पोटका, जागरण संवाददाता। पूर्वी सिंहभूम के कोवाली थाना क्षेत्र के हरिणा पंचायत के पांडरासुली में रविवार शाम छह बजे बजे एक कलयुगी मां अपने कलेजे के टुकड़े को गुर्दा नदी के पुलिया के नीचे छोड़कर भाग निकली। बच्चा कुछ देर पुलिया के नीचे खेलता रहा मगर जैसे ही बच्चे को चीटियों ने काटना शुरू किया तो जोर-जोर से रोने लगा। आते - जाते लोगों ने बच्चे की आवाज सुनकर इधर-उधर झाड़ियों में खोजबीन शुरू की तो देखा गया कि गुर्रा नदी के पुलिया के नीचे एक बच्चा नग्न अवस्था में पडा है।  इस बीच यह बात जंगल में आग की तरह फैल गई। चारों ओर से लोग आने लगे देखने के लिए। इसके साथ ही बच्चे को गोद लेने की भी कई लोगों ने इच्छा जाहिर की। लोगों ने 108 एंबुलेंस को सूचना दी जिसके बाद एंबुलेंस के सहारे सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र पोटका लाया गया।  बच्चे के इलाज के बाद पोटका थाना एसआई गुलाब अंसारी ने देखा कि एक व्यक्ति बच्चे को गोद लेने के लिए परेशान नजर आ रहा है। एसआई गुलाब अंसारी ने तत्काल चाइल्ड लाइन से संपर्क कर बच्चे को विधिवत रूप से एंबुलेंस के सहारे जल सहिया बिल्टी गोप के संरक्षण में चाइल्ड लाइन भेज दिया ताकि बच्चे को विधिवत रूप से गोद दिया जा सके।

स्थानीय लोगों में तरह-तरह की चर्चाएं

स्थानीय लोगों में बच्चे को लेकर तरह-तरह की चर्चाएं हैं l कुछ लोगों का कहना है  कि नाजायज संबंध का यह फल है। वहीं दूसरी ओर कई लोगों का यह भी कहना है कि हो सकता है कि लगातार बेटियों के जन्म देने से प्रताड़ना से बचने के लिए इस नवजात बच्ची को पुलिया के नीचे छोड़ गई। जो भी हो अब चाइल्ड लाइन से बच्चे को उनका कानूनी माता पिता मिल पाएगा जिससे आगे की जिंदगी शुरू हो सके ।

Edited By: Rakesh Ranjan