात करें तो पिछले लोकसभा चुनाव में इसके प्रत्याशी भी उन पांच विधानसभा क्षेत्रों में पिछड़ गए थे, जहां इसके विधायक थे। इस बार भी इन पांचों विधानसभा क्षेत्रों में पार्टी प्रत्याशी को आइएनडीआइए के विजेता प्रत्याशियों से कम वोट मिले।

हालांकि इन पांचों विधानसभा क्षेत्रों में इस बार इसके महज एक विधानसभा क्षेत्र खूंटी में इसके विधायक नीलकंठ सिंह मुंडा थे, जो अपने क्षेत्र में भाजपा प्रत्याशी अर्जुन मुंडा को बढ़त नहीं दिला सके। बताते चलें कि इस लोकसभा चुनाव में जहां 50 विधानसभा क्षेत्रों में एनडीए तथा 29 में आइएनडीआइए आगे है।

यहां अपने विधायक रहते दोबारा पिछड़ गया आइएनडीआइए

विधानसभा क्षेत्र विधायक (दल) जरमुंडी बादल (कांग्रेस) नाला रबीन्द्रनाथ महतो (झामुमो) पोड़ैयाहाट प्रदीप यादव (कांग्रेस) बरही उमाशंकर अकेला (कांग्रेस) बड़कागांव अंबा प्रसाद (कांग्रेस) डुमरी बेबी देवी (झामुमो) बहरागोड़ा समीर मोहंती (झामुमो) सरायकेला चंपई सोरेन (झामुमो) लातेहार बैद्यनाथ राम (झाविमो)

यहां दोबारा पिछड़ा आइएनडीआइए

इस बार एनडीए के थे विधायकनिरसा अपर्णा सेन गुप्ता (भाजपा)सिल्ली सुदेश महतो (आजसू)गोमिया लंबोदर महतो (आजसू)पांकी शशिभूषण मेहता (भाजपा)हुसैनाबाद कमलेश सिंह (एनसीपी)

इन पांचो विधानसभा क्षेत्रों में भाजपा की हुई दोबारा हार

विधानसभा क्षेत्र विधायक दल बोरियो लोबिन हेम्ब्रम (झामुमो, बागी होकर निर्दलीय चुनाव लड़े थे) खूंटी नीलकंठ सिंह मुंडा (भाजपा) सिसई जिगा सुसारन होरो (झामुमो) गुमला भूषण तिर्की (झामुमो )सिमडेगा भूषण बाड़ा (कांग्रेस)।

ये भी पढे़ं-

Hemant Soren: हेमंत सोरेन की जमानत याचिका पर झारखंड हाई कोर्ट में सुनवाई जारी, कपिल सिब्बल ने ED का दावा किया खारिज

कभी लालू के RJD की कमान संभालती थीं अन्नपूर्णा देवी, अब मोदी मंत्रिमंडल में बढ़ा कद; कैबिनेट मंत्री की ली शपथ


This website uses cookies or similar technologies to enhance your browsing experience and provide personalized recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.