जमशेदपुर,जासं। जमशेदपुर अक्षेस टीम को नक्शा विचलन कर बनाए भवनों को कार्रवाई करने के दौरान विवादित मामला सामने आया है। जांच के क्रम में पाया गया कि जमशेदपुर अक्षेस से बिना अनुमति लिए ही भवन निर्माता अवैध भवनों का निर्माण धड़ल्ले से कर रहा है। आश्चर्य की बात यह है कि बिना अक्षेस की अनुमति के ही टाटा स्टील द्वारा पानी-बिजली भी दिया जा रहा है। इस बात का जानकारी मिलने पर जमशेदपुर अक्षेस के विशेष पदाधिकारी कृष्ण कुमार ने टाटा स्टील को पत्र लिखकर अवैध भवनों को दिए जा रहे बिजली-पानी के कनेक्शन पर प्रश्न चिन्ह खड़ा कर दिया है।

टाटा स्टील लैंड डिपार्टमेंट के हेड को लिखा पत्र

जमशेदपुर अक्षेस के विशेष पदाधिकारी कृष्ण कुमार ने टाटा स्टील लैंड डिपार्टमेंट के हेड को लिखा, पत्र में कहा- जमशेदपुर अक्षेस क्षेत्र के अंतर्गत अवैध या नक्शा विचलन कर बनाए जा रहे भवनों में अक्षेस की बिना अनुमति का बिजली व पानी का कनेक्शन दिया जा रहा है। इसके कारण भवन निर्माताओं व जमीन मालिकों द्वारा अवैध विचलन कर भवन के निर्माण में प्रोत्साहन मिल रहा है। टाटा स्टील को लिखे पत्र में कहा है कि जमशेदपुर अक्षेस के अंतर्गत निर्माण किए जा रहे भवनों में अक्षेस के बिना अनुमति के किसी भी परिस्थिति में पानी व बिजली का कनेक्शन नहीं दिया जाए।

नियम है कि अक्षेस से अनुमति सर्टिफिकेट मिलने पर ही टाटा देगी पानी-बिजली

नियम यह है कि जमशेदपुर अधिसूचित क्षेत्र समिति के बिना अनुमित प्रदान किए बिना टाटा स्टील को भवन निर्माता को पानी व बिजली का कनेक्शन नहीं देना है। अक्षेस की ओर से भवन निर्माण के लिए दो प्रकार की सर्टिफिकेट दी जाती है। जिसे जमा करने के बाद ही टाटा स्टील पानी व बिजली देती है।

अक्षेस के बिना अनुमति वाले इन भवनों को दिया गया पानी-बिजली

- प्रीति अग्रवाल, होल्डिंग नंबर 95 बी, न्यू रानीकुदर

- होल्डिंग नंबर 71 लाइन नंबर 07 ए ब्लाक धतकीडीह

- अमजद खान एवं मुस्ताक खान, होल्डिंग नंबर 9, रानीकुदर, एक्सटेंशन

- लीलावती एवं अन्य होल्डिंग नंबर 7, रानीकुदर वेस्ट

- कमलजीत सिंह, रतन कालीमंदिर के पास रानीकुदर

Edited By: Sanam Singh