रांची, जासं। कोरोना वायरस से सर्वाधिक प्रभावित देश चीन, कजाकिस्तान और किर्गिस्तान के 11 नागरिकों के रांची के तमाड़ के रडग़ांव स्थित एक मस्जिद में ठहरे होने की सूचना पर इलाके में हड़कंप मच गया। इसकी सूचना पुलिस प्रशासन को दी गई। पुलिस-प्रशासन मेडिकल टीम के साथ वहां पहुंची और सभी मौलवियों की स्वास्थ्य जांच की। सभी को रेस्क्यू करते हुए क्वारंटाइन के लिए मुसाबनी स्थित कांस्टेबल ट्रेनिंग स्कूल भेज दिया गया।

बुंडू डीएसपी अजय कुमार ने बताया कि चीन के तीन, कजाकिस्तान के चार व किर्गिस्तान के चार संदिग्ध मौलवी मस्जिद में रुके थे। ग्रामीण एसपी ऋषभ कुमार झा ने बताया कि पूछताछ में सभी 11 नागरिकों ने बताया है कि वे भारत के मुस्लिम कल्चर पर स्टडी के लिए यहां आए थे। उन्होंने खुद को स्कॉलर भी बताया है। उनके पासपोर्ट, वीजा वैध लग रहे हैैं। हालांकि उनके यहां आने और उनके दस्तावेजों का सत्यापन किया जा रहा है। वीजा-पासपोर्ट जब्त किया गया है।

प्रारंभिक जांच में कोरोना के नहीं मिले लक्षण

तमाड़ चिकित्सा प्रभारी आशुतोष त्रिपाठी ने बताया कि सभी 11 विदेशियों की प्रारंभिक जांच कर ली गई है। किसी के कोरोना संक्रमित रोग के लक्षण नही मिले हैं। फिर भी सभी को भारी सुरक्षा व्यवस्था के बीच मुसाबनी स्थित कांस्टेबल ट्रेनिंग स्कूल जमशेदपुर में 15 दिनों के क्वारंटाइन के लिए भेजा गया। बताया जा रहा है कि सभी मौलवी 19 मार्च को दिल्ली से रांची पहुंचे थे। रांची से जमशेदपुर जाने के क्रम में सभी रडग़ांव स्थित मस्जिद में शरण लिए थे। तब से वे सभी रडग़ांव में ही रह रहे थे। अपने आप को धर्म प्रचारक भी बताया है। वे पिछले डेढ़ महीने से भारत में हैं।

Posted By: Sujeet Kumar Suman

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस