जमशेदपुर (जागरण संवाददाता)। कैसे हैं महेश शर्मा जी, मैं नरेंद्र मोदी बोल रहा हूं। देश संकट की घड़ी से गुजर रहा है, सोचा पुराने लोगों से थोड़ी बातचीत कर लूं। 

ये फोन पर हुई उस बातचीत के शुरुआती अंश हैं जो शुक्रवार को जमशेदपुर के भाजपा के वरिष्ठ नेता महेश चंद्र शर्मा के साथ प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की हुई। प्रधानमंत्री मोदी ने 77 वर्षीय महेश चंद्र शर्मा से उनके स्वास्थ्य के बारे में पूछा। कोरोना से निबटने के लिए चल रही गतिविधियों की जानकारी ली। 

शुक्रवार को जुगसलाई निवासी महेश शर्मा के घर फोन की घंटी घनघनाई। रिसीव करने पर दूसरी ओर से कहा गया - आप महेश शर्मा जी के यहां से बोल रहे हैं। जवाब हां में मिलने पर कहा गया कि प्रधानमंत्री जी बात करना चाहते हैं। क्या आप बात करा सकते हैं। इसके बाद महेश शर्मा को फोन दिया गया। आप भी सुनें प्रधानमंत्री के साथ महेश शर्मा से हुई बातचीत :-

महेश शर्मा : हैलो, प्रणाम।

प्रधानमंत्री : प्रणाम, कैसे हैं महेश शर्मा जी। आपका स्वास्थ्य कैसा है?

महेश शर्मा : जी सब ठीक है।

प्रधानमंत्री : जी, कोई जरूरी काम नहीं था। देश संकट की घड़ी से गुजर रहा है। सोचा पुराने लोगों जिनके साथ काम किया है, बातचीत कर लूं।

महेश शर्मा : जी

प्रधानमंत्री : स्वास्थ्य कैसा है?

जी ठीक है, काम में लगे हैं।

प्रधानमंत्री : वहां लोगों के बीच से क्या निकल के आ रहा है।

महेश शर्मा : जी लोग संतुष्ट हैं। आपने जो आदेश दिया उसका पालन हो रहा है। 

प्रधानमंत्री : दुनिया में जो हुआ है, उसके मुकाबले हम देश को बचाने में सफल रहे हैं।

महेश शर्मा : जी बिल्कुल। नहीं तो देश की हालत काफी खराब हो जाती। क्वारंटाइन किए जाने की वजह से बच सके।

प्रधानमंत्री : हमारे पास उतने अस्पताल भी नहीं हैं। लोगों को थोड़ी परेशानी जरूर हो रही है। 

महेश शर्मा : जी, बिल्कुल सही कहा। हमारे कार्यकर्ता लगे हुए हैं। कुछ परेशानी तो स्वाभाविक है लेकिन सबकुछ तो नहीं मिल सकता। मैं खुद जनसंघ के समय से कार्य कर रहा हूं। हमेशा पार्टी व देश के लिए काम करता रहूंगा। 

प्रधानमंत्री : यानि लोगों में नाराजगी नहीं है।

महेश शर्मा : जी नहीं, नाराजगी बिल्कुल नहीं है। लोग यह कह रहे हैं कि आपने जो कर दिखाया वह कोई और नहीं कर सकता। मैने भी भवन को क्वारंटाइन के लिए दे रखा है। आज भी उसमें 37 लोग रह रहे हैं।

प्रधानमंत्री : जी ये बहुत अच्छा किया। आप जैसे लोगों के सहयोग से देश इस संकट से निकल जाएगा।

महेश शर्मा : जी बिल्कुल।

प्रधानमंत्री : चलिए ठीक है। ऐसे ही नमस्ते करने के लिए फोन किया था। अपने परिवार के स्वास्थ्य को संभालिए।

 एक साल पहले भी हुई थी मुलाकात : शर्मा

जमशेदपुर में गुरुजी के नाम से लोकप्रिय महेशचंद्र शर्मा ने बताया कि मोदी जी से संघ के समय से परिचय है। तब मैं राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ में सिंहभूम का बौद्धिक प्रभारी था। उसके बाद जनसंघ में आया। उसी दौरान बिष्टुपुर स्थित चैंबर भवन में जनसंघ की राष्ट्रीय कार्यसमिति बैठक हुई थी। उसमें मैं भोजन प्रभारी था।

उसमें भी मोदी से मुलाकात हुई, तो करीब एक साल पहले दिल्ली में वरिष्ठ कार्यकर्ता सम्मेलन हुआ था, जिसमें मैं झारखंड प्रतिनिधि के रूप में गया था। उस दौरान भी मोदी जी से मुलाकात हुई, तो यादें ताजा हो गईं। इन सबके बावजूद किसी प्रधानमंत्री का छोटे कार्यकर्ता को फोन करना बहुत बड़ी बात है।

मुझे पहले तो आश्चर्य हुआ, फिर बहुत प्रसन्नता भी हुई। मैं वैसे तो भाजपा और संघ के लगभग सभी बड़े नेताओं से मिला हूं, लेकिन मोदी जी की बात ही अलग है। छोटे-छोटे कार्यकर्ताओं को इस तरह कौन याद करता है। 

 

Posted By: Vikas Srivastava

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस