Move to Jagran APP

झारखंड में इस सांसद की हुई सबसे बड़ी जीत, मोदी 3.0 कैबिनेट में मिली बड़ी जिम्मेदारी; पति के मौत के बाद रखा था राजनीति में कदम

Annapurna Devi Political Career झारखंड में सबसे अधिक मतों के अंतर से 2024 का लोकसभा चुनाव जीतने वाली कोडरमा सांसद अन्नपूर्णा देवी केंद्र की नरेन्द्र मोदी सरकार में दूसरी बार मंत्री बनी हैं। इनके पूरे 25 वर्षों के राजनीतिक जीवन में 5 वर्ष को छोड़ दिया जाए तो बाकी के 20 वर्ष में अधिकतर समय सत्ता के केंद्र में रहीं।

By Anup Kumar Sinha Edited By: Prateek Jain Published: Tue, 11 Jun 2024 08:58 AM (IST)Updated: Tue, 11 Jun 2024 08:58 AM (IST)
कोडरमा सांसद अन्नपूर्णा देवी केंद्र की नरेन्द्र मोदी सरकार में दूसरी बार मंत्री बनी हैं। फोटो- एएनआई

अनूप कुमार, कोडरमा। झारखंड में सबसे अधिक मतों के अंतर से 2024 का लोकसभा चुनाव जीतने वाली कोडरमा सांसद अन्नपूर्णा देवी केंद्र की नरेन्द्र मोदी सरकार में दूसरी बार मंत्री बनी हैं। इनके पूरे 25 वर्षों के राजनीतिक जीवन में 5 वर्ष को छोड़ दिया जाए तो बाकी के 20 वर्ष में अधिकतर समय सत्ता के केंद्र में रहीं।

वर्ष 1998 में पति रमेश प्रसाद यादव की मौत के बाद एक गृहिणी से राजनीति में कदम रखने वाली अन्नपूर्णा देवी आज देश की राजनीति में एक नामचीन हस्ती बन चुकी हैं। केंद्रीय कैबिनेट में शामिल होने वाली अन्नपूर्णा देवी कोडरमा लोकसभा की पहली प्रतिनिधि हैं।

1998 में लड़ा था पहला चुनाव

वह नरेंद्र मोदी 2.0 कैबिनेट में शिक्षा राज्यमंत्री रहीं। पुनः नरेन्द्र मोदी सरकार 3.0 में भी उन्हें मंत्रिमंडल में जगह मिली। अन्नपूर्णा देवी के पति रमेश प्रसाद यादव एकीकृत बिहार में राबड़ी देवी सरकार में खान एवं भूतत्व राज्य मंत्री रहे थे। वर्ष 1998 में रमेश प्रसाद यादव की मौत के बाद उन्‍होंने गृहिणी से राजनीति में कदम रखा। वह 1998 में कोडरमा विधानसभा उप चुनाव में जीत कर पहली बार विधायक बनीं। पुनः 2000 के आम चुनाव में दूसरी बार कोडरमा से जीत दर्ज कीं।

इसके बाद उन्हें बिहार की राबड़ी देवी सरकार में खान एवं भूतत्व राज्य मंत्री का पद मिला। नवंबर, 2000 में झारखंड अलग राज्य के रूप में अस्तित्व में आने के बाद झारखंड में संख्या बल के आधार पर भाजपा की सरकार बनी तो अन्नपूर्णा देवी को मंत्री पद छोड़ना पड़ा।

इसके बाद वह 2005 और 2009 का विधानसभा चुनाव राजद के टिकट पर जीतीं। 2013 में करीब डेढ़ वर्षों तक हेमंत सोरेन की सरकार में जल संसाधन, निबंधन, महिला एवं बाल विकास जैसे महत्वपूर्ण विभागों की मंत्री रहीं। 2014 में उनके राजनीतिक जीवन में पहला झटका लगा और इस चुनाव में वह भाजपा की नीरा यादव से हार गईं।

इसके बाद वह वर्ष 2014 से 2019 तक सत्ता के केंद्र से बाहर रही। पुनः 2019 के लोकसभा चुनाव से ठीक पहले अन्नपूर्णा देवी राजद छोड़ भाजपा में शामिल हुईं। तब वह राजद की झारखंड प्रदेश की अध्यक्ष थीं। भाजपा ने उन्हें 2019 में ही कोडरमा लोकसभा का टिकट दिया जिसमें वह झारखंड के पहले मुख्यमंत्री और तीन बार कोडरमा से सांसद रहे बाबूलाल मरांडी को करीब 4.55 लाख के अंतर से हराकर सांसद बनीं।

इसके बाद भाजपा ने उन्हें संगठन में प्रदेश उपाध्यक्ष, राष्ट्रीय उपाध्यक्ष, हरियाणा व उत्तर प्रदेश का प्रभारी जैसे महत्वपूर्ण दायित्व सौंपा। 7 जुलाई 2021 को उन्हें नरेन्द्र मोदी 2.0 कैबिनेट में शिक्षा राज्य मंत्री के रूप में जगह मिली। 2024 के लोकसभा चुनाव में भाजपा ने दूसरी बार कोडरमा से उम्मीदवार बनाया जिसमें वह भारी बहुमत से चुनाव जीतकर नरेन्द्र मोदी 3.0 की सरकार का हिस्सा बनीं।

अन्नपूर्णा देवी का पारिवारिक एवं व्यक्तिगत जीवन नाम: अन्नपूर्णा देवी

पति: स्वर्गीय रमेश प्रसाद यादव

शिक्षा: स्नातकोत्तर, रांची विश्वविद्यालय

बच्चे: तीन- श्वेता, सौरभ और मयंक 

पिता: तारा प्रसन्न महतो

माता: रेवती देवी


This website uses cookies or similar technologies to enhance your browsing experience and provide personalized recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.