संवाद सूत्र मुसाबनी : जिला परिषद डाक बंगला में बुधवार को माझी पारगना माहाल मुसाबनी प्रखंड कमेटी की बैठक ग्राम प्रधान बिक्रम हांसदा की अध्यक्षता में हुई। जिसमें विभिन्न गांव व टोला के ग्राम प्रधान माझी बाबा उपस्थित थे। इस बैठक में मुख्य रूप से आदिवासी विकास समिति/ग्राम विकास समिति गठन को लेकर ग्राम प्रधानों ने,ग्राम प्रधानों और पारगानाओं के मानदेय के संबंध में, रेवेन्यू प्रोटेक्शन कानून का संशोधन के संबंध में,विद्यालय विलय के संबंध में चर्चा की गई। जिस पर ग्राम प्रधान बिक्रम हांसदा ने कहा कि राज्य सरकार ने आदिवासी विकास समिति/ग्राम विकास समिति का गठन करना गलत है। इस गठन से ग्रामीणों में मतभेद पैदा होगी। इसके बजाए ग्राम प्रधानों को ही विकास का फंड देना चाहिए। उन्होंने रेवेन्यू प्रोटेक्शन कानून का संशोधन का विरोध किया है। विद्यालय विलय को लेकर ग्राम प्रधान बिक्रम हांसदा ने कहा कि विद्यालयों को बंद कर सरकार आदिवासियों बच्चों को शिक्षा से वंचित करने की साजिश रच रही है। जिसका ग्राम प्रधान विरोध करते हैं। ग्राम प्रधान बिक्रम हांसदा ने कहा कि आदिवासी विकास समिति/ग्राम विकास समिति का विरोध करते हुए महामहिम राज्यपाल के नाम 2 अप्रैल को बीडीओ को ज्ञापन सौंपा गया था। लेकिन अभी तक इसका कोई जवाब नहीं आने से दोबारा ज्ञापन सौपने का निर्णय लिया गया है। इस अवसर पर ग्राम प्रधान प्रकाश सोरेन, कान्हू बास्के, छानु माझी, चंद्राय मुर्मू,धानु राम सोरेन, तार ¨सह मार्डी, भागीरथी सोरेन, जय प्रकाश मार्डी, दिवाकर हेम्ब्रम, सालखान किस्कु, चरण मुर्मू, रिसपाल हांसदा, गुरु चरण हांसदा, चितरंजन ¨सह आदि उपस्थित थे।

Edited By: Jagran