जमशेदपुर, जासं। कोविड 19 के पहले वेब के बाद जब स्थिति थोड़ी सामान्य होनी शुरू हुई तो रेलवे बोर्ड ने भी धीरे-धीरे ट्रेनों का परिचालन शुरू किया। ट्रेनें तो शुरू हुई लेकिन कोविड 19 के दूसरे वेब के कारण जब महामारी फैली तो ट्रेनों में यात्रियों की संख्या कम हो गई। लगातार गिरते यात्रियों की संख्या को देखते हुए दक्षिण पूर्व रेलवे ने सात जोड़ी ट्रेनों के परिचालन को बंद कर दिया है।

इन सभी ट्रेनों में लगातार यात्रियों की संख्या कम हो रही थी। इनमें जिन ट्रेनों को बंद किया गया उनकी यात्रियों की संख्या पर लगातार रेलवे बोर्ड नजर रख रहा था। लेकिन जब महामारी के सेकेंड वेब का प्रकोप बढ़ा तो रेलवे के घाटे को कम करने के लिए इन सभी ट्रेनों का परिचालन बंद कर दिया गया। बंद होने वाली पहली ट्रेन 58103-58104 टाटा बड़बिल टाटा पैसेंजर में 30 प्रतिशत ही यात्री मिल रहे थे। इसके अलावा 58151-58152 वीर मित्रपुर से चलकर बरसुवान को जाने वाली पैसेंजर ट्रेन को नौ प्रतिशत यात्री मिल रहे थे। वहीं, 68601 -68602 राउरकेला झारसुगुड़ा पैसेंजर को भी 30 प्रतिशत यात्री मिल रहे थे। इसके अलावा 02211-02212 पुरुलिया हावड़ा एक्सप्रेस के डाउन ट्रेन को 0.34 प्रतिशत और अप ट्रेन को 44 प्रतिशत यात्री मिल रहे थे।

इन ट्रेनों में नहीं मिल रहे थे यात्री

वहीं, 68041-68042 आद्रा बरकाकाना आद्रा मेमो ट्रेन की अप ट्रेन को 18.7 प्रतिशत और डाउन ट्रेन को 17.6 प्रतिशत यात्री मिल रहे थे। जबकि आद्रा से चलकर आसनसोल को जाने वाली 68045-68046 की अप ट्रेन को 20.8 प्रतिशत और डाउन ट्रेन को 20.4 प्रतिशत यात्री मिल रहे थे। इसके अलावा बोकारो स्टील सिटी से चलकर रांची को जाने वाली 58033 व 58034 पैसेंजर स्पेशल ट्रेन की डाउन ट्रेन को 45 प्रतिशत जबकि अप ट्रेन को मात्र तीन यात्री मिल रहे थे इसलिए लगातार यात्रियों की गिरती संख्या को देखते हुए दक्षिण पूर्व रेलवे ने इन सभी ट्रेनों का परिचालन बंद कर दिया।

Edited By: Rakesh Ranjan