जमशेदपुर, जेएनएन। मुख्यमंत्री रघुवर दास के बेटे ललित दास की रविवार शाम सगाई हुई। सगाई समारोह का आयोजन टाटा-रांची राष्ट्रीय राजमार्ग स्थित होटल वेव इंटरनेशनल में किया गया। शादी छत्तीसगढ़ में हो रही है जहां के रघुवर दास मूल निवासी हैं। दास परिवार ने जिस लड़की को बहू के लिए चुना है वह रायपुर से है और उसका नाम पूर्णिमा कुमारी है। सगाई समारोह को लेकर मुख्यमंत्री जमशेदपुर में ही थे। पारिवारिक आयोजन से इतर उन्होंने आधा दिन सार्वजनिक जीवन में ही बिताया और लोगों के साथ सिदगोड़ा स्थित सूर्य मंदिर में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के मन की बात सुनी।

ललित दास।

बरात कब निकलेगी, इसकी जानकारी अभी साझा नहीं की गई है। लेकिन कयास लगाए जा रहे हैं कि जल्द ही शहनाई बजेगी। ललित ने बीआइटी मेसरा से पढ़ाई की है और टाटा स्टील में एचआरएम विभाग में असिस्टेंट मैनेजर हैं। वे सामाजिक कार्यों में भी बढ़-चढ़कर हिस्सा लेते हैं। वे सामाजिक संस्‍था लोक समर्पण के संयोजक हैं। ललित रघुवर दास की दो संतानों में छोटे हैं। उनकी एक बहन है जिसकी शादी हो चुकी है। बहन रेणु की शादी वर्ष 2007 में दुर्ग के पद्मनाभपुर में हुई थी। इनके दामाद यशपाल रायगढ़ में एक कंपनी में इंजीनियर हैं। 

छत्तीसगढ़ के हैं रघुवर दास

मां-पिता संग पूजा करते ललित दास। फाइल फोटो

झारखंड के पहले गैर आदिवासी मुख्यमंत्री का गौरव हासिल रखनेवाले रघुवर दास मूलरूप से छत्तीसगढ़ के निवासी हैं। साहू समाज के रघुवर दास छुरिया (बोइरडीह) के रहने वाले हैं। यहां उनकी पुश्तैनी जमीन थी। उनके पिता वर्ष 1979 में पूरी तरह से टाटानगर में शिफ्ट हो गए। उनके रिश्तेदार अभी भी यहां रहते हैं। रघुवर दास पांच भाई-बहन हैं। बीएससी और एलएलबी करने के बाद रघुवर दास टाटा स्टील कंपनी में पदस्थ थे। इसके बाद वह जेपी आंदोलन में कूद पड़े। झारखंड में इससे पहले जब भाजपा की सरकार थी, तब इन्हें उप मुख्यमंत्री बनाया गया था।

रघुवर दास की बेटी, दामाद और नाती।

चांडिल डैम में वोटिंग का आनंद लेते ललित दास। 

आइये देखिए कैसी है तैयारी

Posted By: Rakesh Ranjan

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप