जमशेदपुर : विदेशी कंपनियां अमेजन, फ्लिपकार्ट सहित स्वदेशी कंपनी जियो मार्ट को टक्कर देने के लिए टाटा ग्रुप भी सुपर एप तैयार कर रही है। जिसमें ग्रॉसरी सामानों के अलावा, स्वास्थ्य के लिए फिटनेस, दवाएं, हवाई जहाज व ट्रेन की टिकट सहित कपड़े, जूते सहित दैनिक जरूरत की सभी सामान मिलेंगे। समूह ने इसके लिए 5100 करोड़ रुपये से ज्यादा निवेश किया है। हाल ही में टाटा समूह ने बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज को दी गई अपनी जानकारी में बताया है कि उसने अपने दो ऑनलाइन कारोबार के लिए 5100 करोड़ रुपये का निवेश किया है।

केंद्र सरकार की घोषणा के बाद लगाई ब्रेक

टाटा समूह अपने सुपर एप को सितंबर माह में ही अपना सुपर एप लांच करने वाली थी। लेकिन केंद्र सरकार ऑनलाइन मार्केटिंग और उपभोक्ता संरक्षण पर नया कानून लेकर आ रही है। ऐसे में टाटा स्टील ने अपने प्रोजेक्ट पर कुछ दिनों तक के लिए रोक लगा दी है। टाटा समूह चाहती है कि पहले वे नए उपभोक्ता कानून को अच्छी तरह से समझ ले, इसके बाद उसी के अनुरूप अपने सुपर एप को लांच करे।

इन कंपनियों से जुटाए फंड

टाटा समूह ने 5100 करोड़ रुपये का जो फंड जुटाया है उसमें टाटा डिजिटल को एक बड़ा हिस्‍सा मिला है जोकि 5,025 करोड़ रुपए का है। जबकि बकि टाटा यूनिस्टोर, जो टाटा क्लिक ईकॉमर्स मार्केटप्लेस का मालिक है, ने 1,000 करोड़ रुपए जुटाने की अपनी योजना के तहत दो चरणों में 102 करोड़ रुपए प्राप्त किए हैं। टाटा डिजिटल ने टाटा संस से धन जुटाया है।

वहीं दूसरी ओर टाटा यूनिस्टोर अपने ज्‍वाइंट वेंचर्स कंपनी, टाटा इंडस्ट्रीज और ट्रेंट लिमिटेड से असुरक्षित, अन-लिस्टेड, ऑप्‍शनली कंवर्टेबल डिबेंचर के माध्यम से पूंजी जुटा रहा है। वित्त वर्ष 2021 में टाटा डिजिटल ने 400 करोड़ रुपए जुटाए थे। जबकि वित्त वर्ष 2020 में इसने अपनी पेरेंट कंपनी से 100 करोड़ रुपए जुटाए थे। टाटा यूनिस्टोर को वित्त वर्ष 2021 में 30 करोड़ रुपए, वित्त वर्ष 2020 में 311 करोड़ रुपए और वित्त वर्ष 2019 में 292 करोड़ रुपए जुटाए थे। जबकि वित्तीय वर्ष 2018 में कंपनी को 224 करोड़ रुपए मिले थे।

टाटा की होगी एक अलग ई-प्लेटफार्म

बाजार में हो रही चर्चा के अनुसार टाटा डिजिटल की एक अलग प्लेटफार्म भी होगा। जो कॉस्मेटिक्स, वेलनेस प्रोडक्ट पर केंद्रित रहेगा। टाटा समूह इसे जलद ही लांच करने की तैरूारी कर रहा है। यह प्लेटफार्म बाजार में मौजूद नायका, पर्पल, माई ग्लैकम जैसी फर्मों को टक्कर देगा। यह टाटा क्लिक और वेस्ट साइड डॉट कॉम से बिल्कुल अलग होगा। जो पकड़े, इलेक्ट्रॉनिक्स सहित घरेलू उपयोग होने वाले उत्पाद, जैसे टीवी, फ्रिज, वॉशिंग मशीन, एसी की बिक्री करती है।

सुपरएप के लिए समूह ने इन कंपनियों का कर चुकी है अधिग्रहण

टाटा समूह जो कुछ भी करती है, बड़ा ही करती है। ऐसे में टाटा समूह बाजार में अपनी जोरदार उपस्थिति दर्ज करने के लिए कई कंपनियों का अधिग्रहण किया है। इसमें बड़ा नाम है ई-ग्रॉसरी की सबसे बड़ी कंपनियों में से एक बिग बास्केट। इसके अलावा ई-फार्मा कंपनी 1एमजी और फिटनेस से जुड़ी स्टार्टअप कंपनी कल्टफिट कंपनी शामिल है।

Edited By: Jitendra Singh